×

लॉ स्टूडेंट्स का कारनामा, जानिए कैसे हो गए 2000 के साढ़े 5 लाख

लॉ स्टूडेंट्स का कारनामा, जानिए कैसे हो गए 2000 के साढ़े 5 लाख

- Advertisement -

मंडी। Fake Currency मामले में पकड़े गए दिल्ली और हरियाणा के दो युवकों ने खुलासा किया है कि उन्होंने घर से मिली Pocket Money से 5 लाख, 60 हजार के नकली नोट छापे थे। इसके लिए एक युवक ने अपने पिता के पास मौजूद कलर प्रिंटर का इस्तेमाल किया था। युवकों ने इसके लिए 100 जीएसएम पेपर का इस्तेमाल किया ताकि नोट हू-ब-हू छाप सकें। पहले इन्होंने पॉकेट मनी के तौर पर मिले दो-दो हजार के नोटों को स्कैन करके नकली नोट छापे। जब इन्होंने देखा कि एक ही सीरिज के नोट छप रहे हैं तो नोट बदलने के लिए दूसरा रास्ता अख्तियार किया।


  • एक ही नंबर के नोट न छपे, इसलिए बदलवाए अपने दो-दो हजार के नोट

पेट्रोल पंप पर जाकर अपने नोट बदलवाए और फिर उनकी सीरिज वाले नोट छापे। इसके बाद जो असली नोट इनके पास बच गए उनके इन्होंने छुट्टे करवाए। 100-200 का सामान लेने के बाद जो पैसे बचे उसमें उतने ही पैसे और डालकर दो-दो हजार के और असली नोट इकट्ठा किए। इस सारी प्रक्रिया को युवाओं ने करीब एक सप्ताह में पूरा किया। एक सप्ताह बाद जब इनके पास 5 लाख, 60 हजार की रकम इकट्ठा हो गई तो इन्होंने हिमाचल के मलाणा का रूख किया। यहां से इन्होंने 2 किलो चरस देवा नामक व्यक्ति से खरीदी और उसे बदले में नकली नोट थमा दिए।

दो फरारः एक का पिता हरियाणा पुलिस में तो दूसरे का वकील

यह युवक नशे की गिरफ्त में आ चुके हैं और इसी कारण इन्होंने ऐसा अपराध किया। अभी तक इस मामले में दिल्ली और गुडगांव के परवेश और विक्रांत को गिरफ्तार किया जा चुका है जबकि फरीदाबाद के अंकित और जिंद के चाणक्य की पुलिस तलाश कर रही है। यह दोनों अभी फरार बताए जा रहे हैं। अंकित के पिता हरियाणा पुलिस में सब इंस्पेक्टर हैं जबकि चाणक्य के पिता एडवोकेट हैं। ये दोनों भी एमडीयू रोहतक से ही लॉ की पढ़ाई कर रहे हैं और इनकी भी इस मामले में पूरी संलिप्तता है। डीएसपी हेडक्वार्टर हितेश लखनपाल ने बताया कि दोनों युवकों की तलाश जारी है और इन्हें जल्द से जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस मामले में जो भी संलिप्त हैं उन्हें किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाएगा।

अभी तक हो चुकी हैं चार गिरफ्तारियां

इस पूरे मामले का पटाक्षेप बीती 26 अप्रैल को तब हुआ था जब भड गांव का लाल सिंह एक लाख के नकली नोट ग्रामीण बैंक बगस्याड की शाखा में जमा करवाने पहुंचा था। उसके बाद पुलिस ने मामला दर्ज किया और इसकी जांच हरियाणा तक जा पहुंची। अभी तक इस मामले में चार गिरफ्तारियां हो चुकी हैं जबकि हरियाणा के दो और मलाणा गांव का एक व्यक्ति अभी भी फरार बताए जा रहे हैं। गोहर थाना पुलिस डीएसपी हितेश लखनपाल की अगुवाई में इस पूरे मामले की जांच पड़ताल और कार्रवाई कर रही है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है