प्रकृति को करीब से देखना है तो एक बार बंजार के शांघड़ जरूर जाएं

कला संस्कृति, पुरातन परम्पराओं और प्राकृतिक संसाधनों का भी खजाना

प्रकृति को करीब से देखना है तो एक बार बंजार के शांघड़ जरूर जाएं

- Advertisement -

कुल्लू की सैंज घाटी के शांघड़ को प्रकृति ने दिल खोलकर सौन्दर्य प्रदान किया है । विश्व धरोहर ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क भी इस क्षेत्र को अलग पहचान प्रदान करता है । यहां करीब 128 बीघा जमीन पर फैला विशाल मैदान चारों ओर देवदार के वृक्षों से घिरा हुआ है जो यहां की सुन्दरता को मनमोहक बनाता है । गर्मियों के मौसम में हरियाली और सर्दियों के मौसम में सफेद चादर ओढ़े इस मैदान की सुन्दरता सैलानियों को यहीं बसने के लिए प्रेरित करती है। यहां पर देवता शंगचुल का भव्य मंदिर भी है जो पहाड़ी वास्तुशिल्प का बेजोड़ नमूना है। इस विशाल भूखंड को मदाना के नाम से भी जाना जाता है। यह क्षेत्र प्राकृतिक सौन्दर्य, कला संस्कृति, पुरातन परम्पराओं और प्राकृतिक संसाधनों का भी खजाना है। कल-कल करते झरने, देवदार के वृक्षों की आगोश में बसे छोटे छोटे गांव, मदाना से लपाह तक के नजारे जो कदम-कदम बदलते परिदृश्य सहज ही दर्शनीय एवं लुभावने लगते है।


यह भी पढ़ें :-इस वजह से महिलाएं इस मंदिर में फेंकती हैं अंडे, जानें

 

यहां के इस विशाल मैदान में कहीं पर भी कोई कंकड़, पत्थर, कूड़ा-कचरा और चट्टान आदि दिखाई नहीं देते है। इसलिए यहां पर मैदान की ढलानों में खेलना कूदना,दौड़ना भागना और घूमना फिरना एक अलग ही अनुभव प्रदान करता है। खासबात यह है कि मैदान में शराब पीना, टेंट लगाना और गंदगी फैलाना निषेध है।बंजार स्थित ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क भारत के बहुत ही खूबसूरत नेशनल पार्कों मे से एक है। साल- 2014 मे यूनेस्को द्वारा इस ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क को विश्व धरोहर की सूची में शामिल किया गया है। इस पार्क का क्षेत्रफल 754.4 वर्ग किलोमीटर में फैला हुआ है, जो अद्वितीय प्राकृतिक सौन्दर्य और जैविक विविधिता का खज़ाना है। शांघड़ भी ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क के इको जॉन क्षेत्र के तहत आता है।

यहां पर सैलानियों को घूमने-फिरने के लिए कई मनोरम स्थल और ट्रैकिंग रूट्स उपलब्ध है। इस क्षेत्र के इको जॉन और कोर जॉन में 1 दिन से लेकर 15 दिन तक घूमने फिरने और ट्रैकिंग कैंपिंग का आनन्द लिया जा सकता है। यहां पर सैलानी मदाना ,वरसंघड़ झरना, सर्रा झील, पुंडरीक झील, गझाऊ थाच, थिनी थाच, लपाह,शकत्ती मरौर जैसे खूबसूरत स्थलों पर आसानी से पैदल सफर कर सकते है। यहां पर ठहरने के लिए वन विभाग का विश्राम गृह तथा कई निजी होमस्टे और कॉटेज भी उपलब्ध है। यहां तक दिल्ली, चंडीगड़, शिमला, कुल्लू मनाली, बंजार व तीर्थन घाटी की ओर से छोटे बड़े वाहनों द्वारा आसानी से पहुंचा जा सकता है।

शांघड़ जैसे खूबसूरत पर्यटन स्थल पर हर वर्ष सैलानियों की संख्या में इजाफा देखने को मिल रहा है और देसी विदेशी पर्यटक यहां आकर हसीन दिलकश शान्त वादियों में कुछ पल बिता कर यहां के प्राकृतिक सौंदर्य का भरपूर लुत्फ ले रहे है लेकिन कुछ सुविधाओं के अभाव में सैलानियों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। यहां के लिए सरकार द्वारा प्रधानमंत्री सड़क योजना के तहत बस योग्य सड़क का निर्माण किया गया है परन्तु कच्ची सड़क होने के कारण यहां तक वाहन पहुंचाने में काफी कठिनाई का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा यहां पर अभी तक सार्वजनिक शौचालय, शुद्ध पेयजल और कूड़ेदान जैसी सुविधा का भी अभाव है। शांघड़ पहाड़ के शिखर पर बसा हुआ एक ऐसा पड़ाव है जिसकी कीमत, महत्व और नजारा यहां कदम धरने पर ही महसुस किया जा सकता है सिर्फ जरूरत है इस अनमोल धरोहर को संजोए रखने की।


– परस राम भारती, गुशैनी बंजार

 


हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

धर्मशाला-पच्छाद में होंगे विस उप चुनाव, किसे मिल सकती है बीजेपी की टिकट, जानें

अब तक किस विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी को कितनी लीड, जानिए

जयराम मतगणना के रूझानों से गदगद,बोले- इतिहास बनने वाली है ये जीत

कांग्रेस हिमाचल में चारों खाने चित्त, सभी 68 विधानसभा क्षेत्रों में पिटने चली

कांगड़ा में कोई ओबीसी कार्ड नहीं, कपूर प्रदेश भर में सर्वाधिक मतों से आगे

भद्रवानी में सिलेंडर फटने से पिता व दिव्यांग बेटी की मौत

Himachal Result Live : हिमाचल में बीजेपी, कांगड़ा से किशन कपूर 4,66,395 वोटों से आगे

न्यायाधीश धर्म चंद चौधरी होंगे हाईकोर्ट के कार्यवाहक चीफ जस्टिस

किसके सिर सजेगा ताज-कल खुलेगा राज, 18 काउंटिंग सेंटर में होगी मतगणना

मनाली से दिल्ली जा रही वोल्वो बस के नीचे आया 12 वर्षीय बच्चा, मौत

एचपीएसएससीः टाइपिंग टेस्ट और मूल्यांकन कार्यक्रम का शेड्यूल जारी

तेज रफ्तार ट्रक ने बाइक को मारी टक्कर, इंजीनियिरिंग के छात्र की मौत

एचपीपीएससी ने घोषित किया परीक्षा परिणाम, चिकित्सा शिक्षा विभाग को मिले छह प्रोफेसर

बस की टक्कर के बाद बाइक से टकराया बुजुर्ग, मौके पर मौत

जयराम बोले- वीरभद्र सिंह तथ्यों से हटकर करते हैं बात, इसलिए नहीं देता जवाब

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है