Covid-19 Update

21,476
मामले (हिमाचल)
18,382
मरीज ठीक हुए
301
मौत
8,041,051
मामले (भारत)
44,850,798
मामले (दुनिया)

बहुत इमोशनल होना भी है खतरनाक, हो सकती हैं ये परेशानियां

बहुत इमोशनल होना भी है खतरनाक, हो सकती हैं ये परेशानियां

- Advertisement -

कई लोग बहुत इमोशनल होते हैं और उनको छोटी-छोटी बातें भी बहुत अधिक बुरी लग जाती हैं। आमतौर पर लोग दो कारणों से बहुत अधिक सेंसेटिव होता है। इसमें पहला कारण होता है उनके जीन यानी वह जन्म से ही बहुत अधिक संवेदनशील है और प्रकृति ने ही उसे ऐसा बनाया है। दूसरा कारण होता है व्यक्ति के जीवन में घटित होने वाली परिस्थितियां। कुछ गुण हम जीन के साथ कैरी करते हैं और कुछ विशेषताएं हमारे अंदर वक्त और परिस्थितियों के साथ आती हैं। ये दोनों चीजें मिलकर ही हमारा व्यवहार और सोच निर्धारित करती हैं। इन्हीं से कोई व्यक्ति बहुत गुस्सैल या बहुत इमोशनल बनता है। इमोशन हम सभी में होते हैं, लेकिन कुछ लोग दूसरों की बातों को लेकर बहुत अधिक सेंसटिव होते हैं।

जो लोग बहुत अधिक इमोशनल होते हैं, उनके साथ यह दिक्कत हो जाती है कि वे हर समस्या को बहुत बड़ा करके देखते हैं। जबकि ठीक इसके विपरीत इन्हें दिए जाने वाले सलूशन को ये बहुत छोटा करके आंकते हैं। इस कारण हर समय दबाव में रहते हैं। कई बार कुंठा का शिकार हो जाते हैं और इन्हें कहीं भी यानी घर, परिवार, ऑफिस और दोस्तों के बीच अजेस्ट करने में दिक्कत होती है।

अतिसंवेदनशील लोगों में ‘चेन ऑफ थॉट्स’ यानी लगातार आते विचारों के कारण नींद ना आने की समस्या अधिक देखने को मिलती है। सायकाइट्री में इसे एक लक्षण के तौर पर देखा जाता है, जिसे स्लीप डिस्टर्बेंसेज कहते हैं। अधिक इमोशनल लोग हर समय किसी एक ही घटना या बात को लेकर सोचते रहते हैं और इस कारण इनका दिमाग परेशान रहता है और इन्हें नींद आने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है।

अधिक संवेदनशील लोगों में अपने प्यार का इजहार करने को लेकर बहुत अधिक असमंजस रहता है। इन्हें रिजेक्शन का डर अधिक सताता है। ये सोचते रहते हैं कि अगर सामनेवाले ने मना कर दिया तो इनका सामान्य रिश्ता भी खराब हो जाएगा। ऐसा सोचकर ये खुद को अपने आपमें समेट लेते हैं और क्षमता से अधिक काम करने लगते हैं। इस कारण इनकी स्थिति कई बार अधिक खराब हो जाती है।

जो लोग बहुत अधिक संवेदनशील होते हैं उनके अंदर किसी भी व्यक्ति द्वारा कही गई एक ही बात को लेकर लगातार थॉट प्रॉसेस चलता रहता है। ये किसी भी बात या स्थिति को लेकर बहुत अधिक सोचते हैं और हर समय विचारों में घिरे रहने के कारण एंग्जाइटी का शिकार हो जाते हैं। इनकी पर्सनल लाइफ, फैमिली लाइफ, प्रोफेशनल लाइफ, इंटरपर्सनल लाइफ डिस्टर्ब रहने लगती है।

जो लोग बहुत अधिक इमोशनल होते हैं, उन्हें आमतौर पर किसी भी बात का समाधान निकालने या सलूशन तक पहुंचने में बहुत अधिक दिक्कत होती है। इस कारण वे लगातार तनाव का शिकार रहते हैं। इसकी वजह होती है कि ये किसी भी बात को मैक्सिमाइज यानी बहुत बड़ा करके सोचते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि ये इमोशनल इश्यूज के साथ डील नहीं कर पाते हैं।

बात अगर सेक्शुअल डिस्टर्बेंस की हो तो यह केवल मैरिटल रिलेशनशिप में नहीं होती बल्कि सिंगल यंगस्टर्स में भी हो सकती है। क्योंकि आमतौर पर जो लोग अधिक संवेदनशील होते हैं, उनमें शर्म और झिझक भी बहुत अधिक होती है। इस कारण अपने मन की बात जल्दी से किसी को बता नहीं पाते हैं।

बहुत अधिक संवेदनशीलता के कारण एंग्जाइटी की चपेट में आए लोग अक्सर अपने आस-पास के उन लोगों से बात करना बंद कर देते हैं, जिनकी बात इन्हें बहुत अधिक बुरी लगी होती है। फिर चाहे ऑफिस हो या घर। धीरे-धीरे करके ये सभी से दूरी बनाने लगते हैं। इससे इनके अंदर अकेलेपन की भावना बढ़ने लगती है।

दोस्तों और परिवार में बात बंद करने से इमोशनल लोगों में चिड़चिड़ापन बढ़ने लगता है और धीरे-धीरे ये डिप्रेशन की तरफ जानें लगते हैं। इन्हें आमतौर पर ऐसी समस्या इसलिए होती है क्योंकि ये दूसरे लोगों की बातों को बहुत गंभीरता से लेते हैं और अपनी बातें एक्सप्रेस नहीं कर पाते।

किसी भी सिचुएशन को पूरी तरह समझे बिना और किसी भी बात को पूरी तरह सुने बिना, ये लोग तुरंत निष्कर्ष पर पहुंच जाते हैं। इस कारण ये लोग बहुत अधिक चिंतित हो जाते हैं। इनके पास पुरानी बातें परसिस्ट करती रहती हैं। यानी इनके ये बीती बातों को पकड़कर बैठे रहते हैं। इससे इनमें एंग्जाइटी क्रिएट होती है और ये अक्सर लो फील करने लगते हैं।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel…

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

CM Jai Ram ने सभी फोरलेन परियोजनाओं को तय सीमा में पूरा करने के दिए निर्देश

#Highcourt के आदेशः मृतक कर्मचारी की विवाहित पुत्री को अनुकंपा के आधार पर नियुक्ति प्रदान करे सरकार

#Shimla: हिमाचल कांग्रेस ने IGMC अस्पताल में डोनेट किए स्वास्थ्य उपकरण, मरीजों को मिलेगा लाभ

बड़ी खबरः #HPPSC ने घोषित किया इस प्रारंभिक परीक्षा का Results, 546 अभ्यर्थी सफल

'लक्ष्मी बॉम्ब' के नाम पर हुआ विवाद: अक्षय कुमार ने बदल दिया अपनी #Movie का नाम

Himachal में लीडरशिप चेंज के सवाल पर बोले Bali, कांग्रेस वर्कर हताश- पढ़ें पूरी खबर

हिमाचल में सेवारत इन कर्मचारियों के लिए 3 नवंबर को Special Leave

मुंगेर गोलीकांड पर भीड़ का तांडव: फूंक दिया थाना, चुनाव आयोग ने DM-SP को हटाया

#HPSSC: जूनियर लेबोरेटरी टेक्नीशियन पोस्ट कोड 806 के अभ्यर्थी जरूर पढ़ें यह खबर

स्पीति वैली के गांव में एक साथ 41 लोग पाए गए Covid-19 पॉज़िटिव, 7% आबादी संक्रमित

नहीं रहे #HP_Central_University के रजिस्ट्रार संजीव शर्मा, Heart Attack से हुआ निधन

France में बढ़ा कोरोना का प्रकोप, राष्ट्रपति ने किया दोबारा #Lockdown लगाने का ऐलान

#Shimla : कैपिटल होटल के Top Floor में लगी भयंकर आग, तीन कमरे जलकर राख

ब्रिटिश रॉयल फैमिली को है #Housekeeper की तलाश, सैलरी सुनकर उड़ जाएंगे होश

Chamba: पुखरी में बनेगा भव्य खेल Stadium, अव्वल खिलाड़ियों को मिलेगी निशुल्क Hostel सुविधा

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board

Big Breaking: शिक्षा बोर्ड ने जमा दो अनुपूरक परीक्षा का Result किया आउट

अब कभी भी-कहीं भी पढ़ाई कर सकेंगे Himachal के छात्र, शिक्षा मंत्री ने किया #Jio_TV का शुभारंभ

#Himachal के इन स्कूलों में सर्दियों की छुट्टियों पर चलेगी कैंची, प्रस्ताव तैयार

जवाहर नवोदय विद्यालय कक्षा 6 का #Entrance_Exam अब 7 नवंबर को

स्कूलों के बाद अब Colleges खोलने की तैयारी, नवंबर से आएंगे Practical विषयों के छात्र

TET Exam में इन अभ्यर्थियों को मिली छूट, बिना आवेदन दे सकेंगे परीक्षा, बस करना होगा ये काम

#Himachal में School खोलने की तैयारी में सरकार, क्या रहेगा प्लान पढ़े यहां

Big Breaking: हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने टैट परीक्षा का शेड्यूल किया जारी- जानिए

#HPBose: 9वीं, 10वीं, 11वीं और 12वीं कक्षाओं के छात्रों को बड़ी राहत- पढ़ें खबर

हिमाचल में 100% मास्टर जी लौट आए #School, बनने लगा स्टूडेंट्स के लिए माइक्रो प्लान

SMC शिक्षकों को बड़ी राहत, #Supreme_Court ने हिमाचल हाईकोर्ट के फैसले पर लगाई रोक

गोविंद ठाकुर बोले- #Himachal में स्कूल खोलने हैं या नहीं, 9 को होगा फैसला

शिक्षा विभाग ने तैयार किया #Himachal में स्कूल खोलने का प्रस्ताव; जानें क्या है योजना

D.El.Ed CET 2020: 12 से 23 अक्टूबर तक होगी स्क्रीनिंग, अभ्यर्थी करें ऐसा

Himachal में 530 हेड मास्टर और लेक्चरर बने प्रिंसिपल, पर वेतन बढ़ोतरी को करना होगा इंतजार



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है