Expand

गोबिंद सागर झील और स्वां नदी में विदेशी मेहमानों का डेरा, बढ़ी आमद

हजारों मील का सफर तय पहुंचे विदेशी मेहमान

गोबिंद सागर झील और स्वां नदी में विदेशी मेहमानों का डेरा, बढ़ी आमद

- Advertisement -

ऊना। जिला ऊना में स्थित गोबिंद सागर झील और स्वां नदी में इस दफा सैकड़ों प्रवासी पक्षी हजारों मील की दूरी तय कर पहुंचे हैं। इससे पहले गोबिंद सागर झील और स्वां नदी में इक्का दुक्का ही प्रवासी पक्षी बिचरने आते थे, लेकिन इस दफा सैकड़ों की तादाद में प्रवासी पक्षियों ने यहां पर डेरा डाला है। सबसे ऊंची उड़ान भरने वाला बार हेडेड गूज जहां गोबिंद सागर को गुलजार कर रहा है। वहीं, स्वां नदी ब्लैक विंग स्टीम्ड सहित अन्य प्रजाति के प्रवासी पक्षियों की आवाज से चहक उठी है। वहीं, वन विभाग विदेशी पक्षियों बारे लोगों को जागरूक करने के दावे कर रहा है।


गोबिंद सागर झील और स्वां नदी में पिछले कुछ वर्षों से प्रवासी पक्षी आ रहे हैं, लेकिन इनकी संख्या न के बराबर ही होती थी, लेकिन इस दफा सैकड़ों प्रवासी पक्षियों ने गोबिंद सागर झील और स्वां नदी को अपना पसंदीदा स्थल मानते हुए यहां पर डेरा डाला है। इन दोनों स्थानों पर प्रवासी पक्षियों की लगभग 10-12 प्रजातियां यहां देखने को मिल रही है। इनमें से गोबिंद सागर में सबसे ऊंची उड़ान भरने वाले बार हेडेड गूज की 200 से अधिक संख्या देखने को मिली है, जबकि स्वां नदी में ब्लैक विंग स्टीम्ड सहित अन्य प्रजातियों के प्रवासी पक्षी अठखेलियां करते देखे जा रहे हैं। वन विभाग की माने तो सभी कर्मियों को इन पक्षियों बारे लोगों को जागरूक करने के साथ-साथ पक्षियों की प्रजातियों और संख्या की जानकारी भी एकत्रित करने के निर्देश दिए गए हैं।

इससे पहले इन प्रवासी पक्षियों का मनपसंद स्थल पांग झील ही हुआ करता था, लेकिन इस दफा प्रवासी पक्षियों ने शांतमय गोबिंद सागर और स्वां नदी को भी अपने लिए बेहतर स्थल चुना है। गोबिंद सागर और स्वां नदी में इस समय बत्तखों और जलकाग की कई किस्मों जैसे रूड़ी शेलडक, बार हेडेड, मलार्डस प्रमुख तौर पर देखी जा सकती है। इसके इलावा यहां पर पक्षियों की भी कुछ दुर्लभ प्रजातिया देखने को मिलती हैं, जिनमें रेड नेक्ड ग्रेव और गुल्लुज शामिल हैं। डीएफओ यशुदीप की माने तो प्रवासी पक्षी अक्सर कम गहराई वाली झील और नदियों का ही चयन करते हैं।

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करे

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है