Covid-19 Update

35,729
मामले (हिमाचल)
27,981
मरीज ठीक हुए
562
मौत
9,193,982
मामले (भारत)
59,814,192
मामले (दुनिया)

रूट परमिट हस्तांतरण का मामलाः प्राइवेट बस ऑपरेटर का हंगामा

रूट परमिट हस्तांतरण का मामलाः प्राइवेट बस ऑपरेटर का हंगामा

- Advertisement -

लेखराज धरटा/शिमला। क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय (Regional Transport Office) शिमला में आज हुई क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकरण की बैठक हंगामेदार रही। रूट परमिट हस्तांतरण मामला एजेंडे में न होने के चलते प्राइवेट बस ऑपरेटरों (Private Bus Operators) ने हंगामा खड़ा कर दिया और निदेशक परिवहन को खरी खोटी सुनाई। बता दें कि रूट परमिट हस्तांतरण संबंधी मामले हिमाचल प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय में लंबित पड़े हैं। निदेशक परिवहन कैप्टन जेएम पठानिया ने रूट परमिट हस्तांतरण पर रोक लगा दी है, जबकि पहले बसें एक ऑपरेटर से दूसरे ऑपरेटर को हस्तांतरित होती रही हैं। आज की बैठक में इस मामले पर कोई चर्चा नहीं हुई। इस कारण निजी बस ऑपरेटर में रोष व्याप्त है।

यह भी पढ़ें: बीड़-बिलिंग के सौंदर्यीकरण को प्लान तैयार, मार्ग पर बनेंगे व्यू प्वाइंट-दिए निर्देश

हिमाचल प्रदेश के सभी क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय में 143 मामले लंबित पड़े हैं, जिस पर कोई कार्रवाई नहीं हो रही है। शिमला के क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय में रूट परमिट (Route Permit) को लेकर क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकरण की बैठक (Meeting) आयोजित की गई थी। बैठक जब समाप्त हुई तो उन लोगों के सब्र का बांध टूट गया, जिन लोगों के रूट परमिट हस्तांतरित (Route Permit Transferred) होने थे।

शाम के समय निजी बस ऑपरेटर जिनके रूट परमिट हस्तांतरित होने थे, निदेशक परिवहन के कार्यालय में घुसे और रूट परमिट संबंधी मामले का निराकरण करने का आग्रह किया, लेकिन रूट परमिट हस्तांतरण संबंधी मामले एजेंडे में ही नहीं लगाए गए थे। निजी बस ऑपरेटरों ने वहां पर हंगामा खड़ा कर दिया और निदेशक परिवहन को खरी खोटी सुनाई।

यह भी पढ़ें: पांवटा में नशीले कैप्सूलों की खेप के साथ एक गिरफ्तार

 

उधर, हिमाचल प्रदेश निजी बस ऑपरेटर यूनियन के प्रदेश महासचिव रमेश कमल ने कहा है कि हिमाचल प्रदेश मोटर वाहन रूल की धारा 81 में प्रावधान है कि 37 नंबर फार्म पर खरीदने और बेचने वाले के संयुक्त हस्ताक्षर करके परमिट को बस सहित हस्तांतरित किया जा सकता है और यह प्रक्रिया पिछले 25 वर्षों से परिवहन विभाग में हो रही है।

उन्होंने कहा कि परिवहन विभाग की इस कार्रवाई से निजी बस ऑपरेटर परेशान हैं। दूसरी तरफ शिमला शहरी निजी बस ऑपरेटर यूनियन के प्रधान रोशन लाल का कहना है कि निदेशक परिवहन कैप्टन जेएम पठानिया द्वारा बिना मतलब से रूट परमिट हस्तांतरण पर रोक लगाई गई है, जोकि निजी बस ऑपरेटरों को परेशानी में डाल रहा है। उन्होंने कहा कि निजी बस ऑपरेटर का एक प्रतिनिधिमंडल शीघ्र ही सीएम जयराम ठाकुर से मिलेगा। इस समस्या का समाधान ढूंढने के लिए सीएम से आग्रह किया जाएगा।

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है