इस बीमारी से शक्ल भेड़िए जैसी हो जाती है, जानिए बीमारी से जुड़ी हर अहम बात

परिवार ने बीमारी से निजात दिलाने पीएम मोदी से की गुहार  

इस बीमारी से शक्ल भेड़िए जैसी हो जाती है, जानिए बीमारी से जुड़ी हर अहम बात

- Advertisement -

नई दिल्ली। दुनिया में कुछ ऐसी चीजें देखने में आ जाती हैं, जिन पर एक पल में विश्वास करना शायद मुश्किल हो जाए। कुछ ऐसी ही बीमारी के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं, जिसमें आदमी की शक्ल भेड़िए जैसी हो जाती है। कंजेनिटल हायरट्राइकोसिस (Congenital hrytrichosis) नाम की इस बीमारी के कारण जन्म के बाद से बच्चे के मुंह और शरीर के अन्य हिस्सों पर बाल उगना शुरू हो जाते हैं। हम आपको इस बीमारी से जुड़ी हर जरूरी बात बताने जा रहे हैं।

 


 

यह भी पढ़ें  –   चाय बेचकर यह शख्स कमाता है लाखों रुपए, चाय के कारण है देशभर में मशहूर 

 

 

एक ऐसे ही मामले में मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के रतलाम में ललित नाम के एक बच्चे के चेहरे पर बाल उग गए हैं। बच्चे को देखने पर उसकी शक्ल भेड़िए की तरह दिखती है। डॉक्टर इसकी वजह वरवोल्फ सिंड्रोम (Warwolf syndrome) को मान रहे है। उसके परिवार ने ईलाज के लिए कई डॉक्टर्स के चक्कर लगाए। लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ, इसलिए ललित और उसके परिवार ने मदद के लिए पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) के आगे गुहार लगाईं है। इस बीमारी से पीड़ित ललित को जब कोई अजनबी देखता है तो वो उस पर पत्थर फेंकने लगता है। ललित ने बताया कि बचपन में उसके साथ के कई बच्चे उसे बंदर कहकर बुलाते थे।

 

 

यह भी पढ़ें  –   पिछले 450 दिनों से सिर्फ चिकन खा रहा है यह शख्स, उड़ा चुका है करीब डेढ़ लाख 

 

 

क्या है कंजेनिटल हायरट्राइकोसिस
कंजेनिटल हायरट्राइकोसिस एक जन्मजात लाइलाज बीमारी है। इस बीमारी से पीड़ित बच्चों के शरीर पर जन्म के बाद उगने वाले बाल तेजी से बढ़ने लगते हैं। बालों की लंबाई करीब 5 सेमी तक बढ़ जाती है। इस बीमारी से पीड़ित बच्चों के चेहरे, हाथ और पीठ पर लंबे-लंबे बाल दिखाई देने लगते हैं।

 

 

यह भी पढ़ें  –   विदेशी छोरी का किसान पर आया दिल, होली के दिन रचाई शादी 

 

 

इलाज के नाम पर केवल थैरेपी ही उपलब्ध 

 

अभी तक इस बीमारी का कोई ईलाज नहीं मिल पाया है। अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लीनिकल डर्मेटोलॉजी के मुताबिक, इस बीमारी के इलाज के तौर पर सिर्फ कुछ थैरेपी ही मौजूद हैं। इस थैरेपी में बालों का विकास, उगने वाली जगह के साथ पीड़ित की उम्र जैसी कई चीजें देखने के बाद ही बालों को हटाने की यह तकनीक अपनाई जाती है।

 

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है