Covid-19 Update

11976
मामले (हिमाचल)
7476
मरीज ठीक हुए
114
मौत
5,400,619
मामले (भारत)
30,988,335
मामले (दुनिया)

भारत में क्यों अधिक मिल रहे बिना लक्षण वाले #Covid19 मरीज, यहां जानें कारण

भारत में क्यों अधिक मिल रहे बिना लक्षण वाले #Covid19 मरीज, यहां जानें कारण

- Advertisement -

नई दिल्ली। चीन के वुहान से उपजे कोरोना वायरस (#Coronavirus) ने दुनिया के अधिकांश देशों को अपनी चपेट में ले रखा है। लाखों लोगों की इस महामारी के चलते जान जा चुकी है। भारत पर भी इस गंभीर महामारी का काफी बुरा प्रभाव पड़ा है। एक तरफ जहां विश्व के सबल और आर्थिक रूप से मजबूर देश इस वायरस का सामना करने में कमजोर साबित होते नजर आ रहे हैं। वहीं, दूसरी तरफ भारत (India) और उसके लोग अपनी गरीब और अभाव में जीवन बिताने का अनुभाव होने की वजह से इस बीमारी का सामना तो कर ही रहे हैं और उनसे मजबूत स्थिति में भी हैं।


यह भी पढ़ें: Medical College Nahan की दूसरी स्टाफ नर्स भी Corona Positive

यहां जानें क्यों अधिक मिल रहे हैं बिना लक्षण वाले Covid-19 मरीज

भारत में कोरोना वायरस के ऐसिंप्टोमेटिक यानी बिना लक्षणों वाले मरीज (Asymptomatic Patients) अधिक देखने को मिल रहे हैं। इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह यह है कि गरीबी और संसाधनों के अभाव के कारण आंधी, धूल, तीक्ष्ण गर्मी और बाढ़ जैसी स्थितियों से निपटते हुए हमारे देश के ज्यादातर लोगों का हानिकारक बैक्टीरिया और वायरस के साथ एक्सपोजर हो चुका होता है। इस कारण ज्यादातर लोगों के शरीर में वायरस के बेसिक स्ट्रेन (मूल रूप) को पहचानने और उसे खत्म करनेवाली इम्यून सेल्स मौजूद होती हैं। ये वही इम्यून सेल्स होती हैं, जो शरीर में वायरस की ऐंट्री होते ही अपनी संख्या तेजी से बढ़ाने लगती हैं और वायरस को शरीर के अन्य हिस्सों में फैलने से रोकती हैं।

बचपन से ही हमारे भीतर डेवलप होते हैं इम्यून सेल्स

हमारे देश की बड़ी आबादी को बचपन से ही स्ट्रीट फूड, बिना फिल्टर किया हुआ पानी, भीड़-भाड़ वाले एरिया में खुले आसमान के नीचे बन रहा खाना इत्यादि खाने की आदत होती है। इसके चलते बचपन से हमारे देश की बड़ी आबादी के शरीर में रोगों से लड़ने की क्षमता विकसित हो जाती है। बचपन में हमारे शरीर में इम्यून सेल्स विकसित करने की क्षमता सबसे अधिक होती है। बचपन में हमारे शरीर को जैसा माहौल मिलता है, हम वैसे ही बनते जाते हैं। यही वजह है कि कोरोना संक्रमण का वायरस हमारे देश के युवाओं और बच्चों पर उतनी तेजी से हावी नहीं हो पाया, जैसा कि विकसित देशों में देखने को मिला है।

आईसीएमआर के शोध में भी हुआ खुलासा

भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने अपने इंडियन जर्नल ऑफ मेडिकल रिसर्च में बताया है कि कोरोना संक्रमित केवल 17 फीसद लोगों में बुखार और 5.6 फीसद में सांस की परेशानी पाई गई है। विशेषज्ञों का कहना है कि दूसरे देशों में बुखार कोरोना वायरस के प्रमुख लक्षणों के रूप में सामने आया है। इस अध्ययन में पता चला है कि सिर्फ 17.4 फीसद भारतीय मरीजों को ही संक्रमण के दौरान बुखार था। शोधकर्ताओं ने निष्कर्ष निकाला है कि चूंकि बहुत कम पॉजिटिव मरीजों को बुखार था। इस हिसाब से मरीजों की जांच और उपचार के दौरान दूसरे लक्षणों पर भी ध्यान देना चाहिए। शोधकर्ताओं ने पाया कि इन मरीजों को संक्रमण ऐसे राज्यों की यात्रा के दौरान हुआ, जो वायरस प्रभावित थे।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखने के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी Youtube Channel

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

पूड़े के साथ पुदीने की चटनी व खीर खानी है तो Himachalके इस शहर का करना होगा रूख

Atal Tunnel में बीएसएनएल देगा Highspeed connectivity, उद्घाटन के साथ होगी शुरू

Shimla में रिज पर बने Water Tank की मरम्मत का काम शुरू ,2 माह लगेंगे दरारें भरने में

ये हैं दुनिया के 5 सबसे जानलेवा जीव: लिस्ट में शामिल है मक्खी और मच्छर का भी नाम, जानें

#China में आया नया वायरस, तीन हजार से ज्यादा लोग निकले Positive

अटल टनल रोहतांग में 4G नेटवर्क की सुविधा का Trial सफल; जानें कितनी मिलेगी स्पीड

#Corona_Update: हिमाचल में आज 286 नए मामले, पांच लोगों ने गंवाई जान

Big Breaking: शिमला में कंडा जेल का कैदी पुलिस को चकमा देकर हुआ फरार

Rohru: बर्फबारी में बिजली-पानी और सड़कों को नहीं होगा नुकसान, प्रदेश सरकार निकालेगी स्थायी हल

HPU से करनी है PhD तो तीन अक्टूबर तक है मौका; 66 सीटों के लिए करें ऑनलाइन आवेदन

Una: गगरेट में धरे रेत तस्कर, पंजाब जा रहे पांच टिप्परों से वसूला 75 हजार का जुर्माना

सोलन में बैचवाइज प्रशिक्षित स्नातक अध्यापकों की Counseling 26 को

#Himachal में अब साहसिक पर्यटन गतिविधियां होंगी सुरक्षित, जाने क्या है सरकार का प्लान

जितने में #Reliance जैसी 6 कंपनियों को खरीदा जा सके उतना तो भारत सरकार पर कर्ज है; पढ़ें रिपोर्ट

30 साल की सेवा के बाद आखिरी सफर पर निकला #INS_Viraat: इसके लोहे से बनेंगी मोटरबाइक्स

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board

तकनीकी विवि में द्वितीय, चतुर्थ और छठे समेस्टर के छात्रों को किया जाएगा Promote

शिक्षकों-गैर शिक्षकों को स्कूल बुलाने के लिए Notification जारी, विभाग ने ये दिए निर्देश

#HPBose: बोर्ड की अनुपूरक परीक्षाओं से संबंधित जानकारी के लिए घुमाएं ये नंबर

D.El.Ed. CET -2020 की स्पोर्टस कोटे की काउंसिलिंग अब 17 को डाइट में होगी

#HPBose: बोर्ड ने D.El.Ed.CET स्पोर्ट्स कैटेगरी काउंसलिंग की तिथि की तय

#HPBose: हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने घोषित किया यह रिजल्ट- जानिए

Himachal के सरकारी स्कूलों में नौवीं से 12वीं के #OnlineExam आज से शुरू

#HPBose: D.El.Ed. CET स्पोर्ट्स कैटेगरी की काउंसलिंग स्थगित- जाने कारण

#HPBose_ Dharamshala: बोर्ड ने घोषित किया यह रिजल्ट, वेबसाइट में देखें

बड़ी खबर: हिमाचल में सितंबर के बाद स्कूल खुलने के संकेत; छात्रों के #Syllabus को लेकर भी बड़ा फैसला

Himachal: तकनीकी शिक्षा बोर्ड विद्यार्थियों को अगली कक्षा में करेगा प्रमोट, इनकी होंगी परीक्षाएं

मार्च की 10वीं और 12वीं SOS की Practical परीक्षा में Absent छात्रों को विशेष अवसर

#HPBose: D.El.Ed. CET स्पोर्ट्स कैटेगरी काउंसलिंग की तिथियां घोषित

#HPBose: बड़ा फैसला- SOS के तहत जमा दो मेडिकल व नॉन मेडिकल की हो सकेगी पढ़ाई

#HPBose : शिक्षा बोर्ड ने इन परीक्षाओं की ऑनलाइन आवेदन तिथि बढ़ाई



×
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है