Covid-19 Update

3744
मामले (हिमाचल)
2402
मरीज ठीक हुए
17
मौत
24,11,547
मामले (भारत)
20,850,291
मामले (दुनिया)

Madhya Pradesh के इस गांव में एक साथ दिखे सांप के 100 बच्चे, गांव वालों ने पतीले में रखकर की पूजा

सावन के महीने में सांप को देखना माना जाता है शुभ

Madhya Pradesh के इस गांव में एक साथ दिखे सांप के 100 बच्चे, गांव वालों ने पतीले में रखकर की पूजा

- Advertisement -

भोपाल। सावन के महीने में बिलों में पानी भर जाता है और सांप सुरक्षित स्थानों की तलाश में लोगों के घरों में घुसने लगते हैं, लेकिन मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के बैतूल में एक बिल से एक-दो नहीं बल्कि सांप के 100 से ज्यादा बच्चे निकले। इनको देखकर हर कोई हैरान रह गया। गांव वाले तो इसे चमत्कार मानकर पूजा करने लगे।


 

 

सांप को भगवान भोलेनाथ का गहना माना जाता है और सावन के महीने में भगवान शिव (Lord Shiva) की पूजा की जाती है, साथ ही सावन माह में सांप को देखना शुभ माना जाता है। बैतूल जिले के भीमपुर के चुनालोहमा गांव पंचायत के भुरूढाना गांव में आज तक एक साथ इतने सांप किसी ने नहीं देखे थे। गांव के किसान चिन्धु पाटनकर के घर के पास एक बिल से निकले इन सांपों को एक पतीले में रखा गया। इसके बाद ग्रामीण ने पूजा-पाठ शुरू कर दिया।

 

 

वन विभाग की टीम ने जंगल में छोड़े सांप के बच्चे

इस मामले की जानकारी म‍िलने पर वन विभाग की टीम (Forest Department Team) भोरूढाना गांव पहुंची। टीम ने इन सांप के बच्चों को जंगल में छोड़ दिया। ताप्ती रेंज के रेंजर विजय करण वर्मा का कहना है कि इस मामले की जांच की जाएगी। अगर वन्यप्राणी प्रताड़ना का मामला सामने आएगा तो दोषियों के खिलाफ एक्शन भी लिया जाएगा। ग्रामीणों का कहना है कि सावन ही एक ऐसा महीना है, जब सांपों को मारने की बजाय उनकी पूजा की जाती है। इस महीने में सांप को मारने की बजाय लोग उसे दूध और धान का लावा खिलाते हैं। ग्रामीणों की मान्यता है कि सांपों को दूध और धान खिलाने से वंश बढ़ता है और घर में सुख-समृद्धि आती है।

 

ये भी पढे़ं – मां तो आखिर मां है…..देखें कैसे सांप से अपने बच्चे को बचाने के लिए जान पर खेल गई गिलहरी

- Advertisement -

loading...
loading...
Facebook Join us on Facebook. Twitter Join us on Twitter Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Top : News

















सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है