×

सोमवार को नाखून काटना होता है शुभ, जानिए क्या है वजह

सोमवार को नाखून काटना होता है शुभ, जानिए क्या है वजह

- Advertisement -

एक सप्ताह में सात दिन होते हैं और इन सातों दिनों का अपना अलग-अलग महत्व होता हैं। इन सातों दिनों से जुड़ी हुई हमारी कोई न कोई विशेष परंपरा (Special tradition) और मान्यताएं होती हैं। इनका उल्लेख हमारे ऋषि-मुनियों ने तो किया ही है साथ ही साथ इनकी चर्चा हमारे प्राचीन वेदों में तथा ज्योतिष शास्त्रों में भी की गई है। हिन्दू धर्मग्रंथों के अनुसार सप्ताह के प्रत्येक दिन को किसी न किसी विशेष ग्रह का प्रभाव पृथ्वी पर पड़ता हैं, जिसके अनुसार ही हमें विभिन्न कार्य करने चाहिए या नहीं करने चाहिए।


यह भी पढ़ें :-नाम के पहले अक्षर से जानिए अपने चाहने वालों का स्वभाव


उदाहरण के लिए गुरुवार को हमें कपड़े नहीं धोने चाहिए, नाखून नहीं काटने चाहिए तथा बालों को नहीं काटना चाहिए। आज के आधुनिक समय में लोग इन सब बातों को अंधविश्वास कहकर नकार देते हैं, तो वहीं हमारे बड़े-बुजुर्ग इन नियमों का पूरी निष्ठा से पालन करते हैं, जिनका हमें भी पालन करना चाहिए। हिन्दू धर्म (Hindu religion) द्वारा बनाई गई इन सारी परंपराओं का या रीती-रिवाजों का हमारे बड़े-बुजुर्ग पालन ऐसे ही नहीं करते बल्कि इन परंपराओं के तथा रीती-रिवाजों के पीछे एक सुनिश्चित वैज्ञानिक कारण होता है, जिसकी वजह से ही इस मान्यताओं का पालन पूरा समाज करता है। अक्सर हम अपने घर में या आपने आस-पड़ोस में रहने वाले लोगों से सुनते हैं कि हमें सप्ताह के तीन दिन मंगलवार, वीरवार तथा शनिवार को न ही नाख़ून काटने चाहिए और न ही बालों को काटना चहिये।

आधुनिक जीवन (modern life) व्यतीत करने वाले युवकों में प्रत्येक काम को क्यों करना चाहिए या क्यों नहीं करना चाहिए, इनके पीछे के तर्क को जानने की जिज्ञासा रहती है। अगर आप इस प्रश्न का जवाब जानना चाहते हैं कि सातों दिन में से किस दिन नाख़ून काटने चाहिए या नहीं काटने चाहिए तो वे इसकी जानकारी के लिए वे प्राचीन व प्रमाणिक पुस्तकों का अध्ययन कर सकते हैं। इसमें इनके पीछे के वैज्ञानिक कारणों के बारे में बहुत ही स्पष्टता से बताया गया है कि मंगलवार, वीरवर तथा शनिवार अर्थात सप्ताह के सात दिनों में से तीन दिनों को ग्रह नक्षत्रों की दशाएं ठीक नहीं होती तथा इन दिनों में अनंत ब्रह्माण्ड से आने वाली सूक्ष्म से सूक्ष्म किरणों का मानवीय मस्तिष्क पर बहुत ही संवेदनशील प्रभाव पड़ता है।

मानव शरीर की उंगलियों का आगे का हिस्सा तथा सिर बहुत ही संवेदनशील होता हैं जिनकी रक्षा हमारे कठोर नाख़ून व बाल करते हैं तथा ब्रह्माण्ड की सूक्ष्म किरणों का भी प्रभाव सबसे ज्यादा इन हिस्सों पर ही पड़ता हैं इसलिए हमारे बड़े-बुजुर्ग तथा हिन्दू धर्म में इन दिनों को बाल काटने की तथा नाखूनों को काटने की मनाही की गई है तथा इन्हें काटना पूरी तरह से अधार्मिक तथा निंदनीय बताया गया हैं। वहीं, सप्ताह के पहले दिन यानी सोमवार (Monday) को नाख़ून काटना शुभ बताया गया है जिसके पीछे भी एक विशेष वजह है।

ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार व हिन्दू धर्म के अनुसार सोमवार को नाखूनों को काटने से मनुष्य की आयु में सात वर्ष की वृद्धि होती हैं तथा ठीक इसके विपरीत शनिवार को नाख़ून काटने से मनुष्य की उम्र में से सात वर्ष घट जाते हैं। सोमवार को नाखूनों को काटना (Nail cutting) इसलिए भी शुभ होता हैं क्योंकि इस दिन ग्रह नक्षत्रों की दशाएं ठीक होती हैं तथा ब्रह्मांड से आने वाली सूक्ष्म किरणें बहुत ही शुभ होती हैं, जिनका प्रभाव हमारे शरीर पर पड़ता हैं और हमारी आयु में सात वर्ष की वृद्धि हो जाती है।

पंडित दयानंद शास्त्री, उज्जैन (म.प्र.) (ज्योतिष-वास्तु सलाहकार) 09669290067, 09039390067

हिमाचल अभी अभी Mobile App का नया वर्जन अपडेट करने के लिए इस link पर Click करें ….

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है