Covid-19 Update

2,00,410
मामले (हिमाचल)
1,94,249
मरीज ठीक हुए
3,426
मौत
29,933,497
मामले (भारत)
179,127,503
मामले (दुनिया)
×

चुनाव में हारने पर खुद को घोषित किया विजेता, पुलिस स्टेशन में लगा दी आग

चुनाव में हारने पर खुद को घोषित किया विजेता, पुलिस स्टेशन में लगा दी आग

- Advertisement -

नई दिल्ली। इंडोनेशिया में चुनावों के बाद से हड़कंप मचा हुआ है। राष्ट्रपति पद के असफल उम्मीदवार के समर्थक इंडोनेशिया (Indonesia) की राजधानी में सुरक्षा बलों के साथ भिड़ गए। वह वाहनों को जलाने और पुलिस पर पत्थर फेंकने लगे। प्रदर्शनकारियों ने देर रात चुनाव पर्यवेक्षी एजेंसी के कार्यालयों पर भी धावा बोला । राष्ट्रीय पुलिस के प्रवक्ता डीडी प्रसादियो (DD Prasadio) ने कहा कि 20 से अधिक संदिग्ध लोगों को गिरफ्तार किया गया है। कई लोगों की जाने जाने और घायल होने की सूचना भी दी लेकिन कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। दंगाइयों ने पुलिस के साथ लड़ाइयां लड़ीं, पत्थर फेंके और पुलिस स्टेशनओं में आग लगा दी। वाहनों और एक अर्द्ध सैनिक पुलिस डोरमेट्री (Paramilitary police dormitory) को भी आग लगा दी गई। पुलिस ने आंसू गैस, रबर की गोलियां और पानी की तोप का इस्तेमाल कर प्रदर्शनकारियों को रोकने की बहुत कोशिश की पर कोई फाइदा नहीं हुआ।

यह भी पढ़ें :-2014 से ज़्यादा भव्य होगा मोदी का शपथ ग्रहण, विश्व के शीर्ष नेता होंगे शामिल 

बता दें कि इंडोनेशिया के चुनाव आयोग ने कहा था कि राष्ट्रपति जोको विडोडो (Joko Widodo) ने अप्रैल 17 को हुए चुनाव में 55.5% वोट के साथ दूसरा कार्यकाल जीता। विशेष बलों के पूर्व जनरल प्रभावो सबिएंटो (Prabowo Subianto) ने परिणामों को स्वीकार करने से इनकार कर, खुद को विजेता घोषित कर दिया। उन्होंने बड़े पैमाने पर धोखाधड़ी का आरोप लगाया है, लेकिन कोई विश्वसनीय सबूत नहीं होने कि भी बात कहते हैं। सरकार ने विरोध प्रदर्शनों की आशंका में जकार्ता में कुछ 50,000 पुलिस और सैनिकों को तैनात किया था। कई निवासियों ने शहर तक छोड़ दिया है। शहर के कुछ हिस्सों की रेजर वायर से बैरिकेडिंग के साथ-साथ यातायात मार्गों को पूरी तरह बंद कर दिया है।


अधिकारियों ने देशद्रोह के संदेह पर सबिएंटो के तीन कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया है। इनमें एक सेवानिवृत्त जनरल (Retired General) और इंडोनेशिया के विशेष बलों के पूर्व कमांडर शामिल हैं। पुलिस का मानना है कि जकार्ता में महत्वपूर्ण सरकारी इमारतों को जब्त करने की साजिश रची गई थी। सबिएंटो ने भी समर्थकों से हिंसा से दूर रहने का आह्वान किया है। बता दें कि सबिएंटो 2014 में भी विडोडो से हार गए थे। इस चुनाव में उन्होंने शरिया कानून का पालन करने वाले रूढ़िवादी प्रांतों में बड़े पैमाने पर जीत हासिल की, लेकिन घनी आबादी वाले पूर्वी जावा (Java) और सेंट्रल जावा में विडोडो द्वारा पराजित किए गए।


हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है