‘वेस्ट टू टेस्ट कैफे’ योजना से कबाड़ उठाने वाले भी रेस्तंरा के व्यंजनों का लेंगे आनंद

कचरे की समस्या से निपटने की अनूठी पहल, गोविंद ठाकुर ने कुल्लू से की शुरूआत

‘वेस्ट टू टेस्ट कैफे’ योजना से कबाड़ उठाने वाले भी रेस्तंरा के व्यंजनों का लेंगे आनंद

- Advertisement -

कुल्लू। वन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर (Govind Singh Thakur) ने कुल्लू शहर (Kullu City) को स्वच्छ बनाने के लिए “वेस्ट-टू-टेस्ट कैफे” (West to Test Cafe) एक अनुपम योजना का शुभारंभ किया। योजना का क्रियान्वयन नगर परिषद कुल्लू द्वारा किया जाएगा। इस अवसर पर वन मंत्री ने जिला प्रशासन की सराहना करते हुए कहा कि स्वच्छता के क्षेत्र में यह सचमुच एक अनूठी पहल है और कुल्लू शहर में मोटा कचरा यानि प्लास्टिक, शीशा, गत्ता, लोहा इत्यादि लोगों से प्राप्त करके इसका रिसाइक्लिंग से पुनः सदुपयोग हो सकेगा। योजना की विशेषता है कि गरीब व्यक्ति भी घर अथवा अन्य घरों से कबाड़ व कचरा एकत्र कर अच्छे रेस्तरां (restaurant) में विभिन्न प्रकार के व्यंजनों का परिवार सहित आनंद उठा सकेंगे।


यह भी पढ़ें: व्यापारी कर रहा था किसानों से मोलभाव, मटर से भरी जीप लुढ़क गई खाई में

गोविंद सिंह ठाकुर ने शहर के लोगों से अपील की है कि वे योजना के तहत अनुपयोगी वस्तुओं अथवा कचरे को सरवरी स्थित मटिरियल रिकवरी सुविधा (एमआरएफ) केन्द्र में नगर परिषद को सौंपे। इससे कुल्लू शहर को साफ.सुथरा बनाने में निश्चित तौर पर मदद मिलेगी। योजना की सफलता के बाद इसे साथ लगते उप-नगरों में भी क्रियान्वित किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि एक बूटा बेटी के नाम योजना के तहत बेटी के जन्म पर पांच पौधे वन विभाग द्वारा उपलब्ध करवाए जा रहे हैं और जब बेटी पांच वर्ष की हो जाए और पौधे जीवित रहे तो बेटी के नाम सरकार पांच हजार रूपये की राशि जमा करवाएगी। मंत्री ने इस अवसर पर 15 लोगों को कूपन वितरित किए जिन्होंने एमआरएफ में कचरा जमा करवाया। उन्होंने नगर परिषद, जिला प्रशासन सभी से अपील की कि वे योजना की शुरूआत अपने घरों से करें और दूसरों के लिए प्रेरणा बनें।


क्या है ‘वेस्ट-टू-टेस्ट कैफे’ योजना

योजना की जानकारी देते हुए उपायुक्त डॅा. ऋचा वर्मा ने बताया कि व्यंजनों में कॉफी, सिड्डू, आइसक्रीम, पिज्जा, बर्गर एवं परिवार के चार सदस्यों को शानदार डिनर का प्रावधान किया जाएगा। मुफ्त कूपन धारक व्यक्ति को ये व्यंजन कुबेर फॉस्ट फूड, ज्ञानी आईस क्रीम, बुक कैफे और सिटी च्वाईस होटल से उपलब्ध करवाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि कॉफी के लिए तीन किलो कांच, आधा किलो प्लास्टिक, दो किलो गत्ता व एक किलो ई-वेस्ट में से कोई एक वस्तु जमा करवानी होगी। बर्गर सिड्डु व मोमो के लिए चार किलो कांच, एक किलो प्लास्टिक, तीन किलो गत्ता व दो किलो ई.वेस्ट में से कोई एक वस्तु, लंच अथवा सैण्डविच्च के लिए ये वस्तुएं क्रमशः पांच किलो, डेढ किलो, चार किलो व तीन किलो में कोई एक जमा करवानी होगी। इसी प्रकार परिवार सहित रात्रि भोज के लिए 10 किलो कांच अथवा, तीन किलो प्लास्टिक अथवा सात किलो गत्ता अथवा छः किलो ई.कचरा देना होगा।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

सलौणी में टैंकर और स्कूटी की टक्कर में एक की मौत, एक घायल

जवालीः करोड़ों के फर्जीवाड़े मामले में तीन कंपनियों सहित पांच लोगों पर एफआईआर

अलर्ट: हिमाचल में निर्मित इन 6 जरूरी दवाओं के सैंपल हुए फेल, खरीदने की गलती मत करना!

वीडियो: मंडी के सरकारी स्कूल में मिड डे मील के दौरान जातीय भेदभाव, मामला दर्ज

मंडीः घर निर्माण में लगाया जा रहा था सरकारी सीमेंट, महिला सहित दो पर एफआईआर

बिक्रम ठाकुर का इन्वेस्टर मीट में गड़बड़ियों से इनकार, बताया कितना हुआ खर्च

जयराम का वार-इन्वेस्टर मीट से अधिक तो कांग्रेस ने मिट्टी हटाने पर ही खर्च डाले

खुशखबरी: HPPSC ने निकाली स्कूल लेक्चरर के 396 पदों पर वैकेंसी, पुराने आवेदकों के लिए सूचना

हिमाचल: भारी बारिश-बर्फबारी की चेतावनी के बीच सात जिलों में येलो अलर्ट जारी

प्रश्नकालः कांगड़ा हवाई अड्डा विस्तारीकरण, पौंग विस्थापित मामले में क्या बोली सरकार

"खाने में हम साझेदार" तस्वीरों-Video में देखें विधानसभा सदन के बाहर के नजारे

इन्वेस्टर्स मीट को लेकर विपक्ष के बखेड़े के बीच संयुक्त अरब अमीरात का एक पत्र आया सामने

जयराम की जोरदार चोट, बोले - नेता प्रतिपक्ष को सीट बेल्ट बांधकर सदन में आना चाहिए

राजनीतिक जीवन में पहली बार देखा महंगाई का ऐसा रौद्र रूप : वीरभद्र सिंह

Breaking : बैटरी लैड बनाने वाले उद्योग में आग, 60 लाख का नुकसान

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है