रिलायंस जियो ने की टेलिकॉम कंपनियों को डुबोने की तैयारी, मोदी सरकार को पत्र लिख कही ये बात

कहा- 'सीओएआई एयरटेल, वोडाफोन-आइडिया के लिए भोंपू की तरह काम कर रही

रिलायंस जियो ने की टेलिकॉम कंपनियों को डुबोने की तैयारी, मोदी सरकार को पत्र लिख कही ये बात

- Advertisement -

नई दिल्ली। रिलायंस जियो (Relaince Jio) ने सुप्रीम कोर्ट (SUpreme Court) के उस फैसले का विरोध किया है जिसमें दूरसंचार कंपनियों को करदाताओं की लागत पर राहत पैकेज (Relief package) दिए जाने के लिए कहा गया है। इसका विरोध जताते हुए जियो ने दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद (Telecom Minister Ravi Shankar Prasad) को पत्र लिख कहा है कि ‘जिन कंपनियों को सुप्रीम कोर्ट ने पुराना सरकारी बकाया चुकाने का आदेश दिया है, उसके लिए उनके पास पर्याप्‍त वित्‍तीय क्षमता है। जियो ने आरोप लगाया कि सीओएआई (COAI) एयरटेल व वोडाफोन-आइडिया (Airtel and Vodafone-Idea) कंपनियों के भोंपू की तरह काम कर रहा है और जियो के प्रति उसकी सोच नकारात्‍मक है। जियो ने दूरसंचार सेवाप्रदाता कंपनियों के संगठन सीओएआई पर सरकार को ब्‍लैकमेल (Blackmail) करने का आरोप लगाया है।



हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group… 

जियो (JIo) ने कहा है कि ‘अव्‍वल तो बाजार में पुरानी दो दूरसंचार सेवा प्रदाता कंपनियों के डूबने की कोई संभावना नहीं है, पर ऐसा हुआ तो भी इससे दूरसंचार क्षेत्र पर प्रतिकूल प्रभाव नहीं पड़ेगा क्‍योंकि प्रतिस्‍पर्धा के लिए सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियां मौजूद हैं और नए सेवाप्रदाताओं के बाजार में आने पर कोई प्रतिबंध नहीं है।’ जियो ने असहमति जताते हुए कहा है कि ‘वह दूरसंचार सेवाप्रदाता कंपनियों के संगठन सीओएआई (Cellular Operators Association) के इस तर्क से सहमत नहीं है कि सरकार की ओर से तत्‍काल राहत के अभाव में दूरसंचार क्षेत्र की कंपनियां डूब जाएंगी।’


हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें… 

 

पत्र में लिखा गया है- ‘फैसले से प्रभावित कंपनियां अपनी मौजूदा परिसंपत्तियों/निवेश को बाजार में बेचकर या किराए पर देकर और नए इक्विटी शेयर जारी कर सरकार के बकाए का भुगतान करने की पर्याप्‍त वित्‍तीय क्षमता रखती हैं। कंपनी ने कहा कि वह सीओएआई की इस दलील से असहमति जताती है कि तत्‍काल सरकार की ओर से किसी तरह की राहत देने के अभाव में इस समय निजी क्षेत्र की तीन में से दो कंपनियों को गंभीर वित्‍तीय संकट (Financial Crisis) का सामना करना पड़ेगा। इससे दूरसंचार क्षेत्र डूब जाएगा और इस क्षेत्र में अभूतपूर्व संकट खड़ा हो जाएगा।’

जियो ने सीओएआई (COAI ) पर आरोप लगाते हुए कहा है कि इससे कंपनियों में लोगों की नौकरी जाने, सेवा खराब होने और निवेश घटने का डर दिखाकर सरकार को ब्‍लैकमेल करने की कोशिश की जा रही है। जियो ने कहा कि खासकर सुप्रीम कोर्ट ने कंपनियों को बकाया चुकाने के लिए जब तीन माह का समय देने की बात सुझाई है तो सीओएआई की इस तरह की बातें कोर्ट की अवमानना के घेरे में आती है।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी Youtube Chennel… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

कुल्लूः लकड़ी के मकान में लगी आग, बाप-बेटा जिंदा जले

ब्रेकिंगः बीजेपी में पत्र बम को लेकर धूमल ने कही यह बड़ी बात-जानिए

देखें: व्यक्ति ने वीडियो बनाकर कटवाया बीजेपी MLA अनिल शर्मा की गाड़ी का चालान

हिमाचल में वन रक्षक के 113 पदों की भर्ती पर रोक, यह रहा कारण

सुंदरनगरः 16 साल की नाबालिग बनी मां, लड़की को दिया जन्म

जयराम ने अनुराग की मौजूदगी में निर्मला सीतारमण से हिमाचल के लिए मांगी ये स्वीकृति

नूरपुर : मंदिर के पास झरने में डूबी धर्मशाला की मां-बेटी, आईं थी मन्नत मांगने

सरकारी कंपनियों की खरीद-फरोख्त में वक्त गुजार रही मोदी सरकार : पाटिल

वीरभद्र बोले,राठौर पार्टी की मजबूती के लिए कार्य कर रहें है वह तारीफ योग्य

डीसी ऑफिस के बाहर फोरलेन ठेकेदारों का हल्ला बोल, मांगें न मानी तो शाम तक करेंगे चक्का जाम

राणा ने अनुराग से पूछा - ऊना से हमीरपुर तक कब पहुंचेगी रेल

जयराम की Modi से मुलाकात, सरकार के दो साल के जश्न में शामिल होने का दिया न्योता

बैक करते ही खाई में जा गिरी कार , पिता ने लगाई छलांग तो बेटे की गई जान

जम्मू-कश्मीर को दहलाने की नाकाम कोशिश : सेना ने खोज निकाला आईईडी, किया डिफ्यूज

शिमला : पुलिस ने पकड़ी नाबालिग गैंग, साढ़े सात लाख के गहने और 42 हजार की नकदी बरामद

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है