पिछले 30 साल से महिला के वेश में है ये आदमी, मरी हुई पत्नी है कारण

पत्नी को दिया था धोखा, सपने में आकर रोती थी

पिछले 30 साल से महिला के वेश में है ये आदमी, मरी हुई पत्नी है कारण

- Advertisement -

नई दिल्ली। अपने कई लोगों की कहानियां (Stories) सुनी होंगी जिन्हे औरतों की रहना उनकी तरह सजना अच्छा लगता है लेकिन आज हम आपको जिस मामले के बारे में बताने जा रहे हैं उसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे। इस शख्स की कहानी किसी हॉरर कहानी (Horror Story) से कम नहीं है। यह शख्स पिछले 30 साल से महिला की तरह सौलह श्रृंगार किए हुए रहता है। इस बात का रहस्य उसकी मरी हुई पत्नी से जुड़ा हुआ है जानें क्या है वो कहानी।


जलालपुर क्षेत्र के हौज खास गांव निवासी 66 वर्षीय वृद्ध चिंताहरण चौहान उर्फ करिया के माता-पिता ने 14 साल की उम्र में ही उनकी शादी कर दी। विवाह के कुछ दिन बाद जीवन साथी ने साथ छोड़ दिया। इसके बाद वह 21 वर्ष की उम्र में चिंताहरण ईंट भट्ठे पर काम करने के लिए कोलकाता के पश्चिम दिनाजपुर चले गए। जहां इन्हें कई भट्टों के मजदूरों के भोजन के सामान की खरीदारी की जिम्मेदारी मिली। वहां एक बंगाली की राशन की दुकान से नियमित सामान खरीदते थे। धीरे-धीरे दुकानदार से बातचीत बढ़ी और दुकानदार ने 25 साल की अवस्था में चिंताहरण से अपनी पुत्री के विवाह (Marriage) का प्रस्ताव रखा। उन्होंने बिना सोचे समझे बंगाली लड़की से विवाह रचा लिया। यही निर्णय उनके जी का जंजाल बन गया।

जब शादी के बारे में चिंताहरण के परिवारवालों पता लगा तो उन्होंने इसका विरोध किया। अपनों की नाराजगी से बचने के लिए वह बिना बताए बंगाली पत्नी को छोड़कर घर भाग आए। उधर, बंगाली परिवार को चिंताहरण के घर का कोई पता नहीं था। पति के धोखे को पत्नी बर्दाश्त नहीं कर सकी और उसने आत्महत्या कर ली। एक साल बाद गलती का एहसास होने पर चिंताहरण जब वापस कोलकाता गए तो उनको पता चला कि पत्नी ने उनके वियोग में आत्महत्या कर ली।

उसके बाद घर वापस लौट आए। कुछ दिन बाद परिवारवालों ने तीसरी शादी कर दी और यहीं से समस्याओं का सिलसिला शुरू हो गया। शादी के कुछ ही दिन बाद चिंताहरण स्वयं बीमार पड़ गए। घर के सदस्यों के मरने का सिलसिला जारी हो गया। चिंताहरण ने बताया कि पिता राम जियावन, बड़ा भाई छोटाऊ, उसकी पत्नी इंद्रावती तथा उसके दो पुत्र, छोटा भाई बड़ाऊ तथा तीसरी पत्नी से तीन पुत्री व चार पुत्रों की मौत का सिलसिला एक के बाद एक कर चलता रहा।

चिंताहरण ने बताया कि अक्सर उसके सपने में बंगालन पत्नी आती थी। जो चिंताहरण से मिले धोखे पर खूब रोती थी। उन्होंने कहा कि अपनों की लगातार हो रही मौत से मैं टूट चुका था। एक दिन अपने में बंगालन पत्नी आई तो मैं इस पत्नी को बख्श देने के लिए गुहार लगाई। इसके बाद उसने स्वप्न में ही कहा कि मुझे सोलहों श्रृंगार के रूप में अपने साथ रखो तब सबको छोड़ दूंगी। उसकी बात मानकर व खौफ से भयभीत होकर आज 30 साल से सोलहों श्रृंगार करके स्त्री के रूप में जी रहा हूं। आप भले ही इसे अंधविश्वास कहें लेकिन चिंताहरण को पूरा विश्वास है कि नारी वेश धारण करने के बाद से वह शारीरिक रूप से स्वस्थ हो गए। घर में मौत का सिलसिला भी बंद हो गया।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें… 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

शिमला: टीचर को नहीं मिले प्रश्नों के उत्तर, तो ऐसा मारा कि टूट गई बच्ची की बाजू

पंचायती राज उपचुनाव के लिए सात बजे से शुरू हुआ मतदान

मंडी में बड़ा हादसा: नदी में गिरी कार, चंबा के 3 लोगों की मौत, तीन गंभीर

ऊना : हादसे में टांगे खोने के बाद भी नहीं टूटी हिम्मत, ऐसे परिवार को पाल रहे हैं विशन दास

धर्मशालाः अर्धनग्न अवस्था में सड़क किनारे बेहोश मिली दिल्ली की महिला

जयराम सरकार ने दो एचएएस बदले, मनोज चौहान होंगे एडीएम प्रोटोकोल

सड़क से नीचे लुढ़की कार, 9 माह के बच्चे की मौत - चार घायल

एयर इंडिया की कांगड़ा एयरपोर्ट से चंडीगढ़ के लिए हवाई सेवा शुरू, ऐसे हुआ स्वागत

राहतः निर्माणाधीन रोहतांग सुरंग से गुजरेगी एचआरटीसी की बस, मिली मंजूरी

महिला क्रूरता मामले में पुलिस पर उठ रहे सवालों पर क्या बोले एसपी मंडी-पढ़ें

मुंबई और हैदराबाद में मिल जाता है शिमला से साफ पानी, केंद्र ने जारी की पानी की रैंकिंग, देखें

मनाली पहुंचे मध्‍य प्रदेश के सीएम कमलनाथ, मनाएंगे जन्मदिन

हिमाचल: नहीं थम रहा रंगड़ों का आतंक, एक और व्यक्ति की गई जान

दिल्ली हाईकोर्ट का आदेश, आईआईटी कैंपस में चल रहे प्राइवेट स्कूल होंगे बंद

हमीरपुरः तेंदुए की खाल के साथ दो गिरफ्तार, तीन दिन के रिमांड पर भेजे

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है