सावड़ा-कुडडू जल विद्युत परियोजना की टेस्टिंग शुरू, जल्द शुरू होगा बिजली का उत्पादन

इस परियोजना से 386 मिलियन यूनिट प्रतिवर्ष विद्युत उत्पादन होगा

सावड़ा-कुडडू जल विद्युत परियोजना की टेस्टिंग शुरू, जल्द शुरू होगा बिजली का उत्पादन

- Advertisement -

शिमला। हिमाचल प्रदेश पावॅर कार्पोरेशन लिमिटेड (Himachal Pradesh Powar Corporation Limited) द्वारा शिमला जिले में पब्बर नदी पर बनाई जा रही 111 मेगावॉट की सावड़ा कुडडू जल विद्युत परियोजना के प्रारम्भिक जल भराव का कार्य (Functioning of initial water supply) शुरू कर दिया गया है। गुरुवार को हिमाचल प्रदेश पॉवर कारर्पोरेशन के प्रबंध निदेशक देवेश कुमार ने बटन दबाकर परियोजना के प्रारम्भिक जल भराव का कार्य आरम्भ किया। बता दें कि इस परियोजना से 386 मिलियन यूनिट प्रतिवर्ष विद्युत उत्पादन होगा। परियोजना में 11.365 किलोमीटर लम्बी, 5 मीटर व्यास की भूमिगत सुंरग और 37 मेगावाट की 3 फ्रांसिस टरबाइनस (France turbine) लगाई गई हैं।


यह भी पढ़ें- 7वां वेतन आयोग: इन सरकारी कर्मचारियों की सैलरी के अलावा खाते में आएंगे 21 हजार, जानें

बताया गया कि इस परियोजना के बैराज का प्रारम्भिक जल भराव लगातार 15 दिनों तक किया जाएगा। पहले 8 दिनों तक क्र्रमबध तरीके से जल भराव के पश्चात 24 घण्टों तक निरीक्षण (inspection) किया जाएगा। इसके उपरान्त बैराज को इसी क्रमबद्व तरीके से धीरे-धीरे खाली किया जाएगा। इस दौरान बैराज के हाइड्रोलिक व्यवहार एवं हाइड्रो-मेकेनिकल भाग का भी परीक्षण होगा। इस परियोजना के बैराज का जल भराव परियोजना निर्माण के लिए एक महत्वपूर्ण पड़ाव है। यह परियोजना निर्माण के अंतिम स्तर पर है और बैराज के जल भराव व परीक्षण के बाद शीघ्र ही इस परियोजना को शुरू कर दिया जाएगा। उन्होंने इस महत्वपूर्ण उपलब्धि के लिए हिमाचल प्रदेश पावॅर कार्पोरेशन के सभी अधिकारियों एवं कर्मचारियों को बधाई दी।

यह भी पढ़ें: कांगड़ा में संवेदनशील सरकारी तथा निजी भवनों तुरंत करवाएं खाली

परियोजना के बैराज निर्माण का कार्य पटैल कन्सट्रक्शन कम्पनी और सुरंग निर्माण का कार्य आबान कोस्टल जॉइंट वेंचर को जून 2007 में आबंटित किया गया था। इस परियोजना के बैराज एवं पावॅर हाउस का कार्य पूर्ण हो गया था लेकिन मुख्य सुरंग निर्माण में अबान कोस्टल जॉइंट वेंचर की लचर कार्य प्रणाली के कारण इस कंपनी के साथ समझौता जनवरी 2014 में निरस्त कर दिया गया था।

शेष बचे भूमिगत सुरंग के निर्माण कार्य का करार नवम्बर 2014 में हिन्दुस्तान कन्सट्रक्शन कम्पनी के साथ किया गया। इस परियोजना के प्रत्येक प्रभावित परिवार को 100 यूनिट बिजली प्रति माह 10 वर्षों के लिए मुफ्त में दी जाएगी। इसके अलावा परियोजना से होने वाली आय की 1 प्रतिशत राशी भूमि विकास प्राधिकरण फण्ड के अन्र्तगत परियोजना प्रभावितों को दी जाएगी।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

वीडियो : कांग्रेस के रोष प्रदर्शन में "रविंद्र रवि की बल्ले-बल्ले," सुधीर की अगुवाई में हुए जय हिंद

एसडीएम ने दी दबिश तो जंगल की तरफ भागे खनन में जुटे लोग

कार-स्कूटी की टक्कर में एक की मौत,कार चालक के खिलाफ कार्रवाई शुरू

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने किया सोलन में राधा कृष्ण मंदिर का लोकार्पण

आसमानी बिजली गिरने से 17 लोगों की मौत, कई गंभीर जख्मी

सोलन में पठानकोट निवासी से बरामद हुआ चिट्टा

भारत को जीएसपी दर्जा वापस दिलवाने के लिए 44 अमेरिकी सांसदों ने ट्रंप को लिखा खत

पठानकोटः छात्राओं के अपहरण की कोशिश, जसूर के दो युवकों सहित 4 धरे

महिला की आपत्तिजनक तस्वीरें खींच किया दुष्कर्म, फिर इंटरनेट पर कर दीं अपलोड

23 तक खराब रहेगा मौसम, इन दिनों में होगी भारी बारिश

इन कर्मचारियों का भी 4 फीसदी बढ़ा महंगाई भत्ता, लगी मुहर

पुलिस विभाग के 88 एएसआई बने सब इंस्पेक्टर, आदेश जारी

ब्रेकिंगः जूनियर ऑफिस असिस्टेंट पोस्ट कोड 556 का संशोधित रिजल्ट आउट

हाईकोर्ट का इंडियन टेक्नोमैक कंपनी की संपत्ति नीलामी पर रोक से इंकार

ब्रेकिंगः 23 पुलिस कर्मचारियों के तबादले, कौन कहां भेजा-जानिए

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है