Covid-19 Update

2,05,017
मामले (हिमाचल)
2,00,571
मरीज ठीक हुए
3,497
मौत
31,341,507
मामले (भारत)
194,260,305
मामले (दुनिया)
×

विश्व संगीत दिवस : दर्द का अहसास कम करता है संगीत 

विश्व संगीत दिवस : दर्द का अहसास कम करता है संगीत 

- Advertisement -

संगीत मानव जगत को ईश्वर का एक अनुपम दैवीय वरदान है। यह न सरहदों में कैद होता है और न भाषा में बंधता है। प्रकृति के कण- कण में संगीत समाया हुआ है और मानव जीवन इस संगीत के बिना जैसे अधूरा सा है। हम उदास होते हैं तो संगीत सुनते हैं और खुश होते हैं तो संगीत सुनते हैं। लेकिन पसंद सभी की अपनी अपनी है। किसी तेज तो किसी को मध्यम संगीत पसंद होता है।


वैज्ञानिक शोध यह बताते हैं कि जब इंसान किसी तरह के दर्द से पीड़ित होता है तो उसे उसका मन पसंद संगीत सुनाया जाना चाहिए। जिससे उसका ध्यान दर्द से हट जाता है और उसे दर्द का एहसास कम होता है। जहां पर कई बार दवाएं काम नहीं करती हैं। वहां म्यूजिक थैरेपी काम करती है। इतना ही नहीं जिन लोगों की यादाश्त अच्छी नहीं होती है उनको संगीत सुनना चाहिए। संगीत के लिए एक खास दिन घोषित कर देना अपने आप में अभूतपूर्व था और इसकी शुरुआत एक ऐसे देश से हुई जो राग-रंग में पहले नंबर पर आता है। इसके लिए तय किया गया 21 जून, यानी विश्व संगीत दिवस। इसकी शुरुआत सन 1982 में फ्रांस में हुई थी जिसका श्रेय तात्कालिक सांस्कृतिक मंत्री जैक लो को जाता है। वैसे भी फ्रांस का हर दूसरा व्यक्ति संगीत से किसी-न-किसी रूप में जुड़ा हुआ है, चाहे वह गाता हो या कोई वाद्य ही बजाता हो।


फ्रांसीसियों की संगीत के प्रति दीवानगी की हद को देखते हुए इस दिन को आधिकारिक रूप से संगीत-दिवस की घोषणा कर दी गई । धीरे-धीरे अब …यह समूचे विश्व में मनाया जाने लगा है। फ्रांस में यह संगीतोत्सव न सिर्फ़ 21 जून को मनाया जाता है बल्कि कई शहरों में तो एक महीने दिन पहले से शुरू हो जाता है। म्यूज़िक-रिलीज़, सी डी लॉन्चिंग, कंसर्ट इत्यादि होते हैं । तीन दिन पहले से सारे सभागृह ही नहीं, बल्कि सड़कें तक आरक्षित हो जाती हैं। इस दिन फ्रांस में घर में कोई नहीं टिकता, हर फ्रांसीसी सड़क पर उतर आता है। वह कुछ-न-कुछ गाने, कोई-न-कोई वाद्य बजाने, थिरकने या सिर्फ़ सुनने के लिए ही बाहर निकल पड़ता है। बड़े-से-बड़ा कलाकार भी इस दिन बगैर पैसे लिए प्रदर्शन करता है। लोग सार्वजानिक-उपवनों में, नदियों के किनारे, चौराहों पर, गिरिजाघरों में, प्रसिद्ध इमारतों के सामने, पेड़ों के नीचे, खुले आकाश के तले संगीत में प्रदर्शनरत और आनंदरत रहते हैं।

सम्पूर्ण विश्व के फ्रांसीसी राजदूतावास भी सम्बंधित देशों में संगीत महोत्सव आयोजित करते हैं। इस दिन फ्रांसीसी सिर्फ मौज-मस्ती के लिए गाते-बजाते हैं। हर व्यक्ति संगीत में आकंठ डूबा नाचता-थिरकता पाया जाता है, कई बार तो यहां तक देखा जाता है कि किसी कोने में कोई अकेला ही किसी वाद्य-यंत्र को बजा रहा है, गुनगुना रहा है या अपनी ही मस्ती में नाच रहा है। विश्व संगीत दिवस कुल 110 देशों में ही मनाया जाता है (जर्मनी, इटली, मिस्र, सीरिया, मोरक्को, ऑस्ट्रेलिया, वियतनाम, कांगो, कैमरून, मॉरीशस, फिजी, कोलम्बिया, चिली, नेपाल, और जापान आदि)। विश्व संगीत दिवस का उद्देश्य लोगों को संगीत के प्रति जागरूक करना है ताकि लोगों का विश्वास संगीत से न उठे।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है