Covid-19 Update

36,566
मामले (हिमाचल)
28,080
मरीज ठीक हुए
575
मौत
9,257,945
मामले (भारत)
60,416,976
मामले (दुनिया)

ये है दुनिया का सबसे महंगा कबूतर, हजारों-लाखों नहीं करोड़ों में है कीमत

इसे खरीदने के लिए दो चीनी नागरिकों ने लगाईं बोलियां

ये है दुनिया का सबसे महंगा कबूतर, हजारों-लाखों नहीं करोड़ों में है कीमत

- Advertisement -

यूं तो दुनिया में हर चीज का दाम अलग-अलग है लेकिन आपने कभी सोचा है कि मामूली से दिखने वाले एक कबूतर (Pigeon) की कीमत कितनी हो सकती है। जिस कबूतर की तस्वीर आप देख रहे हैं ये कोई हजारों-लाखों नहीं बल्कि करोड़ों की कीमत वाला है। इस कबूतर की कीमत इतनी है जिसमें आप दिल्ली या मुंबई में 1-1 करोड़ के एक दर्जन फ्लैट खरीद सकते हैं। ये कोई आम कबूतर नहीं है जो कभी भी आपकी बालकनी में आकर बैठे और गुटर गूं करें ये कबूतर अपनी प्रजाति का सबसे तेज उड़ने वाला कबूतर है। हाल ही में हुई एक नीलामी (Auction) इसे 14 करोड़ रुपए से ज्यादा में खरीदा गया है।

यह भी पढ़ें :- #Video : शैतान जैसा दिखने को इस शख्स ने कटवाए कान और जीभ, पहली बार देखकर किसी के भी उड़ जाएंगे होश

 

इस कबूतर का नाम है ‘न्यू किम’। बेल्जियन प्रजाति का यह कबूतर 14.14 करोड़ रुपए में बिका है। इसको रईस चीनी ने बेल्जियम के हाले स्थित पीपा पीजन सेंटर में हुई नीलामी के दौरान खरीदा। इसे खरीदने के लिए दो चीनी नागरिकों ने बोलियां लगाईं। दोनों ने अपनी पहचान का खुलासा नहीं किया है। ये दोनों चीनी नागरिक सुपर डुपर और हिटमैन के नाम से बोलियां लगा रहे थे। हिटमैन ने न्यू किम के लिए पहले बोली लगाई बाद में सुपर डुपर ने। सुपर डुपर ने 1.9 मिलियन यूएस डॉलर यानी 14.14 करोड़ रुपयों की बोली लगाकर ये कबूतर अपने नाम कर लिया।

 

 

कुछ लोगों का मानना है कि ये दोनों चीनी नागरिक एक ही आदमी था। इस नीलामी में वो परिवार भी मौजूद था जो इन कबूतरों को रेसिंग (Racing) और तेज उड़ने की ट्रेनिंग देता है। उन्हें पाल-पोस कर इस लायक करता है। 76 वर्षीय गैस्टन वान डे वुवर और उनके बेटे रेसिंग कबूतरों को पालते-पोसते हैं। इस नीलामी में 445 कबूतर आए थे। इस नीलामी में बिके कबूतरों और अन्य पक्षियों से कुल 52.15 करोड़ रुपयों की कमाई हुई है। न्यू किम जैसे रेसिंग कबूतर 15 साल तक जी सकते हैं। ये रेस में भाग लेते हैं। इन कबूतरों पर ऑनलाइन सट्टे भी लगते हैं। आजकल इन कबूतरों के जरिए चीन और यूरोपीय देशों के रईस अपने पैसे कई गुना बढ़ाते हैं और गंवाते भी हैं। यूरोप और चीन में अलग-अलग स्तर के रेस का आयोजन किया जाता है। इन रेस को जीतने वाले कबूतरों से मिलने वाले लाभ की राशि को उन लोगों में बांटा जाता है जो उस पर पैसा लगाते हैं। ये एकदम घोड़ों के रेस जैसा होता है।

 

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है