खामोशी से दुनिया को निगल रहा है यह फंगस, 3 महीने में निकल जाती है जान

इस पर दवाएं भी बेअसर

खामोशी से दुनिया को निगल रहा है यह फंगस, 3 महीने में निकल जाती है जान

- Advertisement -

नई दिल्ली। दुनिया को बड़ी खामोशी से एक जानलेवा फंगस (Fungus) निगलता जा रहा है। यह फंगस खून में पहुंचकर पर शरीर में खतरनाक इन्फेक्शन (Infection) पैदा करता है। इसके इन्फेक्शन से 90 दिन में इंसान की मौत हो जाती है। इस पर दवाएं भी बेअसर हैं, इसलिए इसका इलाज भी नहीं हो सकता। इस फंगस ने भारत (India), पाकिस्तान और दक्षिण अफ्रिका में भी पैर जमाने शुरू कर दिए हैं।



यह भी पढ़ें: बाप रे ! महिला की आंख से निकलीं चार जिंदा मक्खियां, देखकर डॉक्टर भी हुए हैरान

इससे भी खतरनाक बात यह है कि इससे पीड़ित व्यक्ति की भले ही मौत हो जाए लेकिन फंगस जिंदा रहता है और दूसरों के शरीर में आसानी से प्रवेश कर उन्हें भी मरीज बना सकता है। न्यूयॉर्क टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले साल मई के महीने में ब्रुकलिन (Bruklyn) के माउंट सिनाई हॉस्पिटल फॉर ऐब्डॉमिनल सर्जरी में एक बुजुर्ग व्यक्ति को भर्ती किया गया था। ब्लड टेस्ट में सामने आया कि वह एक नए तरह के जीवाणु से संक्रमित है, जो अभी तक जितना रहस्यमयी बना हुआ है। टेस्ट रिपोर्ट सामने आने के बाद डॉक्टरों ने मरीज को इन्टेन्सिव केयर यूनिट में शिफ्ट कर दिया।


यह भी पढ़ें:
यह है दुनिया की पहली फाइव स्टार जेल, कैदियों को मिलती हैं ये सुविधाएं


कमजोर शरीर को जकड़ता है कैंडिडा ऑरिस

कैंडिडा ऑरिस (Candida Auris) नाम का यह फंगस उन लोगों को अपनी चपेट में लेता है जिनका इम्यून सिस्टम (Immune System) कमजोर है। पिछले पांच साल में यह वेनेजुएला के नवजात शिशु संबंधी यूनिट और स्पेन के एक अस्पताल में फैल चुका है। फंगस के कारण एक ब्रिटिश मेडिकल सेंटर को अपनी इन्टेन्सिव केयर यूनिट तक बंद कर देनी पड़ी थी।


यह भी पढ़ें:
दुनिया का पहला कब्रिस्तान जहां लाशें नहीं जहाज होते हैं दफन


व्यक्ति की मौत के साथ नहीं मरता फंगस

माउंट सिनाई (Mount Cinai) हॉस्पिटल में भर्ती कैंडिडा ऑरिस से पीड़ित बुजुर्ग की 90 दिन बाद मौत हो गई। टेस्ट से पता चला कि उन्हें जिस कमरे में रखा गया था, वहां की हर चीज पर कैंडिडा ऑरिस मौजूद था। इसके बाद अस्पताल को रूम की सफाई के लिए स्पेशल क्लीनिंग इक्विपमेंट का इस्तेमाल करना पड़ा। उन्हें फंगस को खत्म करने के लिए सीलिंग से लेकर फ्लोर की टाइल्स तक उखाड़नी पड़ी।


दवाई का नहीं होता असर

कैंडिडा ऑरिस पर ऐंटीफंगल मेडिकेशन (Anti Fungal Medication) का भी असर नहीं होता है। इस वजह से यह स्वास्थ्य के लिए खतरा बने उन इन्फेक्शन्स का एक नया उदाहरण बन गया है जो दवा प्रतिरोधी हैं। आसान शब्दों में कहें तो बैक्टीरिया की तरह अब फंगस भी मॉर्डन मेडिसिन के प्रति डिफेंस विकसित कर रहा है। यह फंगस अस्पताल में मौजूद लोगों के हाथों और उपकरणों, बोट के जरिए ले जाए जाने वाले मीट, खाद से उपजाई गई सब्जियों, सीमा के पार यात्रा कर रहे यात्रियों और अन्य चीजों के आयात-निर्यात व प्रभावित मरीज के जरिए घर और अस्पताल में आने-जाने से आसानी से सभी जगह फैल जाता है।

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

बिलासपुरः भगेड़ में ईवीएम ट्रायल मामले में सभी कर्मचारी सस्पेंड

स्कॉलरशिप घोटालाः पंजाब के नवांशहर और अंबाला में सीबीआई की दबिश

चीन के पड़ोस में रहने वाले ग्यु गांव के बाशिंदों ने नहीं डाले वोट,तहसीलदार गए मनाने

मतदान वाले दिन सुबह 4 बजे यातायात के लिए बहाल हुआ रोहतांग दर्रा

लोकसभा चुनावः हिमाचल में अब तक 66.48 % फीसदी मतदान

लोगों ने किया मतदान का बहिष्कारः मौके पर पहुंचे अधिकारी ने शुरू करवाई वोटिंग

जमाव बिंदु से नीचे तापमान में भी 53% मतदान कर गए ये हिमाचली

चुनाव आयोग को ठेंगा दिखाकर बेच रहा था शराब, ठेका हुआ सील

देश के पहले मतदाता 102 वर्षीय श्याम सरन नेगी ने 32वीं बार डाला वोट

दिल्ली से वोट डालने आ रहे दंपति हादसे का शिकार,पति की मौत पत्नी अस्पताल में

परिजन गए थे वोट डालने, रोहड़ू की छात्रा ने सुंदरनगर में लगा लिया फंदा

शिक्षा नियामक आयोग के चेयरमैन केके कटोच को क्लीन चिट

ठियोग में चुनाव ड्यूटी के दौरान होमगार्ड के जवान की हार्ट अटैक से मौत 

मतदान से पहले वीरभद्र बोले, ये तो सत्ता का अहंकार बोलता है

कांग्रेस-बीजेपी सहित 45 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला कल

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है