- Advertisement -

जानिए, क्यों अल्प संख्यक आयोग ने दिल्ली तलब किए डीसी कुल्लू और ईओ

पूर्व सैनिक के बेटे ने लगाया नगर परिषद कुल्लू पर प्लॉट गबन का आरोप

0

- Advertisement -

कुल्लू। पूर्व सैनिक हर चरण सिंह फौजी के परिवार को नगर परिषद कुल्लू द्वारा दुकान आबंटित नहीं करने के मामले में अल्प संख्यक आयोग ने डीसी कुल्लू और नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी (ईओ) को दिल्ली तलब किया है। डीसी और ईओ को अल्प संख्यक आयोग की ओर से जारी समन में 13 दिसंबर को दुकान आबंटन मामले में दस्तावेज सहित हाजिर होने को कहा गया है। 
पूर्व सैनिक हरचरण सिंह फौजी के बेटे परिबिंद्र सिंह पिछले 26 वर्षों से न्याय की गुहार लगाकर थकने के बाद अल्प संख्यक आयोग में इंसाफ की गुहार लगाई थी और जिला प्रशासन और नगर परिषद के उदासीन रवैये को लेकर शिकायत की थी, जिस पर अल्प संख्यक आयोग ने संज्ञान लेते हुए डीसी कुल्लू और ईओ को तलब किया है।

क्या है मामला

पूर्व सैनिक हरचरण सिंह फौजी के बेटे परिबिंद्र सिंह ने बताया कि 1964 में नगर परिषद कुल्लू से उनके पिता हरचरण सिंह फौजी ने खुली बोली में ढालपुर में दुकान के प्लॉट लीज पर खरीदा था और उसके बाद उस प्लाट पर उनके पिता ने अपने खर्चे से नीचे दुकान का निर्माण किया और दुकान के ऊपर अपने रहने के लिए मकान बनाया। उसके बाद 1992 में यहां भयानक आगजनी घटना हुई, जिसमें दुकान के साथ साथ मकान भी राख हो गया। उसके बाद 1994 में नगर परिषद कुल्लू ने स्वयं दुकानों का निर्माण किया, जिसमें प्लॉट नंबर 8 में बनने वाली दुकान उनको मिलनी चाहिए थी, लेकिन नगर परिषद ने उस दुकान को फौजी के परिवार को न देकर किसी दूसरे को दे दी। हालांकि यहां 1 से लेकर 9 तक के प्लॉट उन्हीं लोगों को बांटे गए, जिनकी पहले दुकानें भी और प्लाट नंबर 8 किसी और को दे दी और जिसमें नगर परिषद के अधिकारियों ने गड़बड़ की।
उन्होंने कहा कि पिता ने सेना में रहते देश सेवा की है, जिसमें उन्हें मेडल भी मिले हैं अब इन मेडलों को उपायुक्त कुल्लू को सौंपा जाएगा। सेनिक के परिवार को अगर इंसाफ नहीं मिलता है तो ये मेडल किस काम के?
हिमाचल और देश-दुनिया की ताजा अपडेट के लिए सब्सक्राइब करें हिमाचल अभी अभी न्यूज अलर्ट

- Advertisement -

Leave A Reply