Covid-19 Update

3,06, 269
मामले (हिमाचल)
2,98, 086
मरीज ठीक हुए
4161
मौत
44,190,697
मामले (भारत)
591,602,347
मामले (दुनिया)

तालिबान ने 21 साल बाद खोद निकाली मुल्ला उमर की कार, तस्वीर हो रही वायरल

अमेरिकी हमलों ने बचने के लिए कार गाड़कर भागा था मुल्ला उमर

तालिबान ने 21 साल बाद खोद निकाली मुल्ला उमर की कार, तस्वीर हो रही वायरल

- Advertisement -

तालिबान से एक बड़ी खबर सामने आई है। यहां तालिबान (Taliban) लड़ाकों ने तालिबान के संस्थापक मुल्ला उमर की 21 साल पुरानी कार को खोद निकाला है। लड़ाकों ने मुल्ला उमर (Mullah Omar) की कार को जाबुल प्रांत में एक जगह से खोदकर निकाला है। अब इसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही हैं।

ये भी पढ़ें-पंचायत का तालिबानी फरमान, मंदिर के लिए दान में नहीं दी जमीन तो कर दिया बहिष्कार

बता दें कि अमेरिका (America) में हुए 9/11 के हमलों के बाद अफगानिस्तान (Afghanistan) में भी हमले हुए थे। इन्हीं हमलों से बचने के लिए मुल्ला उमर गायब हो गया था और मुल्ला उमर ने अपनी काम को जमीन में गाड़ दिया था। अब पूरे 21 वर्षों बाद तालिबान लड़ाकों ने मुल्ला की कार को खोद निकाला है। जानकारी के अनुसार, मुल्ला उमर टोयोटा की इस कार से कंधास से जुबाल तक आया था और फिर खुद लापता हो गया था। कहा जाता है कि तालिबान के गठन के पीछे अमेरिका का ही हाथ था।
सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीर में आप देख सकते हैं कि दो दशकों के बाद भी ये कार (Car) पूरी तरह से सुरक्षित है। दरअसल, इस कार को इसे प्लास्टिक के कवर में बांधकर गाड़ा गया था। कार के फ्रंट के शीशे को थोड़ा नुकसान हुआ है। अब इस कार को अफगानिस्तान के नेशनल म्यूजियम में रखा जाएगा।
बता दें कि 1960 में कंधार में जन्मे मुल्ला उमर ने तालिबान का गठन किया था। 1980 के दशक में मुल्ला ने सोवियत के खिलाफ जंग का नेतृत्व किया था। इसी जंग के दौरान मुल्ला उमर ने गोली लगने के कारण अपनी दाईं आंख खो दी थी। जबकि, कुछ रिपोर्ट्स में दावा किया जाता है कि मुल्ला उमर ने अपनी जख्मी आंख को खुद ही निकाल लिया था। इसके बाद अफगानिस्तान से सोवियत के लौटने के बाद मुल्ला उमर कंधार में मौलवी के तौर पर काम करने लगा था। इस दौरान उसने एक संगठन बनाया था, जिसका नाम तालिबान रखा गया। 1996 में तालिबान ने अफगानिस्तान की सत्ता पर कब्जा कर लिया था। फिर 2001 में अमेरिकी हमले के बाद वे बेदखल हो गया और तमाम कमांडर भी मारे गए।
2013 में मुल्ला उमर की बीमारी के चलते मौत हो गई थी, लेकिन तालिबान ने ये जानकारी जुलाई 2015 में दी थी। वहीं, बीते साल ही अमेरिकी सेनाओं की वापसी के बाद तालिबान ने फिर से अफगानिस्तान की सत्ता पर कब्जा कर लिया है। अब वे पुराने कड़े नियमों को फिर से लागू करने में जुटा है। इन नियमों के तहत महिलाओं पर कई तरह की पाबंदियां लगाई जा रही हैं।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App


विशेष \ लाइफ मंत्रा


Himachal Abhi Abhi E-Paper



---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है