प्यास बुझाने के लिए इंजीनियर ने छोड़ दी लाखों की नौकरी और 5 साल में बना डाले 10 तालाब

प्राकृतिक तरीके से किया तालाबों पर काम

प्यास बुझाने के लिए इंजीनियर ने छोड़ दी लाखों की नौकरी और 5 साल में बना डाले 10 तालाब

- Advertisement -

नई दिल्ली। लोगों की प्यास बुझाने के लिए एक इंजीनियर (Engineer) ने लाखों की नौकरी छोड़कर लोगों में पानी के प्रति जागरूकता फैलाने का काम किया। उन्होंने देखा कि कैसे गांव में कुछ तालाब (pond) सूखे पड़े हैं जिसकी वजह से गांव के लोग पानी की समस्या से जूझ रहे हैं। उन्होंने पहले तो लोगों के घर जाकर पानी की अहमियत के बारे में समझाया, लेकिन कोई परिणाम सामने नहीं आने पर उन्होंने खुद ही गांव के सूखे पड़े तालाबों की जिम्मेदारी उठाई और 5 सालों में 10 तालाब बना डाले।


यह भी पढ़ें- बच्चों को सेना का अफसर बनाने के लिए दुनिया का बोझ उठाती ये महिला, पढ़ें पूरी खबर

ग्रेटर नोएडा (Greater Noida) के रहने वाले 26 साल के रामवीर तंवर ने मल्टीनेशनल कंपनी (Multinational Company) की जॉब (Job) छोड़ कर समाजसेवा (Social Work) का मन बनाया। उनके गांव के सामने सबसे बड़ी समस्या पानी के सूखे तालाबों की थी। इसलिए उन्होंने सबसे पहले इसी समस्या ने लोगों को निकलने की सोची। उन्होंने एक इंटरव्यू (Interview) में बताया कि बड़े-बड़े शहरों में लोगों को एक लीटर पीने के पानी के लिए 20 रुपए की कीमत चुकानी पड़ती है, लेकिन गांवों में लोग सैकड़ों लीटर पानी बहा देते हैं, क्योंकि उन्हें ये मुफ्त में मिलता है। इसके लिए उन्होंने प्राकृतिक तरीके से काफी कम खर्च में गांव में सूखे पड़े तालाबों को साफ़ कर उन्हें पानी से भरा। उन्होंने किसानों से भी इन तालाबों में मछलीपालन की सलाह दी। उन्होंने एक किताब को पढ़कर पानी के महत्व को समझा था उन्होंने समझा कि हमारे पूर्वजों ने क्यों इन तालाबों का निर्माण किया था। यह हमारी विरासत है इसे बचाना है। तंवर अन्य गावों में भी अपनी इस सुविधा को पहुंचाने के लिए फंड (Fund) इकट्ठा कर रहे हैं।

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group … 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है