Expand

Murder के दोषी को उम्रकैद

Murder के दोषी को उम्रकैद

- Advertisement -

धर्मशाला। अदालत ने कत्ल के आरोप में दोषी करार देते हुए एक व्यक्ति को उम्रकैद की सजा सुनाई है। इसके साथ ही अदालत ने आरोपी को 50 हजार रुपए जुर्माना अदा करने का भी आदेश दिया है। मामले बारे जानकारी देते हुए उप जिला न्यायवादी संदीप अग्निहोत्री ने बताया कि धर्मशाला स्थित न्यायालय में अतिरिक्त एवं सेशन जज दो, शरद लगवाल ने विकास कुमार उर्फ विक्की निवासी गढ़ भंगवार तहसील व जिला कांगड़ा निवासी को पुन्नी लाल निवासी भंगवार के कत्ल करने पर यह सजा सुनाई।

  • 50 हजार जुर्माना भी लगाया

murder-logo-01अग्निहोत्री ने बताया कि 13/8/14 को रजनीश कुमार के ब्यान के अनुसार वह बाजार से काम निपटा कर वापिस आ रहा था और उसके आगे पुन्नी लाल चला हुआ था। उन्होंने बताया कि आरोपी विकास कुमार ने पीछे से पुन्नी लाल के सिर पर दराट से तीन बार हमला किया और उसके बाद फरार हो गया।

दराट से हुए हमले के कारण पुन्नी लाल की मौत हो गई, जिस पर पुलिस ने धारा 302 के तहत मामला दर्ज कर छानबीन शुरु कर दी। अग्निहोत्री ने बताया कि उक्त केस की जांच पुलिस थाना हरिपुर मे तैनात एसआई मनोहर लाल द्वारा की गई और मामले में 26 गवाह पेश किए गए। उन्होंने बताया कि अदालत ने सभी दलीलें सुनने के बाद आरोपी विकास कुमार को दोषी करार देते हुए उसे उम्रकैद की सजा सुनाई और साथ ही 50 हजार रुपए जुर्माना अदा करने के भी आदेश दिए।

Contempt Of Court पर एक साल कैद

court-newsधर्मशाला। अदालत के आदेशों की अवहेलना करने पर अदालत ने दोषी को एक साल साधारण कैद और एक हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई है। सरकार की और से मामले की पैरवी कर रही सहायक जिला न्यायवादी शिखा राणा ने बताया कि अदालत के आदेशों की अवहेलना पर दोषी पाए जाने वाले चमन प्रकाश निवासी गांव मझेहड़ा डाकघर कछहड़ा बैजनाथ को सीजेएम विवेक शर्मा की अदालत ने उक्त सजा सुनाई है।

  • उद्घोषित अपराधी को फरवरी 2016 को किया था गिरफ्तार
  • सम्मन, वारंट और इश्तिहारों के बाद भी नहीं हुआ था अदालत में पेश

police-2शिखा राणा ने बताया कि चमन प्रकाश के खिलाफ जेएमआईसी बैजनाथ में एक मामला चल रहा था। लेकिन, अदालत के बार बार आदेशों के बाद भी चमन प्रकाश अदालत में हाजिर नहीं हुआ। इस पर अदालत ने 10 जुलाई 2015 को चमन प्रकाश को उद्धघोषित अपराधी करार देते हुए उसे गिरफ्तार करने के आदेश पुलिस को दिए।

लम्बे समय तक वह गिरफ्तारी से बचता रहा । 11 फरवरी 2016 को पुलिस को गुप्त सूचना मिली की चमन प्रकाश घर में है, जिस पर पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया और अदालत में पेश किया। अदालत ने उसे धर्मशाला जेल में न्यायिक हिरासत में भेज दिया। मामले की सुनवाई सीजेएम की अदालत में चली जिसमें आज अदालत ने उक्त सजा सुनाई है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है