Expand

आनंद के बोलः सेना बीजेपी-आरएसएस से नहीं, राष्ट्र से जुड़ी

आनंद के बोलः सेना बीजेपी-आरएसएस से नहीं, राष्ट्र से जुड़ी

- Advertisement -

यशपाल शर्मा/शिमला। राज्यसभा में कांग्रेस के उपनेता आनंद शर्मा ने राष्ट्रीय सुरक्षा, बेरोजगारी, अर्थव्यवस्था, निर्यात और निवेश के मुद्दे पर पीएम नरेंद्र मोदी को लपेटते हुए केंद्र सरकार पर तीखा हमला बोला है।आनंद ने साफ़ शब्दों में कहा कि प्रधानमंत्री, प्रधान प्रचार मंत्री भी हैं। वे दोनों काम बखूबी करते हैं। इसमें बेजोड़ हैं। मोदी सरकार के समय भारतीय अर्थव्यवस्था सर्जिंग नहीं, संघर्षशील है। यूपीए सरकार के समय भारत की जीडीपी की विकास दर 6.9 फीसदी रही, जबकि मोदी सरकार के ढ़ाई साल के कार्यकाल में ये पांच फीसदी के आसपास आ गई है।

  • sukhu2प्रधान प्रचार मंत्री भी हैं प्रधानमंत्री
  • अर्थव्यवस्था, रोजगार, निर्यात व निवेश के मुद्दे पर बीजेपी सरकार फेल
  • भारतीय अर्थव्यवस्था सर्जिंग नहीं संघर्षशील

उन्होंने कहा कि यूपीए के समय ही भारत क़ुआर्ड रूपल अर्थव्यवस्था वाला देश बना। इस तथ्य को कोई नकार नहीं सकता कि मोदी सरकार में रोजगार टूटा है, सरकार की ये अपनी रिपोर्ट है कि पिछले पांच साल और खासकर बीते ढाई साल में बेरोजगारी बढ़ी है। शहरों और महिलाओं में बेरोजगारी सबसे अधिक है। देश में निर्यात गिरा है, निवेश टूटा है। कर्ज बढ़ा है। नए उद्योग नहीं लग रहे, जो पहले लगे हैं, उनकी एक तिहाई क्षमता का उपयोग ही नहीं हुआ। बीजेपी सरकार ने बीते बीस साल में उद्योग लगाने के लिए सबसे कम कर्ज दिया है। औद्योगिक ग्रोथ वास्तव में पहली बार नेगेटिव में गई है। पीएम अपनी बनाई दुनिया में रहते हैं, जोकि जमीनी हकीकत से बिलकुल अलग है।

sukhu1आनंद शर्मा ने सर्जिकल स्ट्राइक के बाद देश में सेना को लेकर बनाए गए माहौल पर भी पीएम नरेंद्र मोदी, रक्षा मंत्री मनोहर परिर्कर और उनकी कैबिनेट को आड़े हाथों लिया है।

  • शर्मा ने कहा कि सेना बीजेपी और आरएसएस से नहीं, बल्कि राष्ट्र से जुड़ी हुई है। उससे संबंध रखती है। रक्षा मंत्रालय को सेना को अत्याधुनिक हथियारों से सुसज्जित करना चाहिए। कांग्रेस से इस मुद्दे को संसद की स्थाई समिति के समक्ष भी उठाया है।

सीमा पर सीज फायर के उल्लंघन को लेकर कांग्रेस केंद्र सरकार को दोषी नहीं ठहराती, हम जिम्मेदार पार्टी हैं और बीजेपी की तरह आरोप नहीं लगाते। मोदी का बोला, हर बचन असत्य है, चाहे वह काले धन को वापस लाने का वादा हो या फिर हर भारतीय के बैंक खाते में 15-15 लाख डालने के साथ ही हर साल दो करोड़ रोजगार देने का।

sukhuआनंद ने कहा कि रक्षा मंत्री ने 30 साल बाद पीएम मोदी द्वारा सेना को उसके मनोबल का अहसास कराने की बात कहकर सेना के साथ क्रूर मजाक किया है। ये सेना का, सेना के साथ किया गया उपहास है। पहले भी सीमा पार से आतंकी हमलों का जवाब दिया जाता रहा है। लेकिन मोदी सरकार का ये कहना कि सेना सोई रही, पिटते रहे, मनोबल टूटा था, इससे बड़ा असत्य बचन कोई नहीं हो सकता।  अभी तक भी चिंता का विषय ये है कि चुनौती बरकरार है। विरोधियों और दुश्मनों के इरादे ठीक नहीं हैं।

पाकिस्तान को ये समझना होगा कि भारत के साथ निरंतर लड़ाई, उसके व साउथ एशिया के हित में नहीं है। बावजूद इसके खतरा बरकरार है। पीओके में सर्जिकल स्ट्राइक के बाद 37 बाद सीज फायर उल्लंघन हुआ है। इसलिए इन स्थितियों में पीएम का दायित्व देश को एक रखना बनता है। सर्जिकल स्ट्राइक चुनाव के लिए इस्तेमाल नहीं होनी चाहिए, चुनाव सरकार की परफॉर्मेन्स और राष्ट्रीय मुद्दों पर लड़े जाने चाहिए।

modi‘पहली बार’ से बाहर निकलें पीएम

शिमला। कांग्रेस सांसद आनंद शर्मा के राजधानी पहुंचने पर पीएम नरेंद्र मोदी सबसे अधिक निशाने पर रहे। उन्होंने मोदी के पहली बार शब्द को भी जुमला ही करार दिया। आनंद ने राज्य अतिथि गृह पीटर हॉफ में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि मोदी पहली बार की मानसिकता से बार निकलें। पीएम की मानसिकता स्वस्थ नहीं है। बीजेपी सरकार बनने के बाद मोदी जो भी कह व कर रहे हैं, उसे पहली बार हुआ ही बताते हैं। चाहे वह सेना की कार्रवाई हो, अंतरिक्ष पर सेटेलाइट भेजना या अर्थव्यवस्था में कोई बदलाव या फिर कोई अन्य बड़ी उपलब्धि। पहली बार ही देश के इतिहास में सब हो रहा है, ये कहना अनुचित है।

  • स्वस्थ नहीं प्रधानमंत्री की मानसिकता
  • ज्वलंत मुद्दों से ध्यान हटाने की कोशिश कर रही बीजेपी

बीजेपी सरकार गैर-जिम्मेदाराना काम कर रही है। राजनीतिक दलों में विभाजन कर और सेना की सर्जिकल स्ट्राइक जैसे मुद्दों को प्रचारित कर ज्वलंत मुद्दों से ध्यान हटाने का काम किया जा रहा है। सेना पूरे देश की है और सुरक्षा पूरे राष्ट्र की। पीएम को दलगत राजनीति से ऊपर उठकर बात करनी चाहिए। सर्जिकल स्ट्राइक के बाद देश में एक ऐसी तस्वीर पेश की जा रही है जो वास्तविकता से भिन्न है।

उनका पीएम नरेंद्र मोदी से आग्रह भी है और उन्हें संदेश भी देना चाहता हूं कि राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर संयम, गंभीरता और जिम्मेदारी के साथ वक्तव्य दें। चूंकि रक्षा मंत्री, मंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष असंयमित भाषा इस्तेमाल कर रहे हैं।

https://youtu.be/q3CiBpWz4Dw

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है