Expand

11 साल बाद बाहर आया बाहुबली शहाबुद्दीन, 1300 गाड़ियों के काफिले के साथ हुआ रवाना

11 साल बाद बाहर आया बाहुबली शहाबुद्दीन, 1300 गाड़ियों के काफिले के साथ हुआ रवाना

- Advertisement -

बिहार के बाहुबली आरजेडी नेता मोहम्मद शहाबुद्दीन जेल से रिहा हो गए है। सीवान के चर्चित तेजाब कांड में हाई कोर्ट से जमानत मिलने के बाद शनिवार सुबह वह भागलपुर जेल से रिहा हुएए उन्हें कुछ दिनों पहले पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या के आरोपों में घिरने के बाद सीवान से भागलपुर जेल शिफ्ट किया गया था। जेल से रिहा होने के बाद शहाबुद्दीन 1300 गाड़ियों के काफिले के साथ सीवान रवाना हुए। शहाबुद्दीन के जेल से बाहर आने की खबर मिलते ही सीवान प्रशासन ने चौकसी बढ़ा दी है,जगह-जगह सुरक्षा बलों की तैनाती की गई है।

shabudin2शहाबुद्दीन के अपराध की कहानी 15 मार्च 2001 को लालू की पार्टी के एक नेता को गिरफ्तार करने आए पुलिस ऑफिसर संजीव कुमार को थप्पड़ मारने से शुरू हुई थी। इस घटना के बाद शहाबुद्दीन के समर्थकों और पुलिस के बीच काफी लंबी झड़प हुई। थप्पड़ मारने वाले शहाबुद्दीन के घर पुलिस ने छापेमारी की, इस दौरान शहाबुद्दीन के समर्थकों और पुलिस के बीच गई घंटों तक गोलीबारी हुई। इस घटना में 10 लोग मारे गए और पुलिस को खाली हाथ लौटना पड़ा, तभी से उन्हें एक बाहुबली के रूप में पहचाना जाने लगा।

shabudin3नीतीश कुमार पर निशाना साधा
जेल से बाहर आने के बाद शहाबुद्दीन ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा और कहा कि वे मेरे नेता नहीं हैं और वे बस परिस्थितियों के कारण मुख्यमंत्री हैं। शहाबुद्दीन ने लालू प्रसाद यादव को अपना नेता बताया, उन्होंने कहा, लालू यादव ही हमारे नेता हैं, मुझे उनकी ही छत्रछाया में रहना है। मैं अपनी छवि क्यों बदलूं मैं जैसा हूं 26 साल तक लोगों ने मुझे इसी रूप में स्वीकार किया है, सब जानते हैं कि मुझे फंसाया गया था। कोर्ट ने मुझे जेल भेजा और अब कोर्ट ने ही मुझे आजाद किया है।

2000 के दशक तक सीवान जिले में शहाबुद्दीन एक समानांतर सरकार चला रहे थे। उनकी एक अपनी अदालत थी, जहां लोगों के फैसले हुआ करते थे, वह खुद सीवान की जनता के पारिवारिक विवादों और भूमि विवादों का निपटारा करते थे। यहां तक के जिले के डॉक्टरों की परामर्श फीस भी वही तय किया करते थे। कई घरों के वैवाहिक विवाद भी वह अपने तरीके से निपटाते थे। वर्ष 2004 में लोकसभा चुनाव के दौरान उन्होंने कई जगह खास ऑपरेशन किए थे।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है