Covid-19 Update

43,500
मामले (हिमाचल)
34,555
मरीज ठीक हुए
698
मौत
9,608,418
मामले (भारत)
66,230,912
मामले (दुनिया)

#SJVN: 1320 मेगावाट के बक्सर ताप विद्युत संयंत्र के प्रथम बॉयलर की रखी आधारशिला

परियोजना शुरू होने के बाद 2400 लोगों को मिलेगा रोजगार

#SJVN: 1320 मेगावाट के बक्सर ताप विद्युत संयंत्र के प्रथम बॉयलर की रखी आधारशिला

- Advertisement -

शिमला/बक्सर। एसजेवीएन (SJVN) के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नंद लाल शर्मा ने बुधवार को वीडियो कॉन्फ्रेसिंग के माध्यम से 1320 मेगावाट बक्सर ताप विद्युत संयंत्र (Buxar Thermal Power Plant) चौसा, बक्सर बिहार के प्रथम बॉयलर की बुनियादी संरचना की आधारशिला रखी। उन्होंने परियोजना स्थल पर नवनिर्मित प्रशासनिक भवन का डिजिटली उद्घाटन भी किया। डिजिटल अनावरण समारोह के दौरान निदेशक (कार्मिक), गीता कपूर, निदेशक (सिविल), एसपी बंसल, निदेशक (वित्त), एके सिंह निदेशक (विद्युत), सुशील शर्मा भी इस अवसर पर उपस्थित थे तथा एसजेवीएन थर्मल प्राईवेट लिमिटेड के सीईओ, संजीव सूद तथा एसटीपीएल के अन्य वरिष्ठ अधिकारी परियोजना स्थल पर उपस्थित रहे। परियोजना का कार्यान्वयन एसजेवीएन लिमिटेड की पूर्णस्वामित्व वाली अधीनस्थ कंपनी एसजेवीएन थर्मल प्राईवेट लिमिटेड द्वारा किया जा रहा है।

 

 

परियोजना राज्य को उत्पादित विद्युत का कम से कम 85% प्रदान करेगी

नंद लाल शर्मा ने बताया कि परियोजना सुपर क्रिटिकल प्रौद्योगिकी, जीरो डिस्चार्ज संकल्पना के लिए क्लोज्ड़िर सायकल वाटर री-सर्कुलेशन प्रणाली पर आधारित है। परियोजना की प्रत्येक 660 मेगावाट की दो ईकाईयों के लिए दो बॉयलर स्थापित किए जाने है। स्टेट ट्रांसमिशन यूटिलिटी, बिहार ने पहले ही इस परियोजना के लिए विद्युत निकास प्रणाली को स्वीकृति प्रदान कर दी है। जनवरी, 2018 के मुल्य स्तर पर परियोजना की आकलित लागत 10,439 करोड़ रुपए है। नंद लाल शर्मा ने आगे कहा कि बिहार सरकार के साथ विद्युत खरीद समझौते के अनुसार परियोजना राज्य को उत्पादित विद्युत का कम से कम 85% प्रदान करेगी जो बिहार में विद्युत की मांग की आपूर्ति में सुधार करेगी। यह परियोजना बिहार के औद्योगिक विकास के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है जो रोजगार सृजन के लिए मल्टीप्लायर का काम करेगी और इसके परिणामस्वारूप लगभग 2400 व्यक्तियों को प्रत्यक्ष और अप्रत्यिक्ष रूप से रोजगार मिलेगा।

यह भी पढ़ें: महाराष्ट्र में CM पद के दावेदार रह चुके BJP नेता एकनाथ खडसे अब थामेंगे शरद पवार की पार्टी का दामन

परियोजना स्थल पर प्रशासनिक कार्यालय का उद्घाटन करते हुए शर्मा ने कहा कि यह परियोजना को समय पर पूरा करने की दिशा में सहायक सिद्ध होगा। यह परियोजना 2023 तक 5000 मेगावाट कंपनी, 2030 तक 12000 मेगावाट कंपनी तथा 2040 तक 25000 मेगावाट कंपनी बनने के एसजेवीएन के सांझा विज़न को प्राप्त करने की दिशा में एक महत्व पूर्ण कदम होगा। एसजेवीएन की वर्तमान स्थापित क्षमता 2016.51 मेगावाट है तथा 5674 मेगावाट की परियोजनाएं विकास के विभिन्न चरणों में है। एसजेवीएन की उपस्थिति विद्युत उत्पादन के विभिन्ना क्षेत्रों में हैं जिसमें जलविद्युत, पवन एवं सौर विद्युत शामिल है। कंपनी की उपस्थिति विद्युत ट्रांसमिशन के क्षेत्र में भी है।

 

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whatsapp Group 

 

 

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है