Covid-19 Update

36,659
मामले (हिमाचल)
28,754
मरीज ठीक हुए
579
मौत
9,266,697
मामले (भारत)
60,719,949
मामले (दुनिया)

जमकर खाएं गोलगप्पे, वजन कम करने के साथ और भी हैं कई फायदे

जमकर खाएं गोलगप्पे, वजन कम करने के साथ और भी हैं कई फायदे

- Advertisement -

शायद ही कोई ऐसा होगा जिसे गोलगप्पे पसंद न हो। खास तौर पर लड़कियां तो गोलगप्पों की दीवानी होती है, लड़के भी कुछ कम नहीं है। इसे देखते ही मुंह में पानी आ जाता है। अपनी फिटनेस के प्रति कांशियस रहने वाले कई बार इन्हें खाने से परहेज करते हैं। ऐसा नहीं है कि गोलगप्पे खाने से मोटापा बढ़ता है। एक हद तक गोलगप्पे खाना सेहत के लिए फायदेमंद होता है। लेकिन याद रखें किसी भी चीज को जरूरत से ज्यादा खाना सेहत को नुकसान पहुंचाता है।

आप शौक से खाएं पर जरा लिमिट में सबसे बड़ी बात तो यह है कि गोलगप्पे कभी आपका हाजमा नहीं बिगाड़ते। इसका स्वाद बढ़ाने वाले मसाले दरअसल आपका हाजमा दुरुस्त करते हैं। गोलगप्पों का चटपटा पानी ऐसे मसालों से मिलकर बनता है जो एसिडिटी और पेट दर्द जैसी समस्याओं को भी खत्म कर देते हैं।

  • हर दिल अजीज गोलगप्पे के पानी को थोड़ी सावधानी के साथ बनाया जाए तो यह बढ़ते वजन की समस्या में राहत दिला सकता है। सबसे पहली बात तो यह कि इसमें मीठा बिलकुल न हो और पुदीना, हींग, नींबू व कच्चा आम मिला दिया जाए। टमाटर का भी उपयोग न किया गया हो तो बेहतर है।
  • पानी का तीखा और खट्टा स्वाद मुंह के छालों में राहत दिलाने का काम करता है। इसमें जलजीरा, पुदीना और इमली होती है। इनका तीखापन और खट्टापन पेट साफ करने के साथ छालों का पानी निकालकर उन्हें सूखा देता है।

  • सफर के दौरान कुछ लोगों को बंद माहौल में घुटन महसूस होती है। कभी-कभी मितली भी महसूस होने लगती है। ऐसे में आटे से बने 3-4 गोलगप्पे खा लेने से तुरंत आराम मिलता है।
  • गर्मी के दिनों में बाहर घूमने से प्यास ज्यादा लगती है और थकावट महसूस होती है। ऐसी स्थिति में केवल पानी पीने के बजाए पहले कुछ गोलगप्पे खा लें। यदि आप गोलगप्पे खाने के बाद पानी पीते हैं तो आपको एकदम फ्रेश-फ्रेश फील होता है।

  • गोलगप्पे खाने के लिए दोपहर का समय सबसे सही होता है। शाम के समय पानी से वजन बढ़ने की आशंका रहती है। साथ ही कसरत करने से पहले या बाद में गोलगप्पे खाना भी नुकसान करता है।
  • रवे या आटे में से आटे के गोलगप्पे खाएं। यह आपके वजन कम करने के टारगेट को पूरा करने में मदद करेगा। साथ ही भरावन में छोले या मटर के बजाए मूंग या चने की दाल का प्रयोग ज्यादा फायदा पहुंचाएगा।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है