Covid-19 Update

2,06,832
मामले (हिमाचल)
2,01,773
मरीज ठीक हुए
3,511
मौत
31,810,782
मामले (भारत)
201,005,476
मामले (दुनिया)
×

इस गांव में प्रवासी पक्षियों को माना जाता है बेटियां, खूब करते हैं देखभाल

इस गांव में प्रवासी पक्षियों को माना जाता है बेटियां, खूब करते हैं देखभाल

- Advertisement -

अपने आसपास पक्षियों को देख कर हमारा मन उन्मुक्त आकाश में उड़ने को करता है। कई लोग पक्षियों को दाना डालते हैं, उनके लिए आंगन या छत पर घोंसले बना कर रखते हैं। आपने प्रवासी पक्षियों (Migratory birds) के बारे में तो सुना होगा। एक तय समय के लिए ये पक्षी किसी इलाके में जाते हैं और फिर उड़ कर कहीं और चले जाते हैं। हमारे देश में एक गांव ऐसा भी है जहां पर ये पक्षी प्रजनन काल के लिए आते हैं। इस गांव के लोग इन पक्षियों के बेटियां मान कर इनकी खूब देखभाल (Care) भी करते हैं। इन गांववालों का मानना है कि जैसे बच्चे के जन्म के लिए बेटियां मायके आती है, ठीक वैसे ही पक्षी इस गांव में आते हैं। इन दिनों में भी इस गांव के लोग अपनी बेटियों की सेवा कर रहे हैं।


आप सोच रहे होंगे कि ये गांव है कहां, तो हम आप को बताते हैं कि यह गांव दक्षिण भारत में है। बेंगलुरु (Bengaluru) से करीब सवा सौ किमी दूर मांडया जिले में पड़ने वाले इस गांव का नाम है कोक्केरबेल्लुर। गांव में करीब दो हजार लोग रहते हैं और यहां पर हर साल पेंटेड स्टॉर्क और पेलिकन पक्षी बच्चे देने आते हैं। पेलिकन पक्षी अक्टूबर में यहां आए हैं और अप्रैल में लौट जाएंगे। इसी तरह पेंटेड स्टॉर्क भी दिसंबर से जुलाई तक यहां रहेंगे। इस दोरान इनके बच्चे उड़ना और भोजन जुटाना सीख जाएंगे। गांव के लोग घर की छतों पर घास बिछा देते हैं और पक्षी इस धान से घोंसला बनाते हैं। एक और खास बात यह है इन पक्षियों को इतना शुभ माना जाता है कि अगर कोई इस गांव में शादी कर रहा है तो वे यह देखते हैं उस घर में घोंसला है या नहीं। कोक्केरबेल्लुर, कर्नाटक का इकलौता कम्युनिटी रिजर्व है। जनवरी 2020 से इन पक्षियों की जीपीएस टैंगिंग होने जा रही है।

हिमाचल की ताजा अपडेट Live देखनें के लिए Subscribe करें आपका अपना हिमाचल अभी अभी YouTube Channel… 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है