नाग पंचमी और सोमवार : 125 साल आ रहा ये शुभ योग, कई गुना बढ़ जाएगा पूजा का फल

इस बार नाग पंचमी पर बहुत ही दुर्लभ योग बन रहा है

नाग पंचमी और सोमवार : 125 साल आ रहा ये शुभ योग, कई गुना बढ़ जाएगा पूजा का फल

- Advertisement -

श्रावण मास की शुक्ल पक्ष पंचमी को नागपंचमी का त्योहार मनाया जाता है। इस वर्ष यह त्योहार सावन के तीसरे सोमवार यानी 5 अगस्त को है। खास बात यह कि इस बार नाग पंचमी (Nag panchami) पर बहुत ही दुर्लभ योग बन रहा है, जो कि पूरे 125 साल के बाद आएगा। वहीं, नाग पंचमी के दिन सोमवार होने से इस पर्व का फल कई गुना बढ़ जाएगा। इस संयोग से संजीवनी महायोग बनेगा। इस त्योहार की शुरुआत नाग चतुर्थी के बाद नाग पंचमी और नाग षष्ठी से होती है। देशभर में महिलाएं अपने बच्चों के जीवन में खुशियां लाने के जिए इस त्योहार (Festival) को मनाती हैं। ऐसा माना जाता है कि इस दिन नाग देवता की प्रार्थना करने से बच्चों को सुरक्षा मिलती है।


 

यह भी पढ़ें : नाग पंचमी : जानिए इस दिन क्यों की जाती है सांपों की पूजा

ये शुभ मुहूर्त :

इस दिन पूर्णा तिथि है, सोम का नक्षत्र हस्त भी विद्यमान है और सिद्धि योग के साथ-साथ वर्ष की श्रेष्ठ पंचमी यानी नाग पंचमी भी है। शुभ मुहूर्त की बात करें तो 4 अगस्त को पंचमी तिथि शाम 6.48 बजे शुरू होगी और 5 अगस्त दोपहर 2.52 बजे तक रहेगी। 5 अगस्त के दिन नाग पंचमी का शुभ मुहूर्त सुबह 5:49 से 8:28 के बीच पड़ रहा है।

 

यह त्योहार भारत के अलग-अलग हिस्सों में अलग-अलग नामों से मनाया जाता है जैसे पंजाब में, यह पश्चिमी भागों में गुगा नौवमी है, यह भारत के पूर्वी राज्यों में खेत्रपाल और मानसा है। लोग इस दिन उपवास (Fast) रखते हैं और मंदिरों में सांपों को दूध, चावल का हलवा और फूल चढ़ाते हैं। भारत के कुछ हिस्सों में, महिलाएं अपने भाइयों के साथ, सांप के काटने और अन्य संबंधित चीजों से बचाने के लिए एक विश्वास के साथ प्रार्थना करती हैं। दक्षिण भारत में, लोग इस दिन चांदी की थाली में कमल का फूल रखते हैं और चंदन का लेप लगाते हैं। कुमकुम के बाद थाली में चारों तरफ रंगोली और उसकी पूजा करें।

भारत में सांप अत्यधिक शुभ जीव है, जो भगवान विष्णु और भगवान शिव (Lord Shiva) से संबंधित हैं। वे भगवान विष्णु के लिए एक पवित्र आसन हैं और भगवान शिव के गले में सुशोभित हैं। हिंदू देवताओं के महत्वपूर्ण पहलुओं के रूप में, कई दशकों से सांपों की पूजा की जाती है। फलों और दूध के साथ उन्हें प्रार्थना करने से एक व्यक्ति को खुशी और शुभकामनाएं मिलती हैं। यह माना जाता है कि सांप पाताल लोक से हैं और उनमें से सबसे कम नाग लोक कहलाते हैं। उन्हें रचनात्मक बल का हिस्सा माना जाता है इसलिए परिवार के कल्याण के लिए उनका आशीर्वाद मांगा जाता है। इस शुभ दिन पर खेत की जुताई पूरी तरह से निषिद्ध है क्योंकि यह इन जीवों को किसी न किसी तरह से नुकसान पहुंचा सकता है।

इसे जुड़ी लोक कथा :

इस पर्व महाभारत (Mahabharat) के समय से मनाया जा रहा है, इससे जुड़ी लोक कथा राजा परीक्षित से संबंधित है जिसे सांपों के राजा “तक्षक” द्वारा काट लिया गया था और उसकी मृत्यु का कारण बना। इस घटना ने राजा के बेटे “जनमेजय” को झकझोर दिया जिन्होंने अपने पिता की मृत्यु का बदला लेने के लिए एक विशाल यज्ञ का आयोजन किया। यह “सरपा सात यज्ञ” था जिसने पृथ्वी के सभी सांपों को उस पवित्र आग में कूदने के लिए मजबूर किया। यह देखकर, राजा तक्षक सहायता लेने के लिए भगवान इंद्र के पास गए, लेकिन श्लोकों और मंत्रों की अपार शक्ति ने भगवान इंद्र और नाग राजा दोनों को यज्ञ की ओर खींच लिया। इस घटना ने पूरे ब्रह्मांड को हिला दिया क्योंकि भगवान इंद्र सभी के राजा थे। तब भगवान ब्रह्मा ने स्थिति को नियंत्रित करने के लिए मनसा देवी की मदद ली। मां मनसा देवी ने यज्ञ को रोकने के लिए अपनी पुत्री अस्तिका को जनमेजय के पास भेजा और वह श्रावण मास का पांचवा दिन था। उसी दिन से इसे नाग पंचमी के रूप में मनाया जाता है।

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

मौसम की मारः  824 सड़कें अभी भी बंद, एचआरटीसी को 452 करोड़ का घाटा

बीच मानसून सत्र कल हमीरपुर क्यों आ रहे सीएम जयराम ठाकुर- जानिए

कैबिनेट की बैठक खत्म, इन मुद्दों पर हुई चर्चा-यह लिए निर्णय

चुइंगम खाने से इंकार किया तो पत्नी को दिया तीन तलाक, मामला दर्ज

धारा 118 पर  राठौर बोले, प्रदेश को दूसरे राज्य के पूंजीपतियों के हाथों बिकने नहीं देंगे

पार्टी कार्यक्रम से नदारद रहने वाले "सुधीर" अभी धर्मशाला से कांग्रेस प्रत्याशी नहीं

हिमाचल में आई प्राकृतिक आपदाओं के लिए केंद्र ने मंजूर की अतिरिक्त सहायता राशि

मानसून सत्रः भाखड़ा बांध विस्थापितों को लेकर जयराम की बड़ी घोषणा

सदन में बोले जयरामः बरसात में हुईं 63 मौतें, 626 करोड़ का नुकसान-केंद्र से मांगेंगे मदद

सिंघा बोले- बारिश से तबाही आम आपदा नहीं, बल्कि राष्ट्रीय आपदा- केंद्र करे मदद

प्राइमरी स्कूल में 8 साल की छात्रा से जलवाहक ने की छेड़छाड़-गिरफ्तार

सीएम जयराम के PSO का FB अकाउंट हुआ हैक, डाली 'पाकिस्तान जिंदाबाद' वाली पोस्ट

हिमाचल: बाढ़ में फंसी मलयालम एक्ट्रेस, खाने के पड़ गए थे लाले-पढ़ें पूरी खबर

महेंद्र ठाकुर बोलेः विधायक होते पुलिस ने पीटा, जेल में डाला-क्या भूल गई कांग्रेस

मेजबान की मजबूरीः धर्मशाला में कांग्रेस के कार्यक्रम के बीच पढे़ं सुधीर शर्मा की पाती

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है