Covid-19 Update

42,161
मामले (हिमाचल)
33,604
मरीज ठीक हुए
676
मौत
9,534,964
मामले (भारत)
64,844,711
मामले (दुनिया)

पत्नी का सिंदूर लगाने से इनकार करना दिखाता है कि उसे शादी मंज़ूर नहीं: HC

पत्नी का सिंदूर लगाने से इनकार करना दिखाता है कि उसे शादी मंज़ूर नहीं: HC

- Advertisement -

गुवाहाटी। गुवाहाटी हाई कोर्ट (Guwahati High Court) ने तलाक (Divorce) के लिए दी गई एक याचिका स्वीकार करते हुए एक बड़ा ही अजीबोगरीब बयान दिया है। हाईकोर्ट ने कहा है कि हिंदू शादी में पत्नी (Wife) का सिंदूर लगाने और शंखा (शंख-सीप से बनी चूड़ियां) पहनने से इनकार करना दिखाता है कि उसे शादी स्वीकार नहीं है। जस्टिस अजय लांबा और जस्टिस सौमित्र सैकिया की डबल बेंच ने आगे कहा कि इन परिस्थितियों में अगर पति (Husband) को पत्नी के साथ रहने को मजबूर किया जाए तो यह उसका उत्पीड़न माना जा सकता है। बता दें कि हाई कोर्ट से पहले फैमिली कोर्ट ने पति की तलाक याचिका खारिज कर दी थी। कोर्ट ने पाया था कि पति पर कोई क्रूरता नहीं हुई है।

पत्नी ने सख और सिंदूर पहनने से इनकार कर दिया था

मामले की सुनवाई के दौरान पाया कि पति ने निचली अदालत के समक्ष आरोप लगाया कि पत्नी ने सख और सिंदूर पहनने से इनकार कर दिया था। जिस पर हाईकोर्ट ने फैसला सुनाते हुए कहा कि हिंदू विवाह की प्रथा के तहत, एक महिला जो हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार शादी में शामिल हुई है, और जिसे उसके साक्ष्य में प्रतिवादी द्वारा इनकार नहीं किया गया है, उसके ‘संख और सिंदूर’ पहनने से इनकार करने को अपीलकर्ता के साथ विवाह को स्वीकार करने से इनकार करने का संकेत माना जाएगा।

यह भी पढ़ें: Ghumarwin: शादी समारोह से लौटे परिवार को घर के पास बने Water Tank में मिली महिला की लाश

यहां जानें क्या था पूरा मामला

मिली जानकारी के अनुसार फरवरी 2012 में इस कपल की शादी हुई थी। पति ने आरोप लगाया कि शादी के एक महीने बाद ही पत्नी उसके ऊपर परिवार से अलग रहने का दबाव बनाने लगी। उसने कहा कि वह जॉइंट फैमिली में नहीं रहना चाहती। पति ने आरोप लगाया कि उसने परिवार से अलग होने से इनकार किया तो दोनों के बीच झगड़े होने लगे। पत्नी ने गर्भ भी धारण नहीं किया। पति ने कोर्ट में कहा कि पत्नी ने 2013 में उसका घर छोड़ दिया। उसके और उसके घरवालों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करा दी। हालांकि पति और उसके रिश्तेदारों को बाद में पत्नी की ओर से लगाए गए आरोपों से हाई कोर्ट ने बरी कर दिया था।

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है