Covid-19 Update

1,98,877
मामले (हिमाचल)
1,91,041
मरीज ठीक हुए
3,382
मौत
29,548,012
मामले (भारत)
176,842,131
मामले (दुनिया)
×

उपचुनाव से पहले बीजेपी और कांग्रेस दिग्गजों के निशाने पर नगर निगम धर्मशाला

उपचुनाव से पहले बीजेपी और कांग्रेस दिग्गजों के निशाने पर नगर निगम धर्मशाला

- Advertisement -

धर्मशाला। उपचुनाव (BY-Election) से पहले दोनों प्रमुख राजनीतिक दलों ने धर्मशाला नगर निगम (MC) पर निशाना साधना शुरू कर दिया है। सांसद किशन कपूर व कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव एवं पूर्व मंत्री सुधीर शर्मा ने धर्मशाला नगर निगम को भ्रष्टाचार का अड्डा बताते हुए सरकार से इस मामले में विस्तृत जांच की मांग उठाई है। दोनों नेताओं का सीधा निशाना धर्मशाला निगम की कार्यप्रणाली पर है। जबकि वर्तमान में धर्मशाला नगर निगम के मेयर (Mayor) पद पर कांग्रेस समर्थित देवेंद्र जग्गी व डिप्टी मेयर (Deputy Mayor) पद पर बीजेपी (BJP) समर्थित ओंकार नैहरिया आसीन हैं।


यह भी पढ़ें: अवैध कब्जाधारियों पर फिर चलेगा प्रशासन का डंडा, नप इस दिन करेगी कार्रवाई


धर्मशाला नगर निगम में पिछले दिनों विजिलेंस vigilanceटीम द्वारा एक लाख रुपए की रिश्वत लेते पकडे़ गए जेई जोगिंद्र मामले में पहले वर्तमान सांसद किशन कपूर ने नगर निगम को भ्रष्टाचार का अड्डा बताते हुए सरकार से इस मामले में विस्तृत जांच कराने की मांग उठाई थी। किशन कपूर का निशाना सीधे तौर पर धर्मशाला नगर निगम के कांग्रेस के पार्षदों पर था। वर्तमान में 17 पार्षदों वाली धर्मशाला नगर निगम में 14 पार्षद कांग्रेस समर्थित हैं। ऐसे में किशन कपूर का आरोप था कि प्रदेश सरकार द्वारा धर्मशाला के विकास के लिए करोड़ों रुपए की योजनाएं स्वीकृत की गई थीं, लेकिन इन योजनाओं को मूर्तरूप नहीं दिया जा रहा है। धर्मशाला में विकास कार्य ठप हो गए हैं।

आम आदमी को छोटे-छोटे कार्यों के लिए निगम कार्यालय के कई माह तक चक्कर काटने पड़ रहे हैं। वहीं, कांग्रेस के राष्ट्रीय सचिव एवं पूर्व मंत्री सुधीर शर्मा ने नगर निगम पर आरोप लगाया कि निगम कर्मचारियों के हौसले इतने बुलंद हैं कि लोगों के काम पैसे लेकर होने लगे हैं। नगर निगम (MC) में जनप्रतिनिधि जनता की उम्मीदों पर खरा नहीं उतर पाए और न ही शहर में कोई बड़ा काम हो पाया है। सुधीर शर्मा का आरोप है कि नगर निगम में किसी बड़े नेता के इशारे पर रिश्वत का खेल चल रहा है। नगर निगम में बड़े ठेकेदार विकास कार्यों के ठेके ले रहे हैं।

चिंतनीय बात है कि ठेकेदार काम लेने के बाद खुद काम नहीं कर रहे बल्कि निगम काम लेकर सबलेट कर दे रहे हैं। इससे धर्मशाला में हो रहे विकास कार्यों की गुणवत्ता गिर गई है। सुधीर शर्मा ने आरोप लगाया कि सीएम बताएं कि नगर निगम में कमीशन और रिश्वतखोरी का खेल कैसे चल रहा है व नगर निगम में रिश्वतकांड की जांच के ढीले पड़ने के पीछे किसका हाथ है। धर्मशाला नगर निगम मेयर देवेंद्र जग्गी ने कहा कि धर्मशाला के चुने हुए जनप्रतिनिधि तो जनता की आकांक्षाओं पर खरे उतरने का प्रयास कर रहे हैं। लेकिन प्रदेश सरकार का कोई सहयोग नहीं मिल रहा है। तीन वर्ष पूर्व गठित धर्मशाला नगर निगम में आज दिन तक स्टाफ की नियुक्ति नहीं हो पाई है, जिसके चलते निगम के सभी विकास कार्य ठप पड़े हैं। यही कारण है कि धर्मशाला स्मार्ट सिटी की योजनाएं अधर में लटकी पड़ी हैं।

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें …. 

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है