Covid-19 Update

1,54,664
मामले (हिमाचल)
1,15,610
मरीज ठीक हुए
2219
मौत
24,372,907
मामले (भारत)
162,538,008
मामले (दुनिया)
×

मोदी कैबिनेट ने लगाई तोहफों की झड़ी, बनेंगे नए 75 मेडिकल कॉलेज, किसानों को सब्सिडी

मोदी कैबिनेट ने लगाई तोहफों की झड़ी, बनेंगे नए 75 मेडिकल कॉलेज, किसानों को सब्सिडी

- Advertisement -

श्रीनगर। केंद्र की मोदी सरकार (Central Government) की कैबिनेट की बैठक (cabinet meeting) हुई। इस बैठक में मोदी सरकार ने जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) में 24 हजार करोड़ के खर्च से 75 नए मेडिकल कॉलेज खोलने का ऐलान किया है। इसके अलावा इस बैठक में गन्ना किसानों को बड़ी सब्सिडी देने का भी ऐलान किया गया है। केंद्र सरकार ने 6 हजार 268 करोड़ रुपए की सब्सिडी को मंजूरी दी है। इसका लाभ किसानों के खाते में सीधे दिया जाएगा।



ये रहा मेडिकल कॉलेज का प्लान

कैबिनेट बैठक के बाद केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर और पीयूष गोयल ने मीटिंग में लिए गए फैसलों की जानकारी दी। जावडेकर ने बताया, ‘कैबिनेट मीटिंग में 24,000 करोड़ रुपये खर्च से 75 नए मेडिकल कॉलेज खोले जाने को मंजूरी दी गई। इससे 15,700 नई मेडिकल सीटें बनेंगी।



यह भी पढ़ें: पुलिस में जाने के इच्छुक छात्रों के लिए बनाएंगे नेशनल पुलिस यूनिवर्सिटी: शाह

जिन क्षेत्रों व जिलों में मेडिकल कॉलेज नहीं हैं, उन्हें प्राथमिकता दी जाएगी। पिछले 5 साल में मेडिकल पीजी और एमबीबीएस की 45 हजार सीटें बढ़ाई गई हैं। पिछले 5 साल में 82 मेडिकल कॉलेज मंजूर किए गए और अब अगले 3 साल में 75 नए मेडिकल कॉलेज खोले जाएंगे। दुनिया में मेडिकल एजुकेशन का ऐसा विस्तार कहीं नहीं हुआ है। ग्रामीण इलाकों में भी डॉक्टरों की उपलब्धता ज्यादा होगी।’


जानें गन्ना किसानों के लिए हुए क्या ऐलान

जावडेकर ने बताया, ‘गन्ना किसानों को 60 लाख मीट्रिक टन शक्कर निर्यात करने के लिए एक्सपोर्ट सब्सिडी देने का फैसला लिया गया है। 6,268 करोड़ रुपये की सब्सिडी दी जाएगी। यह राशि सीधे किसान के खाते में जाएगी। इससे लाखों गन्ना किसान लाभान्वित होंगे। गन्ना किसानों को अब नुकसान नहीं होगा।’ उन्होंने बताया कि देश में 162 लाख मीट्रिक टन शक्कर का सरप्लस स्टॉक है। इसमें से 40 लाख मीट्रिक टन बफर स्टॉक रखा गया है।


एफ़डीआई से जुड़े नियमों में भी किया उदारीकरण

वहीं दूसरी तरफ केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि कैबिनेट मीटिंग में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (FDI) से जड़े नियमों और प्रावधानों के उदारीकरण के लिए भी कई फैसले लिए गए। उन्होंने कहा, ‘2014 से 2019 के बीच 286 अरब डॉलर का रेकॉर्ड FDI भारत आया है। उसके पहले के 5 सालों में यह आंकड़ा 189 अरब डॉलर था। 2018-19 के अंतरिम आंकड़ों में 64 अरब डॉलर का FDI आया। FDI के उदारीकरण और लचीलेपन की दिशा में काम किया जा रहा है।’ गोयल ने कहा कि भारत को निवेश का आकर्षक केंद्र बनाने के लिए कैबिनेट मीटिंग में कुछ अहम फैसले लिए गए। कोल माइनिंग में 100 प्रतिशत FDI को मंजूरी दी गई है। भारत को मैन्यूफैक्चरिंग हब के तौर पर बनाने का मौका है। उन्होंने कहा कि कॉन्ट्रैक्ट मैन्यूफैक्चरिंग में 100 प्रतिशत FDI को मंजूरी दी गई है। इसके अलावा, उन्होंने बताया कि प्रिंट मीडिया की तरह ही अब डिजिटल मीडिया में भी 26 प्रतिशत FDI को मंजूरी दी गई है।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है