राफेल पर CAG की रिपोर्ट में फिर हुई गलती, सरकार बोली: कुछ पन्ने तो रह गए

सुप्रीम कोर्ट ने अटॉर्नी जनरल को सही तर्क पेश करने को कहा

राफेल पर CAG की रिपोर्ट में फिर हुई गलती, सरकार बोली: कुछ पन्ने तो रह गए

- Advertisement -

नई दिल्ली। राफेल डील (Rafale Deal) पर सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में गुरुवार को हुई सुनवाई के दौरान अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने फिर एक गलती को कुबूल किया। उन्होंने कहा कि राफेल डील को लेकर सुप्रीम कोर्ट में पेश CAG अटॉर्नी जनरल की रिपोर्ट में कुछ पन्ने गलती से रह गए। यही नहीं, सरकार ने यह भी माना कि CAG को राफेल विमानों का दाम न बताने के लिए कहा गया था।

यह भी पढ़ें: सरकार का दावा: यशवंत, शौरी और प्रशांत भूषण ने राफेल डील के दस्तावेज चुराए

अटॉर्नी जनरल (AG) की इस दलील पर सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस (Chief Justice) रंजन गोगोई ने कहा कि आप दस्तावेज़ों के विशेषाधिकार की बात कर रहे हैं, लेकिन इसके लिए आपको सही तर्क पेश करने होंगे। आपको बता दें कि इससे पहले सरकार इसी कैग रिपोर्ट में गलती की बात कह चुकी थी, जिसके बाद ही इस पुनर्विचार याचिका को दाखिल किया गया था। पिछली CAG की रिपोर्ट के आधार पर ही मोदी सरकार को सुप्रीम कोर्ट से क्लीन चिट मिली थी।

यह भी पढ़ें: कांग्रेस का आरोप: राफेल डील में पीएम मोदी सीधे तौर पर शामिल, डील में किया हस्तक्षेप

सुप्रीम कोर्ट में हुई तीखी बहस
केंद्र सरकार की ओर से पेश अटॉर्नी जनरल ने कोर्ट को बताया कि CAG को राफेल विमानों के दाम बताने से इसलिए मना किया गया था, क्योंकि यह दो देशों के बीच का मामला है। इस पर याचिकाकर्ता और वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण (Prashant Bhushan) ने कहा कि मामले में भ्रष्टाचार हुआ है, इसलिए सरकार कोर्ट को दखल ना देने को कह रही है। प्रशांत भूषण ने कहा कि अगर चोरी हुई थी तो सरकार ने FIR दर्ज क्यों नहीं कराई थी। सरकार अपनी जरूरतों के अनुसार इन दस्तावेजों का खुलासा करती रही है।

यह भी पढ़ें: राफेल पर पलटी सरकार, कहा- दस्तावेज चोरी नहीं, लीक हुए हैं

हमने पेश नहीं किए दस्तावेज
सुप्रीम कोर्ट में अटॉर्नी जनरल ने RTI एक्ट का तर्क दिया और कहा कि सुरक्षा से जुड़ी जानकारी सार्वजनिक नहीं की जा सकती हैं। जिस पर जस्टिस केएम जोसेफ ने कहा कि जिन संस्थानों में ऐसा नियम है और अगर भ्रष्टाचार का आरोप है तो फिर जानकारी देनी ही पड़ती है। सुनवाई के दौरान जस्टिस एसे कौल ने अटॉर्नी जनरल से कहा कि आप अब दस्तावेज बदल रहे हैं और विशेषाधिकार की मांग कर रहे हैं। लेकिन आपने सबूत पेश किए हैं। इसके जवाब में अटॉर्नी जनरल ने कहा कि डॉक्यूमेंट्स दूसरी पार्टी ने पेश किए हैं, हमने नहीं।

हिमाचल अभी अभी की मोबाइल एप अपडेट करने के लिए यहां क्लिक करें

- Advertisement -

Facebook Join us on Facebook Twitter Join us on Twitter Google+ Join us on Google+ Instagram Join us on Instagram Youtube Join us on Youtube

RELATED NEWS

हिमाचल अभी अभी बुलेटिन

Download Himachal Abhi Abhi App Himachal Abhi Abhi IOS App Himachal Abhi Abhi Android App

राशिफल

टेक्नोलॉजी / गैजेट्स / ऑटो

Himachal Abhi Abhi E-Paper



सब्सक्राइब करें Himachal Abhi Abhi अलर्ट
Logo - Himachal Abhi Abhi

पाएं दिनभर की बड़ी ख़बरें अपने डेस्कटॉप पर

अभी नहीं ठीक है