Covid-19 Update

1,98,551
मामले (हिमाचल)
1,90,377
मरीज ठीक हुए
3,375
मौत
29,505,835
मामले (भारत)
176,585,538
मामले (दुनिया)
×

कश्मीर मसले पर रूस में बोले मोदी- दोनों देश आतंरिक मामलों में बाहरी दखल के खिलाफ 

कश्मीर मसले पर रूस में बोले मोदी- दोनों देश आतंरिक मामलों में बाहरी दखल के खिलाफ 

- Advertisement -

 

नई दिल्ली। पीएम नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) अपनी तीन दिवसीय यात्रा पर रूस (Russia) दौरे पर हैं। यहां पीएम नरेंद्र मोदी ने रूस के राष्ट्रपति पुतिन के साथ एक प्रेस कॉन्फ्रेंस (Press Conference) करते हुए उन्होंने कश्मीर मसले पर भी बात की। उन्होंने कहा कि दोनों ही देशों को आतंरिक मामले में बाहरी दखल पसंद नहीं है। दोनों देशों के बीच रक्षा, व्यापार और परमाणु क्षेत्र में कई एग्रीमेंट हुए हैं।


 

यह भी पढ़ें- पीएम मोदी को मिलेगा रूस का सर्वोच्च नागरिक सम्मान, दर्जनों कारोबारी समझौते हुए

 

पीएम मोदी का रूस पहुंचने पर भव्य स्वागत हुआ। उन्हें एयरपोर्ट (Airport) पर गार्ड ऑफ ऑनर से सम्मानित किया गया। व्लादिवोस्तोक में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से पीएम मोदी ने मुलाकात की। अपनी तीन दिवसीय यात्रा के दौरान वह रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ क्षेत्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय विषयों चर्चा करेंगे। पीएम मोदी यहां भारत-रूस के 20वें सालाना शिखर सम्मेलन में भी भाग लेंगे। व्लादिवोस्तोक पहुंचने पर मोदी ने कहा -‘जहां 21वीं सदी में मानव विकास की नई गाथाएं लिखी जा रही हैं। ऐसे कर्मतीर्थ में आकर मुझे अपार खुशी हो रही है। मोदी कल रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ ईईएस में हिस्सा लेंगे। पुतिन ने मोदी को इस समिट में चीफ गेस्ट के तौर पर बुलाया है।

 

प्रेस कॉन्फ्रेंस में मोदी ने कहा- ‘पुतिन और मेरे बीच पहली मुलाकात 2003 में हुई थी। जब मैं गुजरात के सीएम के तौर पर प्रतिनिधिमंडल में आया था।  मैं तब नया था लेकिन उन्होंने तब मुझे बात का अहसास नहीं होने दिया। तभी से लेकर अभी तक हमने स्पेशल और प्रिवेलेज्ड स्ट्रैटजिक पार्टनरशिप से स्ट्रैटजिक हितों के अलावा, लोगों के विकास को भी जोड़ा है। उन्होंने कहा- रक्षा के क्षेत्र में रूसी उपकरणों के स्पेयर पार्ट्स भारत में बनाने का समझौता हुआ है। साल की शुरुआत में एके 203 का ज्वाइंट वेंचर समझौता को-मैन्युफैक्चरिंग को ठोस आधार दे रहा है। हमारे रिश्तों को हम राजधानियों के बार भारत के राज्यों और रूस के अन्य क्षेत्रों तक ले जा रहे हैं।

मोदी पुतिन के साथ ज्वेज्दा पोत निर्माण केंद्र भी देखने गए। मोदी और पुतिन के बीच ऊर्जा से जुड़े कई समझौते हो सकते हैं। व्लादिवोस्तोक में खनिज और ऊर्जा के बड़े भंडार मौजूद हैं। मोदी पुतिन से आर्कटिक जलमार्ग खोलने का आग्रह कर सकते हैं। अगर ऐसा होता है तो चेन्नई-व्लादिवोस्तोक जलमार्ग पर समझौते से भारत और रूस के बीच व्यापार को मजबूती मिलेगी।

 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है