Covid-19 Update

2,01,049
मामले (हिमाचल)
1,95,289
मरीज ठीक हुए
3,445
मौत
30,067,305
मामले (भारत)
180,083,204
मामले (दुनिया)
×

Corona से सुरक्षाः ऊना, बद्दी व चंडीगढ़ से जुटाया सामान और बना डाली PPE Kits

Corona से सुरक्षाः ऊना, बद्दी व चंडीगढ़ से जुटाया सामान और बना डाली PPE Kits

- Advertisement -

मंडी। पाबंदियों के बीच कुछ हटकर करने का मजा ही कुछ और होता है, ऐसा काम जो समाज के हित में है। मंडी जिला प्रशासन (Mandi District Administration)ने कुछ ऐसा ही कर दिखाया है। कोरोना वायरस ( Corona virus) के खिलाफ फ्रंट लाइन पर लड़ाई लड़ने वालों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए जिला प्रशासन ने ऊना, बद्दी, चंडीगढ़ और मंडी से अलग-अलग समाान जुटाकर एक हजार पीपीई किट्स( PPE Kits) बना डाली। जिला प्रशासन ने इस कार्य का जिम्मा सौंपा मंडी जिला रेडक्रास सोसायटी को। सोसायटी के जिला सचिव ओपी भाटिया ने अपनी टीम और सर्व वालंटियर्स के साथ मिलकर दिन रात मेहनत की और एक हजार पीपीई किट्स का भंडार एकत्रित कर दिया। एडीसी मंडी आशुतोष गर्ग ने बताया कि लॉक डाउन की स्थिति में इस प्रकार के उपकरणों की काफी कमी देखने को मिल रही है लेकिन जिला प्रशासन ने पूरी किट बनाने के लिए जगह-जगह से मैटीरियल इकट्ठा किया और खुद इसका निर्माण करवाया। पीपीई किट के सूट का कपड़ा ऊना से लाया गया जबकि गॉगल्स बद्दी और चंडीगढ़ से मंगवाए गए। वहीं शू कवर और फेस कवर का प्रबंध मंडी में ही किया गया। उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग की तरफ से भी पीपीई किट्स मुहैया करवाई जा रही हैं लेकिन जिला में इसकी कोई कमी न हो इसके लिए प्रशासन ने अपने स्तर पर इसका निर्माण करवाया है।

ये भी पढ़ेः हमीरपुर में कैसे हुआ Community Spread, सीडीआर से लगाया जाएगा पता


मंडी जिला प्रशासन ने रेडक्रास सोसायटी के माध्यम से अब तक एक हजार से अधिक पीपीई किट्स यानी पर्सनल प्रोटेक्शन इक्यूप्मेंट्स बना लिए हैं। इसमें से प्रशासन 500 पीपीई किट्स स्वास्थ्य विभाग और पुलिस सहित अन्य कर्मियों को मुहैया करवा चुका है। इसमें से अधिकतर पीपीई किट्स मेडिकल कॉलेज नेरचौक को दी गई हैं क्योंकि इसे कोविड 19 अस्पताल के रूप में तबदील कर दिया गया है। एडीसी मंडी आशुतोष गर्ग ने बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाने के लिए फ्रंट लाइन कर्मियों की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा जा रहा है। उन्होंने कहा कि अभी तक जिला में एक हजार किट्स बनाई जा चुकी हैं और जरूरत पड़ने पर इस संख्या में और बढ़ोतरी की जाएगी।

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है