गर्भनिरोधक गोली लेने वाली महिलाएं होती हैं इमोशनलेस, रिसर्च में हुआ खुलासा

कोलन के कैंसर का खतरा हो सकता है कम

गर्भनिरोधक गोली लेने वाली महिलाएं होती हैं इमोशनलेस, रिसर्च में हुआ खुलासा

- Advertisement -

नई दिल्ली। गर्भनिरोधक गोलियों का सेवन करने वाली महिलाएं दूसरों की भावनाओं को नहीं समझ पाती हैं। एक रिसर्च में इस बात का खुलासा हुआ है कि मौखिक गर्भनिरोधक (Oral contraception) लेने वाली महिलाएं, दूसरे लोगों के चेहरों को और उनकी भावनाएं नहीं समझ पाती हैं।

यह भी पढ़ें- शादी पर दूल्हे ने मांगा कुछ ऐसा गिफ्ट, कार्ड पर छपवाई डिमांड

एक रिसर्च में यह बात सामने आई कि गोलियों का इस्तेमाल नहीं करने वाली महिलाओं की तुलना में ओसीपी प्रयोगकर्ताओं में तकरीबन 10 प्रतिशत बुरा असर दिखा। इस स्टडी में महिलाओं को खुशी या डर जैसे मूल हाव-भावों के बजाय गर्व या अपमान जैसे जटिल भावनात्मक हाव-भावों की पहचान करने की चुनौती दी। उन्होंने गर्भनिरोध गोलियां (Oral contraception) लेने वालीं महिलाओं में भावनात्मक पहचान में सूक्ष्म बदलाव का खुलासा किया।

गर्भनिरोधक गोलियों को लेने से महिलाओं के ऑस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरॉन लेवल पर असर पड़ता है, जिससे उनकी सहानुभूति प्रभावित होती है। शोधकर्ताओं ने बताया कि जन्म नियंत्रण के अलावा हार्मोन से संबंधी गर्भनिरोधक गोलियां मुंहासे, भारी माहवारी एवं एंडोमेट्रिओसिस को नियंत्रित करने में मददगार हो सकती हैं। साथ ही इनसे गर्भाशय और पाचन तंत्र के निचले भाग पर स्थित कोलन के कैंसर का खतरा कम हो सकता है।

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है