Covid-19 Update

2,18,693
मामले (हिमाचल)
2,13,338
मरीज ठीक हुए
3,656
मौत
33,697,581
मामले (भारत)
233,301,085
मामले (दुनिया)

स्तन कैंसर के प्रसार के पीछे तंत्र की हुई पहचान,पता चला क्यों बढ़ती हैं और फैलती हैं कोशिकाएं

स्तन ट्यूमर के ऊतकों में ईएसआरपी 1 अपग्रेडेशन के पीछे नियामक तंत्र की खोज की

स्तन कैंसर के प्रसार के पीछे तंत्र की हुई पहचान,पता चला क्यों बढ़ती हैं और फैलती हैं कोशिकाएं

- Advertisement -

भारतीय विज्ञान शिक्षा और अनुसंधान संस्थान (आईआईएसईआर) भोपाल के शोधकर्ताओं ने उस तंत्र (Mechanism) की खोज की है जिसके द्वारा स्तन कैंसर (Breast Cancer) कोशिकाएं बढ़ती हैं और फैलती हैं। यह निष्कर्ष भारत में स्तन कैंसर के लिए चिकित्सीय हस्तक्षेपों के डिजाइन में महत्वपूर्ण प्रभाव डालते हैं। यह 2020 में कैंसर से होने वाली मौतों का 11.1 प्रतिशत था, जो इस रोग को समझने और इलाज के लिए आक्रामक शोध की आवश्यकता को प्रेरित करता है। पीयर-रिव्यू जर्नल ओन्को जेनेसिस में प्रकाशित अध्ययन ने स्तन कैंसर में एक विशेष जीन, जिसे ईएसआरपी1 कहा जाता है, के नियमन का विश्लेषण किया। टीम ने पाया कि स्तन कैंसर के रोगियों के सामान्य और ट्यूमर के ऊतकों के बीच ईएसआरपी 1 जीन की अभिव्यक्ति में अंतर है। शोधकर्ताओं ने स्तन ट्यूमर के ऊतकों में ईएसआरपी 1 अपग्रेडेशन के पीछे नियामक तंत्र की खोज की।

यह भी पढ़ें: हिमाचल में समय रहते होगी कैंसर की पहचान, श्री बालाजी अस्पताल कांगड़ा में मिलेगी सुविधा

आईआईएसईआर भोपाल में जैविक विज्ञान विभाग (Department of Biological Sciences, IISER Bhopal) के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ संजीव शुक्ला ने कहा, “हमारा शोध, पहली बार, स्तन ट्यूमर ऊतक में ट्यूमर की प्रगति का समर्थन करने वाले एक प्रमुख जीन, ईएसआरपी 1 की उन्नत अभिव्यक्ति के पीछे का कारण दिखाता है।” उन्होंने कहा, “खोज का एक अन्य महत्वपूर्ण हिस्सा एक नोबेल एपीजेनेटिक नियामक तंत्र था जो हाइपोक्सिक ट्यूमर ऊतक में ईएसआरपी 1 डाउनरेगुलेशन को नियंत्रित करता है, जो कैंसर कोशिकाओं को आसपास के ऊतकों से बाहर निकलने और रक्त प्रवाह में प्रवेश करने में मदद कर सकता है।” टीम ने पाया कि ट्यूमर के ऊतकों में, ई 2 एफ 1 (E2F1) नामक एक ट्रांसक्रिप्शन कारक जो ईएसआरपी 1 (ESRP1) के ट्रांसक्रिप्शन को नियंत्रित करता है और अपग्रेड हो जाता है, जो इसकी अभिव्यक्ति को बढ़ाता है और अंतत: स्तन कैंसर कोशिकाओं की अत्यधिक वृद्धि की ओर जाता है।

 

शुक्ला ने सुझाव दिया, इस प्रकार, ई 2एफ 1 नॉर्मोक्सिक और साथ ही हाइपोक्सिक स्तन कैंसर कोशिकाओं के विकास को रोकने के लिए एक आणविक दवा लक्ष्य हो सकता है। उन्होंने कहा, “यह पता लगाना कि कैंसर कोशिकाओं में आवश्यक जीन की अभिव्यक्ति को बदलने के लिए इस तरह के बुद्धिमान नियामक तंत्र मौजूद हैं, जिसके परिणामस्वरूप कैंसर की प्रगति होती है, जो जटिल बीमारी की बेहतर समझ और बेहतर चिकित्सीय रणनीतियों की नींव रखती है।” इसके अलावा, टीम ने शरीर के अन्य हिस्सों या मेटास्टेसिस में फैले कैंसर के यांत्रिक पहलुओं को भी पाया। खराब रक्त परिसंचरण के कारण कैंसर के ट्यूमर कम ऑक्सीजन वाले क्षेत्रों का विकास करते हैं। यह ज्ञात है कि ऐसे ऑक्सीजन से वंचित क्षेत्र मेटास्टेसिस को भड़काते हैं।

यह भी पढ़ें: एक दिन में सिर्फ 17 मिनट तक स्मार्टफोन चलाने से हो सकता है कैंसर !

टीम ने दिखाया कि ऐसा इसलिए है क्योंकि ई 2 एफ 1 ईएसआरपी 1 प्रमोटर को ऑक्सीजन से वंचित स्तन कैंसर कोशिकाओं में बांधने में विफल रहता है, जिससे ईएसआरपी 1 की अभिव्यक्ति कम हो जाती है। शोधकर्ताओं ने समझाया कि यह डाउनरेगुलेशन कैंसर कोशिकाओं को प्राथमिक कैंसर से मुक्त करने और रक्त प्रवाह में शामिल होने के लिए शरीर के अन्य भागों में ले जाने का कारण बनता है, जिसके परिणामस्वरूप मेटास्टेसिस होता है। शुक्ला ने कहा, “हमारे शोध से पता चलता है कि ट्यूमर माइक्रो एनवायरनमेंट के आधार पर स्तन कैंसर में ईएसआरपी 1 की सक्रियता है।”

हिमाचल और देश-दुनिया के ताजा अपडेट के लिए like करे हिमाचल अभी अभी का facebook page

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है