Covid-19 Update

2,00,282
मामले (हिमाचल)
1,93,850
मरीज ठीक हुए
3,423
मौत
29,881,965
मामले (भारत)
178,960,779
मामले (दुनिया)
×

स्पेसX कैप्सूल के जुड़ने के बाद ISS में NASA के अंतरिक्षयात्रियों ने किया प्रवेश

स्पेसX कैप्सूल के जुड़ने के बाद ISS में NASA के अंतरिक्षयात्रियों ने किया प्रवेश

- Advertisement -

नई दिल्ली। नासा (NASA) के अंतरिक्षयात्री बॉब बेनकेन और डग हर्ली ने भारतीय समयानुसार रविवार रात 10:32 बजे इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (आईएसएस) में प्रवेश कर लिया। इससे चंद घंटे पहले उन्हें लेकर गया स्पेसX क्रू ड्रैगन (SpaceX Crew Dragon) सफतलापूर्वक आईएसएस से जुड़ा था।

गौरतलब है कि मानव इतिहास में पहली बार नासा के अंतरिक्षयात्रियों ने एक निजी स्पेसक्राफ्ट के ज़रिए आईएसएस में प्रवेश किया है। शनिवार को अमेरिका की प्राइवेट कंपनी स्पेसएक्स ने नासा के साथ मिलकर अपना पहला मानव मिशन लॉन्च किया था।

इसरो ने नासा और स्पेसX को दी स्पेस मिशन के लिए बधाई

वहीं यह उपलब्धि हासिल करने पर इसरो (ISRO) ने नासा और स्पेसX को बधाई देते हुए लिखा, ‘2011 के बाद पहले ऐतिहासिक मानवयुक्त मिशन के लिए आप दोनों को बधाई, शानदार काम।’ गौरतलब है कि मानव इतिहास में पहली बार नासा के अंतरिक्षयात्री एक कमर्शियल स्पेसक्राफ्ट के ज़रिए इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन पहुंचे हैं।

यह भी पढ़ें: धोनी के Retirement की ख़बरों पर आया साक्षी का रिएक्शन

वहीं, भारत भी अपने मानवयुक्त मिशन ‘गगनयान’ की तैयारी कर रहा है। बता दें कि नासा के दोनों एस्ट्रोनॉट स्पेसएक्स के खास क्रू ड्रैगन स्पेसक्राफ्ट में यात्रा करके ISS पहुंचे। एस्ट्रोनॉट्स अब करीब 110 दिनों तक ISS में रहेंगे और फिर वापस धरती पर लौटेंगे।

इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन की 19 घंटे की यात्रा में 7 घंटे की नींद ली

वहीं नासा के अंतरिक्षयात्री बॉब बेनकेन से जब पूछा गया कि इंटरनैशनल स्पेस स्टेशन तक 19 घंटे की यात्रा के दौरान वह सो पाए तो उन्होंने कहा कि उन्हें करीब सात घंटे सोने का मौका मिला। उन्होंने कहा, ‘मैं नींद लेने में कामयाब रहा, पहली रात हमेशा चुनौती होती है लेकिन स्पेसX का ड्रैगन एक कुशल यान था। हमारा एयरफ्लो अच्छा था।’ वहीं डग हर्ली ने लाइव वेबकास्ट के दौरान बताया कि क्रू ड्रैगन स्पेसक्राफ्ट की उड़ान काफी अच्छी और उम्मीदों के मुताबिक ही रही। बता दें कि ISS धरती से करीब 402 किलोमीटर ऊपर ऑरबिट में चक्कर लगाता है। इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन ऑरबिट में 28163 km/h की रफ्तार से चक्कर लगाता है।

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper


विशेष




सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है