Covid-19 Update

2,06,589
मामले (हिमाचल)
2,01,628
मरीज ठीक हुए
3,507
मौत
31,767,481
मामले (भारत)
199,936,878
मामले (दुनिया)
×

कहां खो गई छेनी और हथौड़े से खोदकर बनाई गई खातरियां

कहां खो गई छेनी और हथौड़े से खोदकर बनाई गई खातरियां

- Advertisement -

वी कुमार/ मंडी। हिमाचल प्रदेश के चंगर क्षेत्र सभी लोग वाकिफ है। बेशक अब हिमाचल जिलों में बंट चुका है लेकिन रियासतकाल में चंगर बहुत बड़ा क्षेत्र माना जाता था। इसमें हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा, हमीरपुर, बिलासपुर और मंडी जिलों का काफी बड़ा भाग आता है। मंडी जिला यह चंगर क्षेत्र उत्तराखंड के देहरादून तक फैला हुआ है। इस क्षेत्र में रियासतकाल से ही पानी की विकराल समस्या रही है। इस समस्या से पार पाने के लिए बुजुर्गों ने एक नायाब तरीका खोजा था और उसे नाम दिया गया था खातरी। लोग अपने घर के पास मौजूद छोटी-बड़ी पहाड़ी के निचले हिस्से पर छेनी और हथौड़े की मदद से एक गड्ढा खोदते थे, जिसे खातरी कहा जाता है।


यह भी पढ़ें: पच्छाद में प्रचार करते राठौर को मिला आईपीएच की पाइपों का जखीरा, देखें वीडियो


यह खातरी कई फीट लंबी और गहरी होती थी। इसे बनाने में वर्षों लग जाते थे क्योंकि इसका निर्माण कार्य काफी बारीकी से करना पड़ता था। जब यह खातरी बनकर तैयार हो जाती थी तो इसमें वर्षा जल का संग्रहण किया जाता था। बारिश जब गिरती थी तो उस पहाड़ी पर गिरा पानी पूरी तरह से छनकर इस खातरी में जमा होता जाता था। बरसात के मौसम में जल संग्रहण के बाद इसका वर्ष भर इस्तेमाल किया जाता था। धर्मपुर क्षेत्र निवासी कृष्ण चंद पराशर बताते हैं कि चंगर क्षेत्र में कहावत है कि गंगा का पानी खराब हो सकता है लेकिन खातरी का पानी नहीं, क्योंकि यह पानी पूरी तरह से फिल्टर होकर आता है। खातरी में जमा पानी का वर्ष भर बिना किसी डर से इस्तेमाल किया जा सकता था।


लेकिन अब धीरे-धीरे इन खातरियों का कम होता जा रहा है इस्तेमाल

इस क्षेत्र में पानी की समस्या इतनी विकराल होती थी कि जिस व्यक्ति ने अपने घर के पास खातरी बनाई होती थी, वह उसमें ताला लगाकर रखता था। क्योंकि उन दिनों आभूषणों से ज्यादा डर पानी की चोरी का रहता था। ऐसा भी नहीं कि लोग अपनी खातरियों के पानी से दूसरों को मदद नहीं पहुचांते थे। गांव में यदि किसी के घर कोई शादी समारोह हो, या किसी ने मकान बनाना हो तो उसे जरूरत के हिसाब से पानी दिया जाता था। ग्रामीण महिलाएं जोद्धया देवी और मथुरा देवी बताती हैं कि पहले इलाके में पानी की विकराल समस्या होती थी और इन खातरियों से ही पानी मुहैया हो पाता था। या फिर दूर-दराज में मौजूद दूसरे प्राकृतिक जल स्त्रोतों से पानी ढोकर लाना पड़ता था। लेकिन आज घर द्वार तक पानी पहुंचने से यह समस्या हल हुई है और खातरियों का इस्तेमाल काफी कम हो गया है। यही कारण है कि आज यह खातरियां अपने अस्तित्व की लड़ाई लड़ रही हैं।


आईपीएच विभाग ने उठाया इन खातरियों के संरक्षण का मुद्दा

अब राज्य सरकार ने इस जल स्त्रोतों को पुर्नजीवित करने का बीड़ा उठाया है। पीएम नरेंद्र मोदी के जल संरक्षण के आहवान के बाद हिमाचल प्रदेश के सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर ने इन खातरियों को साफ करने का अभियान छेड़ दिया है। चंगर क्षेत्र में जितनी भी खातरियां मिटने की कगार पर पहुंच चुकी हैं उन्हें पुर्नजीवित करने के लिए विभाग ने पूरी योजना बना ली है। आईपीएच मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर का कहना है कि जल संग्रहण में खातरियों से बड़ा और कोई विकल्प नहीं, इसलिए इन्हें हर हाल में पुर्नजीवित करना है। उन्होंने बताया कि खातरियों के साथ जो भी अन्य प्राकृतिक जल स्त्रोत हैं उनकी सफाई का अभियान छेड़ा गया है ताकि लोगों को इनके महत्व से अवगत करवाया जा सके और भविष्य में जरूरत पड़ने पर इनके पानी का भी इस्तेमाल किया जा सके।

सिंचाई एवं जनस्वास्थ्य मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर का कहना है कि भविष्य में जल संकट विश्व के सामने सबसे बड़े संकट के रूप में उभरने वाला है। ऐसे में इस प्रकार के जल स्त्रोत अपनी अहम भूमिका निभा सकते हैं। इसलिए इनका संरक्षण जरूरी है ताकि भविष्य के संकट से पार पाने की अभी से तैयारी की जा सके।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है