डिनर के बाद कभी न करें ये काम वरना हो जाएंगे बीमार 

रात को कभी न खाएं हैवी खाना 

डिनर के बाद कभी न करें ये काम वरना हो जाएंगे बीमार 

- Advertisement -

आज के दौर की भागदौड़ का सीधा असर हमारे लाइफ स्टाइल ( Life style)  पर पड़ रहा है। देर तक जागना और सुबह देर तक सोना। खाने-पीने का समय निर्धारित न होने के कारण शरीर को कई बीमारियां घेर रही हैं। कहते हैं सुबह हैवी नाश्ता खाना चाहिए ताकि दिन भर काम करने के लिए ऊर्जा बनी रहे। इसी तरह रात को कम खाना खाना चाहिए लेकिन अकसर कई लोग रात को जमकर खाना खाते हैं और सुबह नाश्ता तो करते ही नहीं। रात को हैवी डिनर( Heavy dinner)  करने के बाद तुरंत सो जाना सीधे बीमारी को न्योता देना है। अगर आप भी खाना खाने के तुरंत बाद सोते तो आप अपनी ये आदत बदल लें। खाने के बाद कम से कम दो घंटे तक सोना नहीं चाहिए। बेहतर है कि आप खाना खाने के बाद थोड़ टहले और फिर सोएं …

 

यह भी पढ़ें  :  रात को चाहिए सुकून की नींद तो सोते समय कभी न खाएं ये चीजें

 

 खाने के तुरंत बात सोने से एसिडिटी और जलन हो सकती है।  खाने के तुरंत बाद सोना डाइजेशन प्रॉसेस( Digestion Process)  को धीमा कर देता है। खाना खाने के बाद शरीर खाने को पचाना शुरू कर देता है। खाना पचाने के लिए आंत एसिड बनाता है और अगर खाने के बाद अगर तुरंत सो जाते हैं तो ये एसिड पेट से निकल कर फूड पाइप और फेफड़ों के हिस्से में पहुंच जाता है और यही जलन की वजह होती है।
सोने से आपका खाना अच्छी तरह नहीं पचता है। इसका कारण यह है कि आपके सोने के बाद शरीर के ज्यादातर अंग स्थिर हो जाते हैं और काम रोक देते हैं। ऐसे में सोने के दौरान पाचन की प्रक्रिया में बाधा आती है, जिससे खाना पचाने में परेशानी आती है। यही कारण है कि जो लोग खाना खाने के बाद सो जाते हैं, उठने के बाद भी उनका पेट भरा हुआ लगता है।
खाना खाने के बाद शरीर में शुगर यानी ग्लूकोज का लेवल ( Glucose level) बढ़ जाता है। ऐसे में अगर खाते ही सोने की आदत हो तो शुगर बॉडी में यूज नहीं हो पता और ज्यादा शुगर ब्लड में घुलने लगता है। हमेशा ऐसी आदत के कारण डायबिटीज होने का खतरा बढ़ जाता है।
खाना खाने के बाद तुरंत नींद तो आ जाती है लेकिन देर रात नींद टूटने लगती है। ये प्रक्रिया रोज हो तो इससे नींद में खलल पड़ने लगता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि पेट में खाना जमा हो जाता है और पाचन धीरे हो जाता है। मेटाबॉलिज्म ( Metabolism) भी कमजोर हो जाता है।

 

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है