सुंदरनगर: पत्नी की हत्या के आरोप से पति बाइज्जत बरी, पढ़ें क्या था मामला

सुंदरनगर कोर्ट ने सुनाया फैसला: 2014 में कमरे में मिला था शव-पिता ने दर्ज करवाई थी प्राथमिकी

सुंदरनगर: पत्नी की हत्या के आरोप से पति बाइज्जत बरी, पढ़ें क्या था मामला

- Advertisement -

सुंदरनगर। मंडी के अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश-1 हंसराज ने सुंदरनगर सर्किट के दौरान पत्नी की हत्या (Murder) करने के मामले में पति को साक्ष्यों के अभाव में बाइज्जत बरी कर दिया है। जानकारी देते हुए बचाव पक्ष के एडवोकेट हर्ष राणा ने कहा कि मामले में आरोपी बलदेव सिंह निवासी गांव कंदार के खिलाफ सुंदरनगर पुलिस थाना (Sundernagar Police Station) में उसकी पत्नी की हत्या करने को लेकर वर्ष 2014 में प्राथमिकी दर्ज हुई थी।


यह भी पढ़ें: नैना देवी दर्शन कर वापस जा रहे श्रद्धालुओं से भरा ट्रक सड़क पर पलटा

 

उन्होंने बताया कि प्राथमिकी में सुनीता देवी के पिता कश्मीर सिंह ने अपने जमाई बलदेव सिंह पर उसकी बेटी की गला दबाकर व मारपीट कर निर्मम हत्या करने को लेकर आरोप लगाए गए थे।

क्या था मामला

कश्मीर सिंह ने प्राथमिकी में कहा था कि उसकी बेटी सुनीता का विवाह वर्ष 2006 में सुंदरनगर उपमंडल के कंदार निवासी बलदेव सिंह से हिंदू रितिवाज के अनुसार हुआ था। शादी से पहले उसकी बेटी (Daughter) को दिल की बीमारी थी और इसका ईलाज पीजीआई चंडीगढ़ (PGI Chandigarh) में करवाया गया था। इस बारे में रिश्ते के समय उसके दमाद बलदेव को बता दिया गया था। कश्मीर सिंह की बेटी सुनीता ज्यादा काम करने में असमर्थ थी, जिस कारण बलदेव सिंह उसके साथ मारपीट करता था। कश्मीर सिंह के अनुसार 9 सिंतबर, 2014 को उसकी बेटी ने फोन पर उन्हें बीमार व उसके हालात ठीक नहीं होने के बारे में बताया गया।

वहीं 10 सिंतबर, 2014 को सुनीता के बीमार होने को लेकर बलदेव सिंह द्वारा भी कश्मीर सिंह को बताया गया। इस पर कश्मीर सिंह व अन्य रिश्तेदार सुबह अपनी बेटी के ससुराल जड़ोल पहुंच गए, लेकिन वहां पर उन्होंने अपनी बेटी का शव कमरे के फर्श पर पड़ा हुआ देखकर होश उड़ गए। कश्मीर सिंह के अनुसार महिला सुनीता के शव पर मारपीट के कारण ताजा चोट के निशान से खून बह रहा था। इस पर घटना की प्रथम सूचना पुलिस पोस्ट सलापड़ को दी गई, जिस पर सुंदरनगर पुलिस टीम ने एएसआई रामलाल के नेतृत्व में जड़ोल में आकर कार्रवाई शुरू कर दी।

पुलिस ने महिला सुनीता के पिता कश्मीर सिंह के बयान के आधार पर बलदेव सिंह के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 302 में हत्या करने का मामला दर्ज कर लिया गया था। एडवोकेट हर्ष राणा ने कहा कि अभियोजन पक्ष की ओर से अदालत में आरोपी के खिलाफ केस सिद्ध करने के लिए 18 गवाह पेश किए गए। उन्होंने कहा कि दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने के पश्चात अदालत ने आरोपी बलदेव सिंह को सबूतों के अभाव में बाइज्जत बरी करने का फैसला सुनाया है।

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

शिमला: अगले पांच दिन फिर सताएगा मौसम, इस दिन होगी भारी बारिश

मानसून सत्रः सरवीण चौधरी और मुकेश अग्निहोत्री में तीखी नोकझोंक

बद्दी में तैनात सहायक ड्रग कंट्रोलर के आवास पर 5 घंटे से विजिलेंस रेड जारी

हिमाचलः बीजेपी संगठनात्मक चुनाव का बजा बिगुल, 11 सितंबर से होंगे शुरू

हिमाचल में बनेगी ई-वाहन नीति, पहली इलेक्ट्रिक कार में सफर करेंगे जयराम

हिमाचलः 2 अक्टूबर को एक साथ एक लाख लोग बीपीएल सूची से होंगे आउट

बुजुर्ग की फरियादः साहब ! मुझे मेरे परिवार से बचाओ, डंडे से करते हैं पिटाई

बच्चा चोर गिरोह समझ तीन नकली किन्नरों की लोगों ने की जमकर धुनाई

बीडीओ ने नहीं दिया स्वीकृति पत्र, चलवाड़ा पंचायत में 60 बैग सरकारी सीमेंट बना पत्थर

स्वास्थ्य विभाग में करुणामूलक आधार पर नियुक्ति पर क्या बोली सरकार-जानिए

पेरिस में बोले मोदी, गांधी के देश में टेंपरेरी के लिए कोई जगह नहीं

गहरी खाई में गिरा आर्मी का ट्रक, महार रेजिमेंट के एक जवान की मौत, 3 घायल

सुक्खू बोले-विधायक वेबसाइट में डालें संपत्ति का ब्यौरा, सरकार लाए बिल

कांग्रेस के विधायक हर्षवर्धन चौहान ने क्यों मांगी सदन में माफी-जानिए

बिग ब्रेकिंगः पैट का इंतजार खत्म, 14 अक्टूबर को होगी सुप्रीम कोर्ट में अंतिम सुनवाई

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है