Covid-19 Update

44,405
मामले (हिमाचल)
35,403
मरीज ठीक हुए
711
मौत
9,608,418
मामले (भारत)
66,501,425
मामले (दुनिया)

Depression को पास नहीं फटकने देंगी ये आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां; आज ही आज़माएं

Depression को पास नहीं फटकने देंगी ये आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां; आज ही आज़माएं

- Advertisement -

नई दिल्ली। कोरोना (Coronavirus) के इस दौर में हर कोई तनाव को दौर से गुजर रहा है। बहुत सारे लोग शारीरिक समस्याओं से जूझ रहे हैं तो मानसिक समस्याएं भी कम नहीं है। अगर सही समय पर अगर आप अपने आपको नहीं संभाल पाते हैं तो यही तनाव, डिप्रेशन (Depression) आप के लिए खतरनाक साबित हो जाता है। सीधे- सीधे कहें तो यह जानलेवा भी हो सकता है। इसलिए बेहतर है कि समय रहते आप अपनी समस्या को समझे और उसका हल तलाश करें। इस के लिए आयुर्वेद में कुछ ऐसी जड़ी बूटियां है जो आप के लिए मददगार साबित हो सकती है।

तुलसीः

तुलसी को आयुर्वेद में भी एक महान औषधी का दर्जा दिया गया है। तुलसी भी आपको तनाव से निपटने और चिंता को दूर करने में मदद कर सकती है। तुलसी में एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो तनाव और चिंता की वजह से होने वाले ऑक्‍सीडेटिव तनाव और फ्री रेडिकल्‍स से लड़ने में मदद करती है। सुबह खाली पेट तुलसी के 5 पत्ते या तो चूसें या फिर इनका रस पिएं। इससे सर्दी-खांसी से राहत मिलती है, इम्यून सिस्टम बेहतर होता है और व्यक्ति का मानसिक तनाव भी दूर होता है।

यह भी पढ़ें: आयुष मंत्रालय ने दिए घरेलू सुझाव: बरसात में कैसे करें Flu से बचाव, जानें

अश्वगंधाः

शरीर की इम्‍युनिटी बढ़ाने से लेकर वजन घटाने सहित अवश्‍वगंधा के लिए असंख्‍य स्‍वास्‍थ्‍य लाभ हैं। अश्‍वगंधा की चाय और अश्‍वगंधा पाउडर का काढ़ा बनाकर सेवन करने से आपको वजन को घटाने, इम्‍युनिटी बढ़ाने और चिंता व तनाव को दूर करने में मदद मिलती है। अश्‍वगंधा के नियमित सेवन से आपको सहनशक्ति को बढ़ाने, इंफ्लेमेशन को कम करने और संज्ञानात्मक और तंत्रिका संबंधी विकारों से लड़ने में मदद मिलती है। अश्‍वगंधा के अर्क में शांत और एंटी स्‍ट्रेस गुण होते हैं, जो तनाव और चिंता को कंट्रोल करने में मदद करते हैं। 2 ग्राम अश्‍वगंधा, 2 ग्राम आंवला (धात्री फल) और 1 ग्राम मुलेठी को आपस में मिलाकर, पीसकर अश्वगंधा चूर्ण कर लें। एक चम्मच अश्वगंधा चूर्ण को सबह और शाम पानी के साथ सेवन करने से आंखों की रौशनी बढ़ती है।

यह भी पढ़ें: डिप्रेशन में दिखाई देते हैं ये लक्षण, जानें आपका कोई करीबी तो नहीं इस बीमारी का शिकार

ब्राह्मीः

यह लोकप्रिय आयुर्वेदिक बूटी है और यह आपके समग्र स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने में मददगार है। यदि आप चिंता और तनाव से जूझ रहे हैं, तो आप ब्राह्मी का उपयोग कर सकते हैं। ब्राह्मी आपके मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ावा देने में मददगार है। ऐसा माना है कि ब्राह्मी आपके केंद्रिय तंत्रिका तंत्र को शांत करने और तनाव को कम करने में मददगार है। ब्राह्मी वटी तनाव से छुटकारा दिलाने में मदद करती है, सांसों की बीमारी, विष के प्रभाव को ठीक करती है। इसके साथ ही यह रोग प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करती है। यह मष्तिस्क तथा स्मरण शक्ति को स्वस्थ बनाती है।

भृंगराजः

त्‍वचा, बालों और शारीरिक व मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य के लिए भृंगराज को फायदेमंद माना जाता है। भृंगराज का तेल, हर्बल चाय और भृंगराज पाउडर आपको कई फायदे दे सकते हैं। भृंगराज की चाय या फिर पाउडर का सेवन आपके शरीर को डिटॉक्‍स करने में मदद करता है। यदि आप नियमित रूप से भृंगराज का सेवन करते हैं, तो यह आपके मस्तिष्‍क में ऑक्‍सीजन की आपूर्ति को बढ़ावा देने और आपके मस्तिष्‍क को स्‍वस्‍थ मजबूत बनाने में मदद करता है। जिससे यह तनाव को कम करने में मदद करता है। वास्तव में भृंगराज (एक्लीप्टा अल्बा) एक जड़ी बूटी है, जिसका काम शरीर को स्वस्थ बनाए रखना है।

हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए join करें हिमाचल अभी अभी का Whats App Group…

- Advertisement -

loading...
Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है