×

यूपी@ कभी बेचते थे मीट अब चाय बेचने को मजबूर

यूपी@ कभी बेचते थे मीट अब चाय बेचने को मजबूर

- Advertisement -

meet sellers forsed sell tea: मुजफ्फरनगर। यूपी में अवैध बूचडखानों के बंद होने के बाद अब बेरोजगार हुए मीट कारोबारियों ने दूसरे काम शुरू कर दिए हैं। राज्य में सरकार के बदलते ही कानून भी सख्ती से लागू हुए। बीजेपी सरकार बनने से पहले मुजफ्फरनगर में जो लोग मीट का कारोबार करते थे, आज चाय और परचून की दुकान चलाने लगे हैं। मीट कारोबारियों कहना है कि परिवार चलाने के लिए कुछ तो करना पड़ेगा। वहीं मुजफ्फरनगर के नजाकत का कहना है कि उनकी मीट की दुकान को बंद करवा दिया गया क्योंकि उनके पास लाइसेंस नहीं था। इसी वजह से उन्हें चाय बेचने को मजबूर होना पड़ा। पूरे प्रदेश में योगी सरकार के इस फैसले से बड़ी संख्या में लोगों पर पड़ा है। 


meet sellers forsed sell tea: अवैध बूचडखानों के बंद होने पर रोजी की तलाश में मीट विक्रेता

मीट के कारोबार से जुड़े लोगों ने पैसे कमाने के अन्य जरिए तलाशने शुरू कर दिए हैं। वहीं मीट कबाब की जगह अब दाल के कबाब बेचे जा रहें हैं। शुरुआत में प्रदेश सरकार ने लोगों की सेहत और सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए अवैध बूचड़खानों को बंद करने के निर्देश जारी किए थे। इसके बाद बूचड़खानों के मालिक और मीट कारोबारी हड़ताल पर चले गए। बूचड़खानों के मालिक और रिटेलर निगम और पुलिस द्वारा डाले जा रहे छापों का भी विरोध कर रहे हैं। उनकी शिकायत है कि लाइसेंस होने के बाद भी छापे डाले जा रहे हैं।

लखनऊ में मीट विक्रेता हड़ताल में मछली विक्रेता भी शामिल

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है