बाजार में आई श्री कृष्‍ण गौशाला की गाय के गोबर से बनी राखी

कुंभ मेले में बनाई थी राखियां, उसके बाद आए खूब आर्डर

बाजार में आई श्री कृष्‍ण गौशाला की गाय के गोबर से बनी राखी

- Advertisement -

भाई-बहन के स्नेह का त्योहार रक्षाबंधन आने वाला है। बाजार रंग-बिरंगी राखियों से भरे हुए हैं। हर बहन अपने भाई के लिए सुंदर राखी की तलाश कर रही है। अगर आप बाजार में नजर दौड़ाएं तो आप के एक से बढ़कर एक राखियां मिल जाएंगी पर अगर आप इको फ्रेंडली राखी (Eco friendly rakhi) खरीदना चाहती है तो गाय के गोबर बना राखी भी बाजार में उपलब्ध है। पर्यावरण से जोड़ कर बनाई गई इस राखी की काफी डिमांड भी है। यह राखी बनाई है उत्तर प्रदेश के बिजनौर जिले की ‘श्री कृष्‍ण गौशाला’ ने। इस गौशाला में पर एनआरआई अल्‍का लहोती के नेतृत्‍व में ये अनोखा काम किया जा रहा है। अल्‍का इंडोनेशिया से नौकरी छोड़कर अपने पिता के साथ इस गौशाला में काम कर रही हैं।



यह भी पढ़ें: इस रक्षाबंधन अपनी बहन को दें ये ख़ास गिफ्ट, कम खर्च में है बेहतर ऑप्शन

अल्‍का बताती हैं कि वह जूना अखाड़ा से जुड़ी हुई है और इस साल कुंभ मेले में उन्होंने अपनी राखियों को दिखाया। वहां के संतों ने इस राखी की खूब तारीफ की और आम लोगों के लिए भी इसे बनाने की गुजारिश की। इसके बाद मैन्‍यूफैक्‍चरिंग एक्‍सपर्ट और उनके साथ इस विषय पर बातचीत की। बहुत जल्‍द उन्हें यूपी, कर्नाटक, उड़ीसा और उत्तराखंड से राखी बनाने के ऑर्डर आने लगे। अब रक्षाबंधन (Raksha Bandhan) पर हजारों राखियां बनाने के ऑर्डर आ रहे हैं।

अल्‍का ने बताया कि पहले उन्‍होंने कई अगल-अलग शेप और साइज में राखियां बनाई थीं और फिर उन्‍हें गाय के गोबर में रखने के बाद किसी अंधेरी ठंडी जगह पर रखा था। इनके सूखने के बाद इन पर इको-फ्रेंडली रंग और धागे लगाए गए और सजाया गया। अल्‍का कहती हैं कि उन्‍होंने राखी पर प्‍लास्टिक की जगह धागा इस्‍तेमाल किया है। वहीं चीनी राखियों की तुलना में हमारी राखी इको-फ्रेंडली है। इसे इस्‍तेमाल के बाद आसानी से नष्‍ट किया जा सकता है।


यह भी पढ़ें: यहां नहीं मनाया जाता रक्षाबंधन का त्योहार, 700 साल से चल रही परंपरा

गाय के गोबर से बनी राखियां आसानी से खराब हो जाती हैं इसलिए उनकी राखियों के निर्माण के आखिरी चरण तक पहुंच पाना बहुत मुश्किल था। हालांकि, वो लोग विशेषज्ञों के साथ मिलकर कोशिश करते रहे और तब कहीं जाकर राखी बनाने का काम पूरा हुआ। राखी को ठंडी जगह पर रखने से वो थोड़ी सख्‍त हो पाईं। ये राखियां किफायती दाम पर बाजार (market) में उपलब्‍ध हैं। अल्‍का कहती हैं कि अगर बाजार में कुछ राखियां बच जाती हैं तो उन्‍हें हम इको-फ्रेंडली राखियों को बढ़ावा देने के लिए फ्री में वितरित कर देंगें। श्री कृष्‍ण गौशाला का पर्यावरण को तोहफा गाय के गोबर से बनी राखी बनाने का ये अनोखा विचार खूब वायरल हो रहा है। इसके अलावा श्री कृष्‍ण गौशाला में गाय के गोबर से और भी कई चीजें बनाई जा रही हैं जैसे कि फूलों का गुलदस्‍ता, कीटाणुनाशक और गोमूत्र (गोमूत्र जिसे एक दवा माना जाता है)।

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

चंबा: सीने से बज रही थी सीटियां, डॉक्टरों ने फेफड़े से निकाली ये चीज

डिनर पार्टीः ध्वाला ने लगाए ठुमके, जयराम और सुरेश भारद्वाज ने डाली नाटी

नाहन: नाले में गिरी गाड़ी, एक युवक की मौत, दो घायल

विदेशों में आतंकवादी घटना में मरने वालों के आश्रितों को नौकरी देगी सरकार

मंडी एयरपोर्ट के रास्ते में कोई बाधा नहीं, दो सप्ताह में होगा एमओयू

हिमाचल में नहीं अवैध खनन का कारोबार, सिर्फ मिलती हैं शिकायतें

हिमाचल: SJVN लिमिटेड ने निकाली 230 अप्रेंटिस पदों पर भर्ती, बिना इंटरव्यू होगा चयन

हरिपुरधार में बर्फ में स्किड हुई बस , मची अफरा तफरी

मंडी के होटल से पुलिस ने चिट्टे के साथ धरे चार, नाबालिग भी  शामिल  

विस Live : आउटसोर्स से नियुक्तियों पर पुनर्विचार करेगी सरकार, लग सकती है रोक

कार की टक्कर से घायल हुए पुलिस जवान ने पीजीआई में तोड़ा दम

सानिया मिर्जा की बहन ने किया पूर्व क्रिकेटर अजहरुद्दीन के बेटे से दूसरा निकाह, देखें तस्वीरें

90 वर्षों के पश्चात माता पंचालिका का मंदिर की हुई प्रतिष्ठा

रावी में फंसा शराबी, आधे घंटे तक चला रेस्क्यू आपरेशन

धवाला बोले - मंत्री बनने की इच्छा मेरी भी, वैसे कईयों ने सिलवा लिए नए कोट

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है