Covid-19 Update

2,01,210
मामले (हिमाचल)
1,95,611
मरीज ठीक हुए
3,447
मौत
30,134,445
मामले (भारत)
180,776,268
मामले (दुनिया)
×

मानकोटिया क्यों बोले, वीरभद्र का परिवार “किन्नौर गजट 1971 के पृष्ठ संख्या 63” को जरूर देख ले

मानकोटिया क्यों बोले, वीरभद्र का परिवार “किन्नौर गजट 1971 के पृष्ठ संख्या 63” को जरूर देख ले

- Advertisement -

धर्मशाला। कभी वीरभद्र सिंह की कैबिनेट में उनके सहयोगी रहे मेजर विजय सिंह मानकोटिया (Major Vijay Singh Mankotia) ने कहा है कि अच्छा होगा वीरभद्र व उनका परिवार मेरे से ज्यादा ना बुलवाए, चूंकि जो दौर गुजर चुका है, मैं उसमें लौटना नहीं चाहता। उन्होंने इसके साथ ही ये भी कहा है कि फिर भी उन्हें याद दिलाना चाहता हूं कि वर्ष 1971 के जिला किन्नौर के गजट के पृष्ठ संख्या 63 को जरूर देख लें, उसके बाद मुझे बोलने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी।


यह भी पढ़ें: मानकोटिया को महिला कांग्रेस ने भेजी “चूड़ियां,” विक्रमादित्य ने बताया मानसिक रोगी


मानकोटिया ने कहा कि जहां तक बात वीरभद्र के साहबजादे विक्रमादित्य सिंह (Vikramaditya Singh) की है तो उन्हें ये सब संस्कार विरासत में ही मिले हैं, जिसकी मैं बात कर रहा हूं, इसलिए वह मेरे लिए अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर रहे हैं। क्योंकि उनके पिता वीरभद्र सिंह भी ऐसी ही अभद्र भाषा का इस्तेमाल करते रहे हैं।

मानकोटिया ने हिमाचल अभी अभी से फोन पर बातचीत करते हुए कहा कि मैंने शनिवार को जो बातें कही थीं वह आरटीआई यानी सूचना अधिकार के तहत जो जानकारी मिली थी, उसके अनुरूप थी। उन्होंने कहा कि वीरभद्र सिंह व उनका परिवार जमानत पर चल रहा है, मैं तो उनके जेल जाने की बात कर रहा हूं। इसलिए इस संदर्भ में महिला ब्लॉक कांग्रेस धर्मशाला का मुझे चूड़ियां भेजने का सवाल कहां से खड़ा होता है। उन्होंने कहा कि मेरा महिला ब्लॉक से किसी तरह को कोई विवाद नहीं है। मैं तो यहां जो बात कर रहा हूं उसका संदर्भ पूरी तरह से सूचना अधिकार के तहत ली गई जानकारी से संबंध रखता है।

याद रहे कि शनिवार को मानकोटिया ने पत्रकार वार्ता कर पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह (Virbhadra Singh) के संदर्भ में कई बाते कहीं। उसके बाद आज दिन में महिला ब्लॉक कांग्रेस धर्मशाला (Dharmshala Mahila Block Congress) ने अपनी कड़ी प्रतिक्रिया जताते हुए मानकोटिया को चूडियां भेजने की बात कही थी। उसके साथ ही वीरभद्र सिंह के विधायक पुत्र विक्रमादित्य सिंह ने मानकोटिया को मानसिक रोगी करार देते हुए उन्हें सलाह दी है कि समय रहते उन्हें किसी अस्पताल में अपना ईलाज करवा लेना चाहिए। इसके बाद शाम होने से पहले ही मानकोटिया ने उस पर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है