Covid-19 Update

3497
मामले (हिमाचल)
2278
मरीज ठीक हुए
16
मौत
2,325,026
मामले (भारत)
20,378,854
मामले (दुनिया)

सिर्फ फेफड़े नहीं Kidney-Liver-Heart और ब्रेन पर भी हमला करता है Coronavirus

न्यूयॉर्क के डॉक्टरों ने मरीजों की रिपोर्ट्स की समीक्षा के बाद कही ये बात

सिर्फ फेफड़े नहीं Kidney-Liver-Heart और ब्रेन पर भी हमला करता है Coronavirus

- Advertisement -

कोरोना वायरस को लेकर समय के साथ नए से नए खुलासे होते जा रहे हैं। अब नया खुलासा ये है कि कोरोना ना सिर्फ इंसान के फेफड़ों पर हमला (Lung attack) करता है बल्कि किडनी, लीवर, हार्ट, ब्रेन, नर्वस सिस्टम, स्किन और Gastrointestinal Tract को भी नुकसान पहुंचाता है। न्यूयॉर्क के डॉक्टरों ने मरीजों की रिपोर्ट्स की समीक्षा के बाद ये बात कही है। कोरोना वायरस से सबसे बुरी तरह प्रभावित होने वाले शहरों में न्यूयॉर्क शामिल है। न्यूयॉर्क सिटी (New York City) के कोलंबिया यूनिवर्सिटी इरविंग मेडिकल सेंटर के डॉक्टरों की टीम ने अपने मरीजों के साथ-साथ दुनियाभर के अन्य मेडिकल टीम के पास मौजूद रिपोर्ट्स की भी समीक्षा की। कुछ महीने पहले इरविंग मेडिकल सेंटर में बड़ी संख्या में कोरोना मरीज भर्ती हुए थे। रिपोर्ट के मुताबिक, डॉक्टरों ने कोरोना मरीजों की रिपोर्ट की समीक्षा के बाद पाया कि यह वायरस इंसान के लगभग हर महत्वपूर्ण अंग को निशाना बनाता है।


ये भी पढे़ं – नमक वाले पानी के गरारे करने से कोरोना रुकेगा या नहीं, Research कर रहे वैज्ञानिक

 

सीधे मरीजों के अंगों को कर देता है क्षतिग्रस्त

कोरोना वायरस (Coronavirus) सीधे मरीजों के अंगों को क्षतिग्रस्त कर देता है और खून जमने लगता है। धड़कन प्रभावित होती है, किडनी से ब्लड आने लगते हैं, स्किन पर रैश दिखते हैं। शरीर के विभिन्न अंगों पर कोरोना के हमले की वजह से मरीजों को सिर दर्द, चक्कर आना, मांसपेशियों में दर्द, पेट में दर्द और अन्य तकलीफें होने लगती हैं। इसके साथ-साथ फेफड़ों में संक्रमण की वजह से कफ और बुखार भी होता है। रिव्यू टीम में शामिल कोलंबिया यूनिवर्सिटी (Columbia University) की कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. आकृति गुप्ता ने कहा कि कोरोना मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टरों को यह ध्यान रखना चाहिए कि यह एक मल्टीसिस्टम बीमारी है। उन्होंने कहा कि ऐसे मरीजों की अच्छी संख्या है जो किडनी, हार्ट और ब्रेन डैमेज से जूझते हैं, इसलिए डॉक्टरों को फेफड़ों के संक्रमण के साथ-साथ अलग-अलग दिक्कतों के लिए भी ट्रीटमेंट करना चाहिए।

 

 

दिमाग पर भी करता है सीधे हमला

कोरोना वायरस मरीजों के दिमाग पर भी सीधे हमला करता है। हालांकि, डॉक्टरों का कहना है कि वेंटिलेटर पर लंबे वक्त तक रखे जाने वाले मरीजों को ट्रीटमेंट वाली दवाइयों से भी नुकसान हो सकता है और उनमें न्यूरोलॉजिकल इफेक्ट्स देखने को मिल सकते हैं। बता दें कि अब तक दुनिया में कोरोना से संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या 12,728,966 से अधिक हो चुकी है। वहीं, 565,351 लोगों की कोरोना से जान भी जा चुकी है।

 

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group 

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

















सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है