Covid-19 Update

58,645
मामले (हिमाचल)
57,332
मरीज ठीक हुए
982
मौत
11,112,241
मामले (भारत)
114,689,260
मामले (दुनिया)

#Kangra: पड़ोसी की हत्या के दोषी को उम्रकैद, चार साल रहा था अंडरग्राउंड

जवाली के अनुही गांव का है मामला, दराट का वार कर किया था मर्डर

#Kangra: पड़ोसी की हत्या के दोषी को उम्रकैद, चार साल रहा था अंडरग्राउंड

- Advertisement -

धर्मशाला। जिला कांगड़ा (#Kangra) के पुलिस स्टेशन जवाली के तहत पड़ते अनुही गांव में अपने पड़ोसी की हत्या कर चार साल तक अंडरग्राउंड (Underground) रहने के बाद गिरफ्तार किए गए आरोपित के खिलाफ दोष सिद्ध होने पर अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायधीश पारस डोगर की अदालत ने दोषी को उम्रकैद व 15 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है। मामले की जानकारी देते हुए जिला न्यायवादी राजेश वर्मा ने बताया कि रवि कुमार उर्फ रविंद्र निवासी अनुही कोटला जवाली (Jawali) ने 16 नवंबर 2012 की सुबह गांव के काका पुत्र सरन दास निवासी अनुही की दराट से वार कर हत्या कर दी थी। गांव के नाले के पास जहां उसने हत्या की थी, वहां साथ लगते घर की महिला ने पुलिस को दिए बयान में कहा कि 16 नवंबर की सुबह जब वह खाना बन रही थी तो नाले की ओर से किसी के कर्राने की आवाजें आ रहीं थीं। जब देखा तो काका गंभीर हालत में पड़ा था।

यह भी पढ़ें: फतेहपुरः सड़क किनारे टहल रहे बुजुर्ग को Bike ने मारी टक्कर, गई जान

ग्रामीणों ने उसे उठाकर नाले से बाहर लाया तो उसकी मौत हो गई। जांच के दौरान रवि कुमार के बुआ ने बयान दिया कि सुबह जब उसने देखा तो काका नाले में पड़ा था और रवि वहीं खड़ा था। अपनी बुआ को देखकर रवि वहां से भाग गया। इस घटना के बाद लगभग चार साल के रवि गायब रहा। घर वाले भी पुलिस को गुमराह करते रहे कि उनके बेटा दिल्ली में ट्रक चलाता है और घर नहीं आता और ना ही उससे संपर्क होता है। 19 जुलाई 2016 को शिमला पुलिस (Shimla Police) ने नव बिहार में नाका लगाया था तो वहां रवि नशीले पदार्थों के साथ पकड़ा गया। जब उससे पूछताछ की तो उसने अपना नाम गलत बताया और खुद को पालमपुर (Palampur) का निवासी बताया।

यह भी पढ़ें: सेना भर्ती का प्रशिक्षण ले रहे लड़के-लड़कियां भिड़े, जमकर चले लात-घूंसे और डंडे

पुलिस जांच में पता चला कि उक्त व्यक्ति के खिलाफ जवाली थाने में हत्या का केस दर्ज है और न्यायालय ने उसे उद्घोषित अपराधी घोषित किया हुआ है। पुलिस जांच व पड़ोसियों की बयानों पर पता चला कि काका व रवि की हत्या से दो दिन पूर्व किसी बात को लेकर लड़ाई हुई थी। जिस पर रवि ने दराट से वार से काका की हत्या की थी। पुलिस जांच के बाद न्यायालय (Court) में पहुंचे मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से केस की पैरवी उप-जिला न्यायवादी संदीप अग्निहोत्री ने की। अभियोजन पक्ष की ओर से कुल 23 गवाह पेश किए गए। गवाहों के ब्यानों के आधार पर न्यायालय ने दोषी रवि उर्फ रविंद्र को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel…

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है