Expand

क्या है भगवान शिव का पंचाक्षर व षडक्षर ॐ नमः शिवायः मन्त्र का अर्थ और लाभ

क्या है भगवान शिव का पंचाक्षर व षडक्षर ॐ नमः शिवायः मन्त्र का अर्थ और लाभ

संसार में पंचाक्षर मन्त्र को मुख्य माना गया है। जिस प्रकार सभी देवताओं में देवाधिदेव महादेव सर्वश्रेष्ठ है, उसी प्रकार भगवान शिव का पंचाक्षर मन्त्र ‘नमः शिवाय’भी श्रेष्ठ है। इसी मन्त्र के आदि में प्रणव अर्थात ॐ लगा देने पर यह षडक्षर मन्त्र ‘ॐ नम: शिवाय’हो जाता है। वेद अथवा शिवागम में षडक्षर मन्त्र स्थित है; किन्तु संसार में पंचाक्षर मन्त्र को मुख्य माना गया है।

स्कंद पुराण में कहा गया है –

किं तस्य बहुभिर्मन्त्रै: किं तीर्थै: किं तपोऽध्वरै:।
यस्यो नम: शिवायेति मन्त्रो हृदयगोचर:।।

अर्थात्–‘जिसके हृदय में ‘ॐ नम: शिवाय’ मन्त्र निवास करता है, उसके लिए बहुत-से मन्त्र, तीर्थ, तप और यज्ञों की क्या आवश्यकता है!’

कहां से हुई पंचाक्षर मन्त्र की उत्पत्ति : संसार बंधन में बंधे हुए मनुष्यों के हित की कामना से स्वयं भगवान शिव ने ‘ॐ नम: शिवाय’ इस आदि मन्त्र का प्रतिपादन किया। इसे ‘पंचाक्षरी विद्या’ भी कहते हैं। भगवान शिव का कथन है–यह सबसे पहले मेरे मुख से निकला; इसलिए यह मेरे ही स्वरूप का प्रतिपादन करने वाला है। पंचाक्षर तथा षडक्षर मन्त्र में वाच्य-वाचक भाव के द्वारा शिव स्थित हैं, शिव वाच्य हैं और मन्त्र वाचक। यह पंचाक्षर व षडक्षर मन्त्र शिववाक्य होने से सिद्ध है इसलिए मनुष्य को नित्य पंचाक्षर मन्त्र का जप करना चाहिए।

पंचाक्षर मन्त्र की महिमाः पंचाक्षर मन्त्र अल्पाक्षर एवं अति सूक्ष्म है किन्तु इसमें अनेक अर्थ भरे हैं। यह सबसे पहला मन्त्र है। यह मन्त्र भगवान शिव का हृदय–शिवस्वरूप, गूढ़ से भी गूढ़ और मोक्ष ज्ञान देने वाला है।

यह मन्त्र समस्त वेदों का सार है। यह अलौकिक मन्त्र मनुष्यों को आनन्द प्रदान करने वाला और मन को निर्मल करने वाला है।

पंचाक्षर मन्त्र मुक्तिप्रद–मोक्ष देने वाला है। यह शिव की आज्ञा से सिद्ध है। पंचाक्षर मन्त्र नाना प्रकार की सिद्धियों को देने वाला है। इस मन्त्र के जाप से साधक को लौकिक, पारलौकिक सुख, इच्छित फल एवं पुरुषार्थ की प्राप्ति हो जाती है।

यह मन्त्र मुख से उच्चारण करने योग्य, सम्पूर्ण प्रयोजनों को सिद्ध करने वाला व सभी विद्याओं का बीजस्वरूप है। यह मन्त्र सम्पूर्ण वेद, उपनिषद्, पुराण और शास्त्रों का आभूषण व समस्त पापों का नाश करने वाला है।

‘शिव’ यह दो अक्षरों का मन्त्र ही बड़े-बड़े पातकों का नाश करने में समर्थ है और उसमें नम: पद जोड़ दिया जाए, तब तो वह मोक्ष देने वाला हो जाता है।

पंचाक्षर मन्त्र के ऋषि वामदेव, छन्द पंक्ति व देवता शिव हैं। आसन लगाकर पूर्व या उत्तर की ओर मुख करके इस मन्त्र का जप करना चाहिए। रुद्राक्ष की माला से जप का अनन्तगुणा फल मिलता है। स्त्री, शूद्र आदि सभी इस मन्त्र का जप कर सकते हैं। इस मन्त्र के लिए दीक्षा, होम, संस्कार, तर्पण और गुरुमुख से उपदेश की आवश्यकता नहीं है। यह मन्त्र सदा पवित्र है, इसका जप करने से पहले भगवान शिव का इस प्रकार ध्यान करना चाहिए ….

ध्यायेन्नित्यं महेशं रजतगिरिनिभं चारुचन्द्रावतंसं,
रत्नाकल्पोज्ज्वलांगं परशुमृग वराभीतिहस्तं प्रसन्नम्।

पद्मासीनं समन्तात् स्तुतममरगणैर्व्याघ्रकृत्तिं वसानं
विश्वाद्यं विश्वबीजं निखिलभयहरं पंचवक्त्रं त्रिनेत्रम्।।

अर्थात- चांदी के पर्वत के समान जिनकी श्वेत कान्ति है, जो ललाट पर सुन्दर अर्धचन्द्र को आभूषण रूप में धारण करते हैं, रत्नमय अलंकारों से जिनका शरीर उज्जवल है, जिनके हाथों में परशु तथा मृग, वर और अभय मुद्राएं हैं, पद्म के आसन पर विराजमान हैं, देवतागण जिनके चारों ओर खड़े होकर स्तुति करते हैं, जो बाघ की खाल पहनते हैं, जो विश्व के आदि, जगत की उत्पत्ति के बीज और समस्त भयों को हरने वाले हैं, जिनके पांच मुख और तीन नेत्र हैं, उन महेश्वर का प्रतिदिन ध्यान करें।

ध्यान के बाद मन्त्र का जप करना चाहिए। लिंगपुराण में कहा गया हैं ‘जो बिना भोजन किए एकाग्रचित्त होकर आजीवन इस मन्त्र का नित्य एक हजार आठ बार जप करता है, वह परम गति को प्राप्त होता है’।

विभिन्न कामनाओं के लिए पंचाक्षर मन्त्र का प्रयोग :

  • विभिन्न कामनाओं के लिए गुरु से मन्त्रज्ञान प्राप्त करके नित्य इसका ससंकल्प जप करना चाहिए और पुरश्चरण भी करना चाहिए।
  • दीर्घायु चाहने वाला गंगा आदि पवित्र नदियों पर पंचाक्षर मन्त्र का एक लाख जप करें व दुर्वाकुरों, तिल व गिलोय का दस हजार हवन करे।
  • अकालमृत्यु भय को दूर करने के लिए शनिवार को पीपलवृक्ष का स्पर्श करके पंचाक्षर मन्त्र का जप करें।
  • चंद्रग्रहण और सूर्यग्रहण के समय जो एकाग्रचित्त होकर महादेव के समीप दस हजार जप करता है, उसकी सभी कामनाएं पूर्ण होती हैं।
  • विद्या और लक्ष्मी की प्राप्ति के लिए अंजलि में जल लेकर शिव का ध्यान करते हुए ग्यारह बार पंचाक्षर मन्त्र का जप करके उस जल से शिवजी का अभिषेक करना चाहिए।
  • एक सौ आठ बार पंचाक्षर मन्त्र का जप करके स्नान करने से सभी तीर्थों में स्नान का फल मिलता है।
  • प्रतिदिन एक सौ आठ बार पंचाक्षर मन्त्र का जप करके सूर्य के समक्ष जल पीने से सभी उदर रोगों का नाश हो जाता है।
  • भोजन से पूर्व ग्यारह बार पंचाक्षर मन्त्र के जप से भोजन भी अमृत के समान हो जाता है।
  • रोग शान्ति के लिए पंचाक्षर मंत्र का एक लाख जप करें और नित्य 108 आक की समिधा से हवन करें।

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Advertisement
Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Advertisement

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है