Covid-19 Update

1213
मामले (हिमाचल)
920
मरीज ठीक हुए
09
मौत
8,49,553
मामले (भारत)
12,946,377
मामले (दुनिया)

Una के इस युवा ने 10 बाक्स के साथ शुरु किया था मौन पालन ,अब कमा रहा रहा लाखों

ऊना के मौन पालक संजय ने अपनाया स्वरोजगार का रास्ता

Una के इस युवा ने 10 बाक्स के साथ शुरु किया था मौन पालन ,अब कमा रहा रहा लाखों

- Advertisement -

ऊना। मधुमक्खियों के 10 बक्सों के साथ स्वरोजगार(Self employment) की शुरूआत करने वाले बंगाणा उपमंडल के तरेटा निवासी संजय कुमार आज जिला ऊना के अग्रणी मौन पालक बनकर लाखों रुपए कमा रहे हैं। सरकार की योजना तथा अपने परिश्रम के नतीजों से उत्साहित संजय के पास अब 74 बॉक्स( Boxes) हो गए हैं। डेढ़ साल पहले संजय ने मौन पालन( Bee keeping) के क्षेत्र में उतरने का फैसला किया। संजय ने खादी बोर्ड से सब्सिडी पर 10 बॉक्स( 10 boxes on subsidy) लिए और उसके साथ-साथ ट्रेनिंग भी ली। 34 वर्षीय संजय कुमार ने कहा कि परिवार के अन्य सदस्य भी मौन पालन में मदद करते हैं, जिससे काम आसान हो जाता है। काम में सफलता मिलने के बाद रुचि पैदा होती गई और अपने काम को आगे बढ़ाया भी। आज मौन पालन के माध्यम से अच्छी आमदनी( Earning) हो रही है।


 

वर्ष 2018 में जय राम सरकार ने मुख्यमंत्री मधु विकास योजना का आरंभ किया तो यह योजना संजय जैसे अनेक मौन पालकों के लिए वरदान बन गई। संजय को कुल 1.60 लाख रुपए का अनुदान प्राप्त हुआ, जिसमें मधुमक्खियों के साथ-साथ जरूरी उपकरणों के लिए सब्सिडी मिली। बागवानी विभाग के विशेषज्ञों की सलाह व देखरेख में संजय का काम निरंतर बढ़ रहा है। मुख्यमंत्री मधु विकास योजना के तहत हर ब्लॉक मुख्यालय पर विभाग की ओर से एक-एक प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया जाता है। स्वरोजगार के इच्छुक बागवानों के लिए प्रशिक्षण अनिवार्य है। बी कीपिंग यूनिट के लिए एक व्यक्ति को अधिकतम 50 यूनिट तक पर 80 फीसदी तक सब्सिडी बागवानी विभाग की ओर से दी जाएगी। किसान बक्से अपने स्तर पर भी ले सकते हैं। मौन पालन में प्रयोग होने वाले उपकरणों की खरीद के लिए प्रति व्यक्ति 16,000 रुपए दिए जाते हैं।

सर्दियों में होती है माइग्रेशन

 

इस व्यवसाय से जुड़े किसानों व बागवानों के लिए आवश्यक रूप से फूलों की आवश्यकता होती है। बागवानी विभाग बंगाणा के सर्किल इंचार्ज वीरेंद्र कुमार ने बताया कि सर्दी के सीजन में मौन पालक हरियाणा, पंजाब तथा राजस्थान चले जाते हैं, ताकि वहां पर मधुमक्खियों के लिए फूलों की उपलब्धता हो सके। सर्दियां समाप्त होने पर यह वापस लौट आते हैं और आवश्यकता अनुसार सेब उत्पादन करने वाले क्षेत्रों में भी जाते हैं। सेब बागवान मौन पालकों को 1000 रुपए प्रति बॉक्स तक प्रदान करते हैं, क्योंकि मधुमक्खियां पॉलीनेटर का काम करती है, जो फलों की पैदावार व गुणवत्ता बढ़ाने में मददगार होती हैं, साथ ही पारिस्थितिकी तंत्र का एक महत्वपूर्ण हिस्सा भी हैं।

जिला में 54 मीट्रिक टन शहद का उत्पादन

बागवानी विभाग ऊना के उप-निदेशक डॉ. सुभाष चंद ने बताया कि जिला में प्रति वर्ष 54 मीट्रिक टन शहद का उत्पादन होता है और कई परिवार इस व्यवसाय से जुड़कर आजीविका कमा रहे हैं। उन्होंने कहा कि विभाग मौन पालकों की हर प्रकार से सहायता करता है। उन्हें प्रशिक्षण प्रदान करता है और मधुमक्खी पालन में आने वाली हर परेशानी से निपटने में सहायता देता है। अगर किसी भी किसान को मौन पालन में किसी प्रकार की समस्या पेश आए तो उन्हें वह विभाग के अधिकारियों के साथ संपर्क कर सकते हैं।

 

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

कुल्लू पुलिस का ASI भ्रष्टाचार मामले में गिरफ्तार, तीन दिन के Remand पर भेजा

Corona Breaking: कांगड़ा में Noida से लौटे पिता-पुत्र सहित तीन पॉजिटिव

पर्यटकों के आगमन पर Congress का सचिवालय के बाहर प्रदर्शन, Rathore सहित दस के खिलाफ FIR

हिमाचल में Congress के खिलाफ बड़ा मुद्दा तैयार, बस Corona समाप्ति का इंतजार

Rajasthan: विधायक दल की बैठक में गहलोत के समर्थन में प्रस्ताव पास , सचिन को मनाने जुटी प्रियंका

हिमाचल में BJP अध्यक्ष- Ministers की ताजपोशी का जान लीजिए समय

रास्ता रोकने वालों को मार्कंडेय की चेतावनी- हमारी शराफत को कमज़ोरी न समझे

सिलेंडर से लदे Truck से टकराई Bike, घुघन के युवक की गई जान

Video: घर के आंगन में Mini Bus Stand,बसों के साथ खड़े रहते हैं ट्राला, टैंकर, टिप्पर

CBSE : 12वीं का परीक्षा परिणाम घोषित, 88.7 फीसदी रहा Result

डीएलएड/ जेबीटी प्रशिक्षित बेरोजगार संघ ने अपने से हो रहे अन्याय बाबत विधायक Arun Mehra को बताया

रस्सी से लटका मिला BJP MLA का शव, पार्टी बता रही हत्या

हिमाचल के डिग्री कॉलेजों में आज से Online Admission शुरू,31 तक चलेगा दाखिलों का दौर

कोरोना संकट में Diesel ने फिर बनाया Record, पहली बार 81 के पार पहुंची कीमत

कैबिनेट विस्तार के 10 दिन बाद CM Shivraj ने किया विभागों का बंटवारा, जानिए किसे क्या मिला

loading...
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

HP : Board

CBSE : 12वीं का परीक्षा परिणाम घोषित, 88.7 फीसदी रहा Result

Himachal में अब मंत्री-विधायक नहीं कर पाएंगे शिक्षकों की Transfer, जानिए क्या होगी नई प्रक्रिया

ICSE की 10वीं और ISC की 12वीं परीक्षा का रिजल्ट हुआ आउट: यहां चेक करें

कल दोपहर 3 बजे घोषित होगा ICSE की 10वीं और ISC की 12वीं परीक्षा का रिजल्ट

बड़ी खबरः अब 12 को नहीं होगी D.El.Ed CET प्रवेश परीक्षा, कब होगी-जानिए

हिमाचल शिक्षा बोर्ड ने TET के लिए आवेदन तिथि बढ़ाई, कल तक कर सकते हैं आवेदन

CBSE ने सिलेबस से हटाए राष्ट्रवाद, Secularism जैसे Chapters,और भी बहुत कुछ

HRD मंत्री का ऐलान: CBSE कक्षा 9 से 12वीं तक के सिलेबस को 30% तक करेगा कम

हिमाचल में B.Ed करने के इच्छुकों के लिए राहत देने वाली है ये रपट, क्लिक करें

UGC के निर्देश : सितंबर के अंत तक करवानी होंगी UG Final Semester की परीक्षाएं, और भी बहुत कुछ, जानें

Kendriya Vidyalaya: फेल नहीं होंगे 9वीं-11वीं के छात्र; बिना परीक्षा के प्रोजेक्ट वर्क के जरिए होंगे प्रोमोट

हिमाचल के स्कूलों में Morning Prayer सभा एक जैसी हो, शिक्षा बोर्ड कर रहा तैयारी

SOS अगस्त व सितंबर की परीक्षाओं के ऑनलाइन पंजीकरण की तिथियां घोषित

CBSE ने टीचर्स के लिए शुरू किए Online कोर्स: यहां देखें डीटेल्स

Himachal में अध्यापकों को 12 तक छुट्टियां; 13 से होगी Online पढ़ाई शुरू


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है