Covid-19 Update

56,943
मामले (हिमाचल)
55,280
मरीज ठीक हुए
954
मौत
10,566,720
मामले (भारत)
95,173,803
मामले (दुनिया)

धनोटू पुल के पास लावारिस मिली टैंट कारोबारी की Scorpio

धनोटू पुल के पास लावारिस मिली टैंट कारोबारी की Scorpio

- Advertisement -

नितेश सैनी/सुंदरनगर।धनोटू में टैंट के कारोबारी महेंद्र पाल की स्कार्पियो रहस्यमय परिस्थितियों में लावारिश मिली है। परिजनों ने शंका जाहिर की है कि सदर मंडी शहर के दो नामी कारोबारियों के दबाव के चलते महेंद्र पाल पुत्र तुलसी निवासी रिगढ़ डाकघर राजगढ़ जिला मंडी को अगवा करने या फिर मरने पर मजबूर किया गया है। पुलिस को घटना की सूचना मिलते ही घटना स्थल की ओर रवाना हुई। परिजनों के बयान कलमबद्ध करके आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस से प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार की रात करीब साढ़े नौ बजे यह वाहन धनोटू पुल के निकट बरामद हुआ। आशंका जाहिर की जा रही है कि धनोटू स्थित सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में वोल्वो बस में महेंद्र पाल कहीं चले गए होंगे। लेकिन, आगे की स्थिति साफ न होने की सूरत में परिजनों ने सदर मंडी के दो कारोबारियों पर यह आरोप पुलिस बयान में लगाए हैं।

  • पुलिस को वाहन के टायर के नीचे  मिली चांबी, एक डायरी भी बरामद
  • डायरी में लिखा, दो कारोबारियों से परेशान होकर उठा रहा हूं कदम
  • परिजनों ने मंडी के दो व्यापारियों पर लगाए प्रताड़ित करने के आरोप

महेंद्र पाल की पत्नी अंजना कुमारी राजगढ़ कैहड़ पंचायत की प्रधान है। महेंद्र पाल के भाई धर्मपाल का कहना है कि पुलिस को उसके वाहन के टायर के नीचे वाहन की चांबी बरामद हुई है और एक डायरी भी मिली है, जिसमें उसने लिखा  है कि वह सदर मंडी के दो कारोबारियों से मानसिक तौर से परेशान होने के चलते यह कदम उठा रहा हूं। डायरी में महेंद्र पाल ने सदर मंडी के दो प्रसिद्ध कारोबारियों के नाम भी लिखे हैं, जिनकी वजह से महेंद्र पाल ने यह कदम उठाने को विवश हुआ है। धर्मपाल ने बताया कि उक्त दोनों शख्सों द्वारा महेंद्र पाल से कुछ चेक खाली हस्ताक्षर करवा करके ले रखते थे। जबकि महेंद्र पाल की कोई बड़ी अदायगी प्राप्त होती थी तो वह दोनों चेक के माध्यम से निकाल लेते थे। धर्मपाल का कहना है कि महेंद्र पाल ने उक्त दोनों शख्सों के पूरे उधारी चुकता कर दी थी। इसके बावजूद भी वह दोनों पिछले काफी समय से उसके कारोबार की कमाई  पर हाथ साफ कर रहे थे। इसके चलते महेंद्र पाल मानसिक तौर से उक्त दोनों शख्सों द्वारा प्रताड़ित किया जा रहा था। महेंद्र पाल की रात को जाने से पहले उसके जीजा दिनेश से भी फोन पर बातचीत हुई है।

इसमें महेंद्र पाल ने परिवार व बच्चों का देखभाल करने और दोबारा न मिलने की बात कह कर फोन  बंद कर दिया। वहीं बीएसएल कॉलोनी पुलिस थाना  सुंदरनगर के एचसी विनोद कुमार, मुरारी व जबान खेमराज मामले के हर पहलू की जांच में जुट गए हैं। परिजनों के बयान कलमबद्ध करने के बाद आगामी जांच तेज कर दी है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष


HP : Board


सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है