Covid-19 Update

3371
मामले (हिमाचल)
2185
मरीज ठीक हुए
13
मौत
2,212,429
मामले (भारत)
19,919,752
मामले (दुनिया)

आत्मनिर्भरता की मिसालः यहां वीरान जंगलों में पशुधन के साथ कटती जिंदगी

सही ढंग से हो सके पशु पालन इसलिए जंगलों के बीच बिताते हैं छह महीने

आत्मनिर्भरता की मिसालः यहां वीरान जंगलों में पशुधन के साथ कटती जिंदगी

- Advertisement -

वीरेंद्र भारद्वाज/मंडी। आधुनिकता के इस दौर में हर कोई सुख-सुविधा के साथ जिंदगी जीना चाहता है। जरा सोचिए कि अगर आपको छह महीने बिना किसी सुख-सुविधा के वीरान जंगलों के बीच बिताने पड़ें तो। शायद आप इस बात के लिए कभी तैयार नहीं होंगे। लेकिन मंडी जिला के कुछ पशुपालक छह महीने विकट परिस्थितियों में गुजारकर आत्मनिर्भरता की अनूठी मिसाल पेश करते हैं।



ये हैं शख्स है मोहम्मद इसराईल। मूलतः मंडी जिला के द्रंग विधानसभा क्षेत्र की घ्राण पंचायत के रहने वाले मोहम्मद इसराईल भैंस पालन का काम करते हैं। गर्मियों के मौसम में जब इनके गांव में चारे की कमी होने लग जाती है तो यह अपने दर्जनों पशुओं के साथ अपने घर से कोसों दूर पराशर की वादियों का रूख कर लेते हैं। यहां इनकी जिंदगी कटती है पत्थर, मिट्टी और लकड़ी से बनाए डेरों में। मोहम्मद इसराईल बताते हैं कि उन्हें 6 महीनों तक अपने परिवार से दूर रहना पड़ता है और जंगल के बीच रहने पर हर वक्त खतरा भी बना रहता है। कई बार जंगली जानवर पशुओं को नुकसान पहुंचाते हैं लेकिन कभी किसी इंसान के साथ ऐसी घटना नहीं हुई है।


मोहम्मद इसराईल और इसी तरह से यहां रहने वाले अन्य पशुपालक रोजाना दूध उत्पादन करते हैं और उसका दही, पनीर, खोया, मक्खन और घी बनाकर अपना रोजगार चलाते हैं। दूध से बने उत्पादों को बेचने के लिए मंडी शहर भेजा जाता है। हालांकि पराशर की तरफ घूमने के लिए आने वाले पर्यटक बड़ी संख्या में खुद ही यहां से इन उत्पादों को खरीद कर ले जाते हैं लेकिन इस बार लॉक डाउन के कारण पर्यटक नहीं आ रहे, जिस कारण इन्हें थोड़ा नुकसान झेलना पड़ रहा है।

वहीं वन विभाग इस वर्ग को वन प्रबंधन का अहम हिस्सा मानता है। वन मंडल मंडी की बात करें तो यहां 35 डेरों के लिए परमिट जारी हुए हैं जहां पर सरकार की तरफ से बिजली का प्रबंध भी कर दिया गया है। इनसे 2 रूपए प्रति पशु की दर से नाममात्र का किराया लिया जाता है। डीएफओ मंडी एसएस कश्यप बताते हैं कि यह वर्ग हर वर्ष जब अपने पशुओं के साथ वीरान जंगलों में पहुंचता है तो वहां के जंगलों में नई जान पड़ जाती है। पशुओं के पैरों से मिट्टी की खुदाई हो जाती है और गोबर की खाद मिल जाती है, जिससे जंगलों के संवर्धन में काफी ज्यादा मदद मिलती है।

यह वर्ग पूरी आत्मनिर्भरता के साथ अपना जीवन यापन करता है। जहां यह खुद की आजिविका कमाते हैं वहीं वनों के संरक्षण और संवर्धन में भी अपना अहम योगदान निभाते हैं। यह वो वर्ग है जिसके बारे में समाज को शायद ज्यादा जानकारी नहीं, लेकिन इनके काम और जज्बे को सलाम है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Private Hospital में महिला की मौत, गुस्साए परिजनों ने किया हंगामा, लापरवाही से जान लेने का आरोप

सोलन: BBN के प्रदूषण को कंट्रोल करेंगे छोटे वन, कसंबोवाल से शुरू हुई लघु वन योजना

Kangra: जंगल में मिला हैंड ग्रेनेड, इलाका सील- बम निरोधक दस्ता बुलाया

 इस देश में पिछले 100 दिनों से Community Transmission नहीं आया कोई  भी Case

Corona Update: एक स्वास्थ्य और तीन पुलिस कर्मियों सहित आज 107 पॉजिटिव, दो आर्मी जवान भी संक्रमित

करुणामूलक आधार पर नौकरी में हटे आय का दायरा, Jai Ram से मिला प्रतिनिधिमंडल

बारिश ने रोका Jai Ram का उड़नखटोला, Una दौरा स्थगित; उद्घाटन व शिलान्यास लटके

ECG टेक्नीशियन मशीन खराब होने का बहाना बनाकर Duty से गायब, रात भर भटकते रहे लोग

पोस्टर फाड़ने का मामलाः BJP युवा मोर्चा कार्यकर्ताओं के खिलाफ शिकायत, जांच में जुटी Police

Corona का कहरः 16 दिन की छुट्टियों पर China से आया था परिवार, 6 महीने बाद लौटा वापस

सीएम के जयसिंहपुर प्रवास के दौरान Yuva Morcha कार्यकर्ताओं की हरकत पर Rathore उबले

रामपुर में ITBP के Jawan ने खुद को मारी गोली, शिमला किया रेफर

फर्जी Corona Negative Certificate के सहारे हिमाचल में पर्यटकों की एंट्री, हिरासत में लेकर किए Quarantine

किसानों के खाते में आएंगे दो हजार रुपए, PM Modi ने जारी की किसान सम्मान निधि की छठी किश्त

BPL परिवारों के लिए Himachal सरकार लेकर आई ये-ये रियायतें

loading...
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है