Covid-19 Update

2,06,589
मामले (हिमाचल)
2,01,628
मरीज ठीक हुए
3,507
मौत
31,767,481
मामले (भारत)
199,936,878
मामले (दुनिया)
×

डॉक्टर बनने का सपना संजोए रजत की मदद के लिए मानव सेवा ट्रस्ट ने बढ़ाए हाथ

डॉक्टर बनने का सपना संजोए रजत की मदद के लिए मानव सेवा ट्रस्ट ने बढ़ाए हाथ

- Advertisement -

सुंदरनगर। उपमंडल सुंदरनगर की डूगराई पंचायत के रड़ू गांव के रजत को नीट परीक्षा (NEET Exam) पास करने के बाद एमबीबीएस (MBBS) में एडमिशन नहीं मिलने का मलाल है। बचपन में एक हादसे में अपने दोनों हाथ गंवाने वाले रजत के जज्बे को देखकर अब समाज के लोग व सामजिक संस्था उसकी मदद के लिए आगे आई हैं। सुंदरनगर मानव सेवा ट्रस्ट को जब रजत के बारे में मीडिया के माध्यम से जानकारी प्राप्त हुई, तो ट्रस्ट के चेयरमैन प्रकाश चंद बंसल ने रजत को न्याय दिलाने के लिए मुफ्त में कानूनी सहायता देने का निर्णय लिया।


यह भी पढ़ें: नीट परीक्षा पास करने के बाद भी रजत को नहीं मिली एडमिशन, अब हाई कोर्ट में उठेगा मामला


प्रकाश चंद बंसल दिव्यांग रजत और उसके परिवार से मिलने उनके घर पहुंचे और उन्हें न्यायिक प्रक्रिया सहित अन्य खर्च के लिए भरोसा दिलाया। मानव सेवा ट्रस्ट द्वारा मदद के लिए हाथ बढ़ाने के बाद रजत का परिवार काफी राहत महसूस कर रहा है। रजत के पिता जय सिंह ने कहा कि बुरे वक्त में उनका साथ मानव सेवा ट्रस्ट कर रहा यह उनके लिए बहुत बड़ी राहत है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से मीडिया (Media) ने इस मुद्दे को उठाया है, उसके बाद कुछ सामाजिक संगठन मदद के लिए आगे आए हैं तो कुछ रजत की मुंह से बनाई गई पेंटिंग दुनिया के सामने लाना चाहते हैं।

मानव सेवा ट्रस्ट के चेयरमैन प्रकाश चंद बंसल ने कहा कि उन्हें जब मीडिया के माध्यम से रजत के बारे में पता चला। उन्होंने तुरंत रजत के घर में जाकर उनके परिवार के साथ बातचीत की और न्याय के लिए उनका केस मुफ्त में लड़ने की बात कही। जल्द ही केस हाईकोर्ट में लगाया जाएगा और रजत को न्याय दिलाया जाएगा।


क्या है मामला :

सुंदरनगर के तहत आने वाली डूगराई पंचायत के रड़ू गांव के निवासी जयराम के पुत्र रजत ने बचपन में एक करंट हादसे से अपनी दोनों बाजुओं खो दी थी, लेकिन पढ़ने का शौक रखने वाले रजत ने ऑल इंडिया स्तर की नीट की परीक्षा पास की। इसे पास करने के बाद उसे नेरचौक मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस (MBBS) की सीट मिली, लेकिन नेरचौक मेडिकल कॉलेज (Ner Chowk Medical College) ने दिव्यांग रजत को साक्षात्कार के बाद मेडिकल में फिजिकल अनफिट का हवाला देकर रिजेक्ट कर दिया।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है